Naidunia
    Saturday, September 23, 2017
    PreviousNext

    द्रोणांचल पर वीरता के अलंकरण से पहले छलकीं वीरांगनाओं की आंखें

    Published: Thu, 14 Sep 2017 01:52 PM (IST) | Updated: Thu, 14 Sep 2017 02:40 PM (IST)
    By: Editorial Team
    martyr wife bhopal 2017914 135548 14 09 2017

    भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। भारतीय सेना में अदम्य साहस के साथ विघटनकारी और अलगाववादी ताकतों को परास्त करने वाले 24 जांबाज वीरों को गुरुवार को भोपाल में पहली बार वीरता पदक प्रदान किए जाएंगे। इनमें से सात जांबाजों को वीरता के लिए मरणोपरांत सेना मेडल दिया जाएगा। देश की 19 यूनिटों को दक्षिणी सेना कमांडर्स यूनिट प्रशस्ति पत्र प्रदान किए जाएंगे।

    कार्यक्रम द्रोणांचल पहाड़ी पर सेना की दक्षिणी कमान की ओर से आयोजित किया गया है। जनरल ऑफिसर इन चीफ दक्षिणी कमान लेफ्टिनेंट जनरल पीएम हैरिज देशभर के कुल 63 सैन्यकर्मियों को उनकी वीरता और विशिष्ट सेवा के लिए अलंकृत करेंगे। कार्यक्रम के एक दिन पूर्व बुधवार को अवार्ड सेरेमनी की रिहर्सल की गई। वीरता अवार्ड की रिहर्सल में शहीद सैनिकों की वीर पत्नियों की आंखें छलक उठीं।

    मैं जम्मू में एलओसी पर तैनात था। आतंकवादी लाइन ऑफ कंट्रोल क्रास कर घुसपैठ की कोशिश में थे। हमने लांच पैड तबाह कर कोशिशें नाकाम कर दीं। युद्ध सेवा मेडल के लिए चयन होना गर्व की बात है। युवाओं को भी सेना में आना चाहिए। - कर्नल सुभंजन चटर्जी, बिहार रेजीमेंट, युद्ध सेवा मेडल के लिए चयनित

    शादी के 7 माह बाद ही छूटा साथ, फिर भी गर्व है

    हम श्रीनगर में साथ ही थे। शादी को सात माह हुए थे। 11 फरवरी 2015 को पति दर्दसुन इलाके में सैन्य खोजी अभियान पर गए, लेकिन वापस नहीं लौटे। उड़ान अनुभव का बेहतरीन इस्तेमाल कर खराब मौसम के बावजूद 10 से अधिक टीमों को अभियान तक पहुंचाया। खुद शहीद हो गए। उनकी शहादत पर गर्व है। भारतीय सेना का सपोर्ट है। आर्मी स्कूल हैदराबाद में रहते हुए मैं भी देश सेवा कर रही हूं। - नसीमा सुल्ताना खान, (पत्नी शहीद मेजर ताहिर हुसैन खान) सेना मेडल वीरता

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें