Naidunia
    Saturday, August 19, 2017
    PreviousNext

    मदद के बहाने ATM से निकाल लेता था रुपए, फिर बार डांसर पर उड़ाता

    Published: Tue, 25 Jul 2017 06:26 PM (IST) | Updated: Wed, 26 Jul 2017 11:58 AM (IST)
    By: Editorial Team
    atm 25 07 2017

    भोपाल।एटीएम के बाहर मदद के बहाने बुजुर्गों का एटीएम लेकर रुपए उड़ाने वाला मुंबई का बदमाश भोपाल पुलिस के हत्थे चढ़ गया। आरोपी एटीएम से रुपए निकालकर बार डांसर पर उड़ा देता था। महंगे होटल में रहना और महंगे मोबाइल फोन का शौक पूरा करने के लिए उसने रुपए जल्दी कमाने का यह रास्ता निकाला।

    भोपाल पुलिस ने आरोपी के पास से 17 बैंकों के अलग-अलग एटीएम कार्ड और 90 हजार रुपए नकद मिले हैं। यह खुलासा मंगलवार को एसपी साउथ सिद्धार्थ बहुगुणा ने किया।

    एसपी बहुगुणा के अनुसार मकान नंबर-64 25वीं वाहिनी भदभदा रोड निवासी बहादुर चंद (72) एसएएफ से रिटायर्ड हैं। वे सोमवार दोपहर टीटी नगर स्थित एसबीआई के एटीएम रुपए निकालने पहुंचे। इसी दौरान एक युवक ने उन्हें बताया कि यह एटीएम खराब है।

    वे सामने वाले पीएनबी के एटीएम से रुपए निकाल लें। आरोपी खुद उनका हाथ पकड़कर सड़क के दूसरी तरफ ले गया। बहादुर के एटीएम से रुपए निकालने के दौरान युवक उनके पीछे ही खड़ा रहा। आरोपी ने ही एटीएम कार्ड मशीन में लगाकर बहादुर को दे दिया था। एटीएम देते समय उसने एसबीआई जैसा देखने वाला दूसरा एटीएम कार्ड उन्हें दे दिया और उनका पासवर्ड चुपके से देख लिया।

    उसके बाद बहादुर 1 हजार रुपए निकालकर चले गए। बाद में उन्हें पता चला कि उनके खाते से 20 हजार रुपए निकाल लिए गए हैं। उन्होंने तत्काल इसकी सूचना टीटी नगर पुलिस को दी। पुलिस ने शिकायत मिलते ही आसपास के इलाकों में आरोपी की तलाश शुरू कर दी, तो एक संदिग्ध आईसीएच के पास खड़ा मिल गया।

    पुलिस ने हिरासत में लेकर उसकी तलाशी ली तो उसके पास से 90 हजार रुपए नकदी के अलावा 17 एटीएम कार्ड मिले। आरोपी ने बहादुर के रुपए निकालना भी कबूल कर लिया। उसकी पहचान मुंबई निवासी राजीव पिता हसमुख भाई भट्ट (29) के रूप में हुई। एएसपी धरमवीर सिंह ने बताया कि गुजरात और महाराष्ट्र पुलिस को आरोपी का पूरा रिकार्ड भेजा जाएगा।

    जून में छूटा है जमानत पर

    राजीव ने बताया कि वह मूलत: अहमदाबाद का रहने वाला है। दसवीं तक पढ़ाई करने के बाद उसने नौकरी शुरू कर दी थी। मुंबई आकर उसने कई जगह प्राइवेट नौकरी की। इस दौरान उसकी पहचान एक बार डांसर से हो गई। उसने बार डांसर का नंबर मोबाइल फोन माई वाइफ के नाम से सेव कर रखा है। उसे खुश रखने के लिए उसने एटीएम बदलकर रुपए निकालने का काम शुरू कर दिया।

    मुंबई के मीरा रोड से तीन लोगों से इसी तरह धोखाधड़ी कर रुपए निकाले। इस मामले में वह गिरफ्तार होकर जेल चला गया था। जून में उसके दोस्त ने उसे जमानत पर छुड़वा दिया। उसके बाद वह 22 जुलाई को भोपाल आ गया। उसने बहादुर के साथ पहली वारदात की। हालांकि पुलिस उससे अन्य वारदातों के बारे में पूछताछ कर रही है।

    महंगी होटल में रुकता था चोर

    राजीव पुलिस से बचने के लिए महंगे होटल जैसे सयाजी में रुकता था। उसने पुलिस को बताया कि वह आईडी बदलकर सयाजी में ही ठहरा हुआ था। टैक्सी से चलना और महंगे मोबाइल फोन का उपयोग करता था। कपड़े और जूते भी बड़ी कंपनी के ही पहनता था। जिससे पुलिसकर्मी उस पर हाथ डालने के पहले दस बार सोचे।

    ऐसे करता था वारदात

    आरोपी मदद करने के बहाने बजुर्ग लोगों को शिकार बनाता था। एटीएम खराब होने का कहकर दूसरे एटीएम ले जाता था। उनके हाथ से एटीएम लेकर खुद ही स्वाइप करता था। उसके बाद चुपके से पिन देख लेता था और नजर बचाकर दूसरा कार्ड दे देता था।

    इस तरह बचें

    -एटीएम से रुपए निकालने में किसी अनजान की न तो मदद लें और न ही एटीएम का उपयोग करते समय किसी को अंदर आने दें।

    -हमेशा एक हाथ की आड़ लगाकर ही दूसरे हाथ से की-पेड पर पावबर्ड डाले।

    -कार्ड पर या कहीं भी पासबर्ड लिखकर न रखें।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें