Naidunia
    Saturday, April 29, 2017
    PreviousNext

    कुख्यात डकैत एक भी नहीं, फिर भी पांच साल में 155 करोड़ खर्च

    Published: Mon, 20 Mar 2017 08:18 PM (IST) | Updated: Tue, 21 Mar 2017 08:04 AM (IST)
    By: Editorial Team
    dacoit 2017320 214724 20 03 2017

    भोपाल। प्रदेश में कोई कुख्यात (सूचीबद्ध) गिरोह सक्रिय नहीं है। केवल तीन असूचीबद्ध गिरोह सक्रिय हैं, बावजूद इसके पिछले पांच सालों में डकैती उन्मूलन पर 155 करोड़ रुपए की धनराशि खर्च हो गई है। यह जानकारी सोमवार को विस में गृहमंत्री भूपेन्द्र सिंह ने दी।

    डॉ.गोविंद सिंह के सवाल के लिखित जवाब में उन्होंने बताया कि प्रदेश में दस्यु समस्या पूरी तरह खत्म नहीं हुई है। क्षेत्रीय इनामी बदमाश कभी-कभी फरार होकर गैंग बना लेते हैं। अकेले ग्वालियर-चंबल संभाग में पिछले तीन सालों के दौरान पुलिस और डकैतों के बीच 25 बार भिड़ंत हुई।

    बावजूद इसके केवल 4 डकैत मारे गए। इन चार डकैतों में से भी तीन को कथित रूप से मुठभेड़ में मार गिराने के मामले की जांच जारी है। गृहमंत्री द्वारा दिए गए जवाब के अनुसार दस्यु प्रभावित ग्वालियर-चंबल संभाग के जिलों में 1303 प्रकरणों में एंटी डकैती अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है।

    उन्होंने बताया कि वर्तमान में प्रदेश में कोई भी सूचीबद्ध गिरोह सक्रिय नहीं है। केवल तीन असूचीबद्ध गिरोह सक्रिय हैं। इन तीन गिरोह में उपाई यादव निवासी सरजनपुर थाना कोलारस शिवपुरी पर 30 हजार का, बबली कोल निवासी सोसायटी कोलान थाना मारकुंडी जिला चित्रकूट उप्र पर मप्र द्वारा 30 हजार व उप्र सरकार द्वारा 50 हजार स्र्पए, गौरी यादव उर्फ उदयभान निवासी बिलहरी थाना बहिलपुरवा जिला चित्रकूट पर प्रदेश सरकार द्वारा 25 हजार व उप्र सरकार द्वारा 1 लाख स्र्पए का इनाम घोषित है।

    फर्जी मुठभेड़ एक भी नहीं, दो विचाराधीन

    गृहमंत्री ने पिछले तीन सालों में किसी भी डकैत को फर्जी मुठभेड़ में मारा जाना स्वीकार नहीं किया है। अलवत्ता अपने जवाब में यह जरूर स्वीकार किया है कि दो मामलों में प्रकरण न्यायालय में विचाराधीन है। मंत्री ने बताया है कि दो मामले चंंदन गड़रिया थाना भौंती जिला शिवपुरी मुठभेड़ व बालक दास ढीमर, दिनेश जाटव थाना सेवढ़ा जिला दतिया का प्रकरण न्यायालय में विचाराधीन है।

    डकैतों से निपटने का बजट 1.91 अरब, खर्च 1.55 अरब

    गृहमंत्री के जवाब में सबसे अधिक चौकाने वाली बात यह आई है कि पिछले पांच सालों में एंटी डकैती ऑपरेशन के लिए 1.91 अरब स्र्पए के बजट था। इस राशि में से 1.55 अरब स्र्पए खर्च किए गए। चालू वित्तीय वर्ष 2016-17 में ही 42.11 करोड़ स्र्पए के बजट में से 32.49 करोड़ स्र्पए खर्च किए जा चुके हैं।

    ग्वालियर में सबसे ज्यादा मामले

    गृहमंत्री द्वारा जवाब में दी गई जानकारी के अनुसार एंटी डकैती अधिनियम के तहत सर्वाधिक 468 मामले सिर्फ ग्वालियर जिले में दर्ज हुए हैं। मुरैना में 272, भिंड में 239, शिवुपरी में 191, दतिया में 105, श्योपुर में 28 लोगों पर डकैती अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। गुना व अशोक नगर में डकैती अधिनियम के तहत एक भी मामला दर्ज नहीं किया गया है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी