Naidunia
    Saturday, November 25, 2017
    PreviousNext

    वैज्ञानिक दृष्टिकोण विकसित करें विद्यार्थी

    Published: Thu, 14 Sep 2017 01:07 AM (IST) | Updated: Thu, 14 Sep 2017 01:07 AM (IST)
    By: Editorial Team
    13 sepch 07 14 09 2017

    वैज्ञानिक सोच विकास कार्यशाला आयोजित

    बड़ामलहरा। स्थानीय सरस्वती शिशु हाई स्कूल में विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान नई दिल्ली के मार्गदर्शन में प्रयोगात्मक गतिविधियों एवं व्याख्यानों पर आधारित वैज्ञानिक सोच का विकास विषय पर एक दिवसीय कार्यशाला आयोजित की गई। कार्यशाला के प्रथम सत्र में बतौर मुख्य अतिथि मौजूद व्याख्याता व स्थानीय मॉडल स्कूल के प्रभारी प्राचार्य संतोष गुप्ता ने अपने व्याख्यान में छात्रों को बताया कि आवश्यकता आविष्कार की जननी है। यही अभी तक की गई खोजों का आधार रहा है। हम करके सीखें। वैज्ञानिक दृष्टिकोण जानें और विकसित करें। इस सत्र की अध्यक्षता संस्था के व्यवस्थापक रमेश सोनी ने की। कार्यशाला के द्वितीय सत्र में व्याख्यानमाला में सरस्वती उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मापराजपुर के वरिष्ठ आचार्य एवं भारतीय केंद्रीय मंत्रालय संस्कृति के जिला संयोजक कालीचरण नामदेव ने बताया कि हमारे आसपास जो घटनाएं घटित होती हैं यही तो विज्ञान है। उन्होंने ध्वनि गमन के लिए हवा की आवश्यकता होती है विषय को विस्तार से बताया। कार्यशाला में नगर के अनेक विद्यालयों के कक्षा 6 से 10 तक के विद्यार्थियों ने भाग लिया। इस सत्र की अध्यक्षता जीतेंद्र सिंह परमार ने की तथा विशिष्ट अतिथि के तौर पर संस्था के प्राचार्य हरिराम तिवारी रहे। अंत में संस्था में प्रभावी शिक्षण कार्य का मार्गदर्शन कर रहे आचार्य सत्यपाल यादव तथा रजनीकांत पटेरिया को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का संचालन संचालन रजनी पटेरिया ने तथा आभार आचार्य रविंद्र तिवारी ने किया।

    नोट समाचार के साथ फोटो 07 का केप्सन है

    बड़ामलहरा। कार्यशाला को संबोधित करते विषय विशेषज्ञ।

    और जानें :  # chhaterpur news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें