Naidunia
    Monday, July 24, 2017
    PreviousNext

    खेत में नरवाई जलाने लगाई आग भड़की, बस्ती के 23 मकान चपेट में आए

    Published: Fri, 19 May 2017 11:39 PM (IST) | Updated: Fri, 19 May 2017 11:39 PM (IST)
    By: Editorial Team
    19my dph 4 19 05 2017

    शादी वाले घरों में पसरा मातम, अनाज, नगदी, कपड़े, समेत सब कुछ खाक

    फोटो 04 आग से मकानों में हुए नुकसान को देखते ग्रामीण

    सेंवढ़ा। नईदुनिया प्रतिनिधि

    सेंवढ़ा तहसील के ग्राम मरसेनी बुजुर्ग में शुक्रवार दोपहर 2 बजे भीषण आग लगने से गांव की हरिजन बस्ती में 23 मकानों में गृहस्थी का सामान जल गया। दो पशुओं की भी मौत हुई है। खेत में नरवाई जलाने के लिए लगाई गई आग हवा का रूख गांव की ओर होने से बस्ती तक जा पहुंची कुछ ही मिनटों में बस्ती के सभी कच्चे झोंपड़े आग की चपेट में आ गए। आगजनी की सूचना पाकर सेंवढ़ा एसडीएम अशोक सिंह चौहान सबसे पहले घटना स्थल पर पहुंचे और उन्होने सेंवढ़ा, इंदरगढ, आलमपुर, मौ, डबरा एवं दतिया से कुल 8 फायर ब्रिगेड बुलवाईं।

    आगजनी के 50 मिनट बाद दमकल की गाड़ियों का पहुंचना शुरू हुआ। लगभग एक घंटे तक दमकल गाड़ियों के साथ-साथ ग्रामीणों द्वारा किए गए प्रयास के बाद आग पर काबू पाया जा सका। दो घंटे तक धूधू कर जली बस्ती में गरीबों के न सिर्फ आशियाने जल कर खाक हो गए बल्कि वर्ष भर के लिए जुटाया गया अनाज एवं कपड़े आदि भी नष्ट हो गए। दो घरों में शादियों के लिए रखी रकम एवं अन्य सामान भी आग की भेंट चड़ गया। दो पशु आग से जल कर मौके पर ही मर गए। प्रशासन ने आगजनी में प्रभावित सभी परिवारों के खाने पीने एवं पशुओं के चारे के लिए वैकल्पिक तौर पर ग्रामीणों की मदद से व्यवस्था करवाई है।

    आने वाले एक सप्ताह तक उनके रूकने एवं खाने की व्यवस्था पंचायत एवं ग्रामीणों द्वारा की जाएगी। वहीं इस बीच आरबीसी के प्रावधानों के अनुसार पीड़ितों का अन्य सहायता भी उपलब्ध करवाई जाएगी।

    इस प्रकार फैली आग-

    गुरूवार शाम बस्ती से लगी कृषि भूमि में नरवार्ई जलाई गई थी। शुक्रवार दोपहर तक उसकी कुछ चिंगारी हवाओं के साथ बस्ती के सबसे पहले चंदन ंिसंह पुत्र धनिंसह जाटव के मकान में पहुंची। चंदन की झोपड़ी अचानक जलने लगी। चंदन अपने परिवार सहित घर से बाहर निकला और शोर के बाद पूरा मोहल्ला रास्ते पर आ गया। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार उस वक्त तेज गर्म हवाएं चल रहीं थीं जिनके कारण कुछ ही मिनटों में एक एक कर सभी झोंपड़े जलने लगे। गांव में लोगों के पास जितना पानी था उन्होंने फेंक दिया पर बिजली नहीं होने के कारण वह अतिरिक्त पानी की व्यवस्था नहीं कर सके। सूचना पाते ही सबसे पहले एसडीएम पहुंचे उन्होंने गांव की बिजली सप्लाई चालू करवाई और इसके बाद फायर ब्रिगेड के अलावा लोगों ने भी निजी बोर से पानी भर कर आग बुझाने का प्रयास किया। दमकल की 8 गाड़ियां एक साथ 23 झोपड़ों में लगी आग पर काबू पाने के लिए एक घंटे तक प्रयास करतीं रहीं। तब कहीं सफलता मिली। आग फैलने का कारण हवा के साथ साथ लोगों के घरों में रखे सूखे कंडे और छान छप्पर रहा।

    बॉक्स

    2 जून की शादी थी, आग में सब कुछ जल गया-

    गांव के नारायण पुत्र बटोली एवं सोवरन जाटव के घर 2 जून की शादी है। नारायण ंिसह के अनुसार उनके पास 2 लाख रुपए नगदी एवं जेवर रखे थे। सोवरन ंिसह के पास भी 70 हजार रुपए थे। अमर ंिसंह, अवध किशोर, जितेंद्र सिंह एवं गोविंद जाटव के मुताबिक उनके यहां भी 50-50 हजार रुपए लगभग रखे थे जो कि उन्होंने आवास योजना की किस्त के निकाले थे यह सब जल कर खाक हो गया। घर में महिलाओं के सामान्य जेवर मंगलसूत्र आदि भी जल गए। चंदन ंिसंह की गाय का बछड़ा एवं प्रमोद जाटव की भैस आग में जल कर मर गई। चुंकि मोहल्ले में रहने वाले सभी मजदूर एवं कृषक है। हाल ही में कटाई करके वर्ष भर के अनाज की व्यवस्था की थी लगभग 30 क्विंटल अनाज जल कर नष्ट हो गया। वहीं पशुओं का चारा, खोने पीने का सामन, सभी प्रकार के कपड़े, घर में रखी साइकिलें, टीवी आदि घरेलू पूरा सामान नष्ट हो गया। प्रभावित 100 से अधिक लोगों का रहने का आशियाना आग ने समाप्त कर दिया।

    यह लोग हुए प्रभावित-

    आगजनी में 23 परिवार प्रभावित हुए इनमें 18 परिवार जाटव जाति के तथा 5 यादव जाति के है। प्रभावितों में चंदन जाटव, कल्लू जाटव, प्रमोद जाटव, महिपाल जाटव, नारायण बटोली जाटव, हुकुम सिंह जाटव, सोवरन ंिसह, जितेंद्र जाटव, अन्नी जाटव, अवध किशोर जाटव, कल्लू जाटव, अमर ंिसह जाटव, मलखान जाटव, सीताराम जाटव, गोविंद प्रसाद जाटव, दीनदयाल जाटव, भूरे जाटव, पीतम ंिसह, सत्तेंद्र सिंह यादव, राजबीर ंिसह यादव, गुलाब ंिसह, प्रेमिंसह यादव, करन ंिसह यादव चंदन ंिसह यादव शामिल है।

    नरवाई जलाने वाले किसान पर होगी एफआईआर-

    एडीएम आशीष गुप्ता के मुताबिक आगजनी से करीब 20-22 घरों में नुकसान है। दो पशुओं की भी हानि हुई है, नुकसान का सर्वे कराया जा रहा है। एडीएम गुप्ता ने जिले के किसानों से अपील की है कि वह अपने खेतों में नरवाई न जलाएं। यदि किसान नरवाई जलाते हुए पाया जाता है या कोई हादसा होता है तो उसको जिम्मेदार ठहराते हुए कार्यवाही की जाएगी।

    इनका कहना है-

    खेत में नरवाई जलाने से अग्निकांड़ हुआ। नरवाई जलाने वाले किसान राजेन्द्र सिंह यादव के विरुद्घ एफआई आर दर्ज की जाएगी-

    अशोक सिंह चौहान, एसडीएम सेंवढ़ा

    और जानें :  # datia news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी