Naidunia
    Thursday, November 23, 2017
    PreviousNext

    बैल को माना परिवार का सदस्य, मौत पर दिया भोज

    Published: Tue, 12 Sep 2017 03:58 AM (IST) | Updated: Wed, 13 Sep 2017 09:14 PM (IST)
    By: Editorial Team
    bhandara f 2017912 175355 12 09 2017

    डबलचौकी। श्राद्धपक्ष में जब सभी जगह पितरों और पूर्वजों को याद कर तर्पण किए जा रहे हैं उसी समय डबलचौकी में एक किसान परिवार ने अपने घर के बैल का मृत्यु पर उसका अंतिम क्रियाकर्म अपने परिजन की तरह ही किया। पूजा-पाठ के अलावा परिवार ने मृत्यु भोज भी दिया।

    किसान परिवार ने श्राद्धपक्ष का समय होने का हवाला देते हुए ये कदम उठाया। ग्राम राजोदा के रहने वाले किसान माखनलाल पटवारी के यहां सालों से बैल था। जब इस बैल की मृत्यु हुई तो परिजनों ने उसे परिवार का सदस्य मानते हुए ही उसका अंतिम संस्कार किया।

    पटवारी के मुताबिक ये बैल 26 सालों से उनके घर में पल रहा था। इतने लम्बे समय तक साथ होने से बैल से सभी परिजनों को बहुत लगाव हो गया था। 31 अगस्त को बैल की मौत हो गई। पटवारी ने पूरे विधि-विधान से बैल का अंतिम संस्कार किया। उसके दसवें के दिन उज्जैन जाकर पंडितों से क्रियाकर्म रीति-रिवाज से करवाया। 11वें के दिन रविवार को मृत्युभोज का आयोजन भी किया जिसमें गांव के करीब एक हजार लोग शामिल हुए। बहरहाल पटवारी परिवार की इस पहल की चर्चा के साथ ही आसपास गांव तक सराहना हो रही है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें