Naidunia
    Friday, July 21, 2017
    PreviousNext

    'माता-पिता से कोई शिकायत है तो बचपन को याद कर लेना चाहिए'

    Published: Tue, 18 Jul 2017 03:59 AM (IST) | Updated: Tue, 18 Jul 2017 03:59 AM (IST)
    By: Editorial Team

    'माता-पिता से कोई शिकायत है तो बचपन को याद कर लेना चाहिए'

    -माता-पिता मेरे भगवान शिविर में मुनिश्री चंद्रयशजी ने कहा

    टांडा। नईदुनिया न्यूज

    करोड़ों की धन संपदा किसी काम की नहीं, यदि माता-पिता साथ नहीं है। माता-पिता से यदि कोई शिकायत है तो अपने बचपन को याद कर लेना चाहिए। मंदिर में अगर परमात्मा है, तो घर पर माता-पिता भगवान है। माता-पिता मात्र जन्मदाता ही नहीं है, वे अच्छे संस्कारदाता भी है। उन्होंने अपनी शक्ति, अपना समय, अपनी संपत्ति हमारा जीवन संवारने में समर्पित कर दी। उनका हम कभी अपमान नहीं करें।

    ये उद्गार मुनि चंद्रयशविजयजी ने सोमवार को श्री अजितनाथ राजेंद्र जैन आराधना भवन में माता-पिता मेरे भगवान शिविर में व्यक्त किए। उनके साथ मुनिराज वैराग्ययशविजयजी एवं साध्वी सौम्यरत्ना श्रीजी व तत्वश्रेयाश्रीजी चातुर्मास के लिए विराजित हैं। इनकी निश्रा में रोजाना धार्मिक क्रियाएं व सिद्धि तप की आराधना चल रही हैं। मनीष चौहान व अंतिम चौहान ने गीत के माध्यम से माता-पिता के प्रति आदर के उपदेश दिए। सत्यनारायण माहेश्वरी ने भी विचार रखे। शिविर के लाभार्थी राजेंद्र कुमार सुशील कुमार गोठी, हीरालाल मेहता मुंबई, मफतलाल मेहता भीनमाल, गिरीश भाई मुंबई का बहुमान गादिया परिवार की ओर से शांतिलाल गादिया ने किया। सिद्धि तप के तपस्यार्थियों की अनुमोदना की गई। गुरुदेव की आरती के साथ समापन हुआ।

    फोटो- 17 टांडा01, 02- टांडा में माता-पिता मेरे भगवान शिविर में उपदेश देते मुनि चंद्रयशविजयजी।

    17 टांडा03, 04 - शिविर में उपस्थित श्रद्धालु।

    ---------------------------------

    शाला प्रबंधन समिति का गठन

    बरमंडल। मावि में शाला प्रबंधन समिति का गठन किया गया। इसमें राधेश्याम मांगीलाल मारू अध्यक्ष, पार्वतीबाई राजेश मालवीय उपाध्यक्ष, रामचंद्र शर्मा सचिव, जनप्रतिनिधि में वार्ड 4 की पंच लक्ष्मीबाई भेरूलाल फूलफकीर को लिया गया। जानकारी संस्था के कैलाशचंद्र जामनिया ने दी। समीपी बरखेड़ा में शाला प्रबंधन समिति का अध्यक्ष रामचंद्र केशुराम गामड़, उपाध्यक्ष भगवतीबाई भेरूलाल कटारा व सचिव प्रधानाध्यापक बसंतीलाल मारू को नियुक्त किया गया।

    भागवत कथा की शुरुआत 20 से

    नागदा (धार)। सत्यवीर तेजाजी मंदिर में श्रीमद्भागवत कथा शुरुआत 20 जुलाई से होगी। सात दिन तक रोजाना दोपहर 12 से 3.30 बजे तक कथा का वाचन पं. वासुदेव शर्मा चंदेसरी (उज्जैन) वाले करेंगे। श्रीकृष्ण जन्मोत्सव, कृष्ण की बाल लीला, कंश वध, सुदामा-कृष्ण की मित्रता, रुक्मणी विवाह आदि प्रसंगों का वर्णन होगा।

    शिव पुराण की शुरुआत

    नागदा (धार)। चामला नदी तट स्थित प्राचीन नागेश्वर मंदिर में सोमवार से शिव पुराण की शुरुआत हुई। वाचन पं. पवनकुमार दुबे नागदा वाले कर रहे हैं। श्रावण मास की पूर्णिमा को कथा का समापन होगा। जानकारी समिति प्रमुख दरबारसिंह पटेल ने दी।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी