Naidunia
    Tuesday, May 30, 2017
    PreviousNext

    जाने के बाद गुणों का बखान करती हैं दुनिया

    Published: Fri, 17 Feb 2017 04:03 AM (IST) | Updated: Fri, 17 Feb 2017 04:03 AM (IST)
    By: Editorial Team

    -बिंजाना में भागवत कथा के दौरान पं. हर्ष शर्मा ने कहा

    देवास। ब्यूरो

    इस दुनिया ने ईश्वर अर्थात श्रीकृष्ण को भी सही नहीं माना, पूर्व में उनको माखनचोर कहा, बाद में मणि चोर। भगवान ने कई तरह की लीला इस धरती पर की थीं, किंतु शरीर छोड़ने के बाद व्यक्ति की मान्यता बढ़ती है। लोग व्यक्ति के जाने के बाद उसके गुणों का बखान करते हैं और जिंदा रहते समय उसके अवगुण बताते हैं।

    ये विचार ग्राम बिंजाना में चल रही संगीतमय श्रीमद भागवत सप्ताह ज्ञान गंगा यज्ञ में गुरुवार को कथावाचक पं. हर्ष शर्मा ने व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि जो होना है वह त्याग के बाद होना है। स्वयं के लिए शास्त्र सुनने से पहले कुछ त्याग कर दो, जीवन और मृत्यु के बीच अंतर होना चाहिए। तीर्थ स्थल पर जाना, पाठ-पूजा करना, भजन करना, मंदिर जाना ये सब भी त्याग की श्रेणी में हैं। त्याग की भावना सही होना चाहिए। त्याग की वृत्ति बनाओ जितना हो सके अच्छा करो।

    ईश्वर का द्वार न छोड़ें

    उन्होंने कहा कि ईश्वर का ना तो कभी द्वार छोड़ना चाहिए और न ही कभी सत्संग छोड़ना चाहिए। द्वार का महत्व मकान से अधिक होता है। यदि द्वार तक पहुंच गए तो मंदिर तक पहुंचा जा सकता है। ईश्वर में डूबे रहो, उसका द्वार कभी मत छोड़ो। एक हाथ माल का और दूसरा हाथ माला का होना चाहिए। व्यासपीठ की आरती आयोजक व पूर्व सरपंच बापूसिंह राठौड़, पार्षद सावित्री शर्मा, मोहनलाल शर्मा ने की। इस अवसर पर दातारसिंह, मनोहरसिंह, वृंदावन शर्मा, भगवान सिंह, लाखन सिंह, अनोपसिंह, भारत सिंह, दिलीपसिंह सहित बड़ी संख्या में श्रद्घालुओं ने उपस्थित होकर भागवत कथा का रसपान किया। जानकारी अनिलसिंह ठाकुर ने दी।

    प्रांत स्तरीय सामूहिक विवाह सम्मेलन 10 जून को

    देवास। शिव साधना सेवा संस्था के तत्वाधान में मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के अंतर्गत प्रांत स्तरीय सर्वजातीय निशुल्क सामूहिक विवाह सम्मेलन 10 जून को देवास में आयोजित किया जाएगा। इसमें संपूर्ण प्रदेश के विवाह योग्य युवक-युवती हिस्सा ले सकते हैं। जानकारी शिव साधना सेवा संस्था के सचिव डॉ. राजेन्द्र व्यास ने दी।

    शिवाजी महाराज की शौर्य गाथा (पोवाडा) की प्रस्तुति आज

    देवास। क्षत्रिय मराठा समाज पब्लिक ट्रस्ट द्वारा छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती एवं क्षत्रिय मराठा समाज के शताब्दी वर्ष समारोह पर विभिन्ना कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। इसके अंतर्गत 17 फरवरी को शाम 6 बजे मल्हार स्मृति मंदिर में शिवाजी महाराज की शौर्य गाथा (पोवाडा) में शाहिर देवानंद माळी (सांगली) एवं सह कलाकारों द्वारा प्रस्तुति दी जाएगी। मुख्य अतिथि मुक्ताजीराव काटे इंदौर रहेंगे। अध्यक्षता दिलीप बांगर करेंगे। मराठा समाज के अध्यक्ष नरेंद्र मोहिते, मुकेशचंद्र पवार, नरेंद्र पिसाल, प्रकाशचंद्र देशमुख आदि ने समाजजनों से कार्यक्रम में उपस्थित होकर सफल बनाने की अपील की है।

    भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा

    जिला स्तरीय पुरस्कार समारोह 19 को

    देवास। अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज हरिद्वार के तत्वावधान में आयोजित भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा का जिला एवं तहसील स्तरीय पुरस्कार तथा परीक्षा में सहयोगी शिक्षकों का सम्मान समारोह गायत्री शक्तिपीठ साकेत नगर में 19 फरवरी को सुबह 10.30 पर किया जाएगा। जनसंचार विभाग के विक्रमसिंह चौधरी एवं विकास चौहान ने बताया कि परीक्षा भारत के 14 राज्यों में आयोजित की गई। इसका उद्देश्य बच्चों को अपनी संस्कृति व सभ्यता की पहचान कराना है। परीक्षा के जिला संयोजक प्रमोद निहाले ने बताया कि समारोह में जिले की समस्त तहसील के परीक्षा प्रभारी, सहयोगी शिक्षक जिन्होंने परीक्षा में समयदान दिया तथा जिले के प्रमुख विद्यालयों के छात्र जो मेरिट लिस्ट में आए हैं, उनको सम्मानित किया जाएगा।

    और जानें :  # dewas # press note
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी