Naidunia
    Sunday, September 24, 2017
    PreviousNext

    महिला के हत्यारों तक पहुंची पुलिस, खुलासा आज

    Published: Wed, 13 Sep 2017 09:40 PM (IST) | Updated: Wed, 13 Sep 2017 09:40 PM (IST)
    By: Editorial Team

    दमोह। नईदुनिया प्रतिनिधि

    पथरिया के रजवांस गांव में दिनदहाड़े हुई महिला की हत्या ने पूरे क्षेत्र को दहला दिया था। सूने घर में 19 वर्षीय महिला की हत्या ने पुलिस की कार्यशैली पर भी कई सवाल खड़े कर दिए थे, लेकिन सूत्रों के अनुसार महिला की हत्या के आरोपी पुलिस के हत्थे चढ़ गए हैं। आज पुलिस हत्या के आरोपी के साथ हत्या के कारणों का खुलासा कर सकती है।

    11 सितंबर की दोपहर रजनी अहिरवाल नामक महिला का शव उसके घर में पलंग पर पड़ा मिला था। ससुराल पक्ष की सूचना पर पुलिस घर पहुंची थी, लेकिन आरोपियों के बारे में कुछ भी पता नहीं चला था। महिला के पति रूपनारायण, उसके ससुर मुन्नू लाल ने पुलिस को बताया कि वह पेशी कर दोपहर करीब एक बजे जब घर लौटे थे। सभी घर के बाहर बैठ गए और बेटे से कहा कि वह उन्हें पानी लेकर आए। महिला का पति घर के भीतर आवाज लगाते हुए गया, लेकिन उसे उसकी पत्नी ने आवाज नहीं दी। उसने भीतर जाकर देखा तो खून से सनी उसकी पत्नी का शव पलंग पर पड़ा था, जिसके गले में कपड़े का फंदा और जमीन पर खून से सना हसिया पड़ा था। वह बाहर आया और अपने पिता को मामले की जानकारी दी और उसके बाद पुलिस को बुलाया गया। शाम को महिला के ससुर ने यह भी बताया कि घर में रखे लॉकर का ताला टूटा है और उसमें रखे करीब डेढ़ लाख रुपए के जेवर भी चोरी हो गए हैं।

    एसपी की छठी इंद्री ने किया कमाल

    घटना की सूचना मिलते ही एसपी विवेक अग्रवाल सीधे मौके पर पहुंचे। उन्होंने एफएसएल टीम, पथरिया टीआई, डॉग स्क्वाड से चर्चा की। घटना स्थल को बारीकी से देखा और उसके बाद उन्होंने पुलिस को एक लीड देकर उस पर काम करने के निर्देश दिए। एसपी श्री अग्रवाल ने घटना के कुछ घंटे बाद ही आरोपियों को लेकर अपना संदेह स्पष्ट कर दिया था। ऐसी खबर है कि जिन पर संदेह हुआ था मामले में वहीं आरोपी गिरफ्तार हुए हैं। पथरिया टीआई आरपी कुसमाकर का कहना है कि वह आरोपियों के करीब पहुंच चुके हैं।

    ऐसे प्रयास हों तो दूसरी हत्याओं के भी मिल सकते हैं आरोपी

    पुलिस यदि सक्रिय हो तो अपराधों में कमी आती है और यदि इस तरह के अपराध होते भी हैं तो आरोपियों को दबोचने में भी समय नहीं लगता, लेकिन इसके लिए ध्येय तय होना चाहिए। एसपी विवेक अग्रवाल के अल्प कार्यकाल में हत्या से जुड़ा यह दूसरा मामला होगा, जिसमें चंद दिनों में ही आरोपी पकड़े गए हैं। हालांकि अभी और भी हत्या के मामले में जिनमें आरोपी या तो फरार हैं या अज्ञात हैं। जिसमें एक मामला हाल में तेजगढ़ के हिनौती गांव में हुई हत्या के आरोपी है जो फरार हैं। इसके अलावा तात्कालीन एसपी तिलक सिंह के कार्यकाल में कुछ हत्याएं ऐसी हैं, जिनके आरोपी आज भी अज्ञात हैं। इनमें पथरिया के लखरौनी गांव में एक बुजुर्ग की हत्या के आरोपी अज्ञात है। शहर के 14 क्वार्टर के समीप व्यवसायी बबलू वेलकम के खाली मकान में वहीं के एक युवक का शव मिला था, जिसके आरोपी आज तक नहीं पकड़े गए। ग्वारी गांव के समीप एक सब्जी विक्रेता से नोट बंदी के समय चंद रुपए की मांग पर उसकी हत्या करने वाले आरोपी अभी तक नहीं मिले हैं। तेजगढ़ के इमलिया चौकी में एक युवक को जहर पिलाकर उससे रुपए की लूट के आरोपी भी अज्ञात हैं, जिसमें उसकी मौत हो गई थी। बटियागढ़ थाना के चेनपुरा गांव के समीप क्रिश्यिन कॉलोनी निवासी अमित डेनियल का शव मिला था, जिसमें अभी तक आरोपी ट्रेस नहीं हुए हैं। देहात थाना के मुड़िया पालर के समीप रायपुर गांव में एक व्यक्ति का शव खेत मार्ग पर मिला था, उसके पास कट्टा व कारतूस भी मिले थे, इसमें भी अभी तक आरोपी नहीं मिले और पुलिस यह भी तय नहीं कर पाई कि ये हत्या है या आत्महत्या। ये सभी घटनाएं लगभग इसी साल की हैं। इन मामलों में आरोपियों के न पकड़े जाने को लेकर पुलिस की कार्यशैली पर भी संदेह व्यक्त किया जाता रहा है।

    और जानें :  # Damoh news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें