Naidunia
    Saturday, November 25, 2017
    PreviousNext

    कुएं में उतराता मिला हॉस्टल से गायब मासूम का शव

    Published: Tue, 14 Nov 2017 07:52 AM (IST) | Updated: Tue, 14 Nov 2017 07:52 AM (IST)
    By: Editorial Team
    13 novch 08 14 11 2017

    लापता हॉस्टल संचालक का नहीं मिला सुराग, मृतक के पिता ने लगाए गंभीर आरोप

    छतरपुर। शहर के सिविल लाइन थाना क्षेत्र के अंतर्गत श्रीराम कालोनी में संचालित ब्रह्मानंद हॉस्टल से बीते रोज लापता हुए मासूम बच्चे का शव मोहल्ले के ही कुएं में उतराता पाया गया। पुलिस ने बच्चे के शव का पोस्टमार्टम कराने के उपरांत मासूम की मौत के कारणों की जांच पड़ताल शुरू कर दी है।

    छत्रसाल नगर के निकट स्थित श्रीराम कॉलोनी में संचालित ब्रह्मानंद हॉस्टल में रहकर कक्षा दो की पढ़ाई कर रहा छात्र राजेंद्र पुत्र दुर्गेश राजपूत निवासी कुड़ीला जिला टीकमगढ़ बीते रोज लापता हो गया था। उसके लापता होने के बाद से हॉस्टल संचालक राजकुमार पाल और ओमप्रकाश राजपूत भाग गए थे। पुलिस अभी मासूम और हॉस्टल संचालकों की तलाश कर ही रही थी कि सोमवार को श्रीराम कॉलोनी के कुएं में किसी बच्चे का शव उतराते पाये जाने की खबर से हड़कंप मच गया। देखते ही देखते मोहल्ले के लोगों की भारी भीड़ जमा हो गई। सूचना मिलने पर सिविल लाइन टीआई अरविंद कुजूर पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे और कुएं में से मासूम का शव निकलवाया तो उसकी शिनाख्त राजेंद्र राजपूत के रूप में की गई। पुलिस ने मौके पर जांच पड़ताल के बाद मासूम बच्चे का शव पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। मासूम मृत बच्चे के पिता ने हॉस्टल संचालक पर लापरवाही के आरोप लगाए हैं। यह हॉस्टल कॉलोनी में रहने वाले हरगोविंद तिवारी के मकान में किराए से चलता है, जिसमें कक्षा एक से दसवीं तक के बच्चे रहकर पढ़ाई कर रहे हैं। इस मामले में पुलिस ने सोमवार को पूरे दिन हॉस्टल में रहने वाले बच्चों और शिक्षकों से पूछतांछ की, अभी तक मासूम की अचानक हादसे में हुई मौत या हत्या के बारे में पुलिस किसी नतीजे पर नहीं पहुंची है।

    इनका कहना है

    'बच्चे का शव कुएं से निकलवाकर उसका पोस्टमार्टम कराया गया है। फिलहाल पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है। '

    अरविंद कुजूर

    थाना प्रभारी, सिविल लाइन क्षेत्र

    बाक्स में खबर

    जब हॉस्टल से निकला मासूम, तब सोते रहे संचालक

    ब्रह्मानंद हॉस्टल से मासूम के लापता होने और उसका शव कुएं में मिलने के मामले में हॉस्टल संचालक की गंभीर लापरवाही सामने आई है। रविवार की सुबह करीब 6 बजे मासूम राजेंद्र राजपूत अपने दो अन्य सहपाठियों के साथ हॉस्टल से बाहर लघुशंका के लिए निकला था, उसके दो साथी तो लघुशंका से निवृत्त होकर हॉस्टल में आ गए, लेकिन राजेंद्र हास्टल के अंदर नहीं आया। उसी समय यदि हॉस्टल संचालक हॉस्टल में आए दोनों बच्चों से राजेंद्र के न आने की जानकारी लेते तो शायद यह गंभीर हादसा नहीं होता लेकिन बच्चे हॉस्टल से अलसुबह निकले और अंदर भी आ गए, लेकिन हॉस्टल संचालक गहरी निद्रा में सोते रहे। अब जबकि यह गंभीर हादसा हो गया तो हॉस्टल की जिम्मेदारी संभाल रहे दोनों लोग खुद लापता हो गए हैं। पुलिस उन दोनों की सक्रियता से तलाश में जुटी हुई है।

    नोट समाचार के साथ फोटो 06, 07 एवं 08 का केप्सन है

    छतरपुर। कुएं के आसपास लगी मोहल्ले के लोगों की भीड़। 06

    छतरपुर। घटना स्थल की जांच करते सिविल लाइन टीआई। 07

    छतरपुर। मासूम राजेंद्र राजपूत। 08

    और जानें :  # chhaterpur news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें