Naidunia
    Sunday, November 19, 2017
    PreviousNext

    जयकारों से गूंजे शिवालय, श्रद्धापूर्वक किया अभिषेक

    Published: Tue, 18 Jul 2017 03:59 AM (IST) | Updated: Tue, 18 Jul 2017 03:59 AM (IST)
    By: Editorial Team

    फर्स्ट लीड पैकेज

    श्रावण के दूसरे सोमवार निकली शंकर सवारी व कावड़ यात्राएं

    जयकारों से गूंजे शिवालय, श्रद्धापूर्वक किया अभिषेक

    राजगढ़। नईदुनिया न्यूज

    श्रावण के दूसरे सोमवार जिलेभर के शिवालयों में सुबह से ही श्रद्धालुओं की भीड़ रही। पांच धाम एक मुकाम माताजी मंदिर में श्रद्धालुओं ने हवन में आहुतियां दी। ज्योतिषाचार्य पुरुषोत्तम भारद्वाज ने मंत्रोच्चार किया। पुराना बस स्टैंड स्थित पीपलेश्वर महादेव मंदिर, सुभाष मार्ग स्थित शिव मंदिर, मानव सेवा हॉस्पिटल के पीछे स्थित गंगा महादेव व चारभुजा मंदिर, मालीपुरा स्थित शंकर मंदिर आदि स्थानों पर पूजन-अर्चन के लिए दोपहर तक श्रद्धालुओं की आवाजाही रही। तीन बत्ती चौराहा स्थित सरकारी श्रीराम मंदिर से शाम 5 बजे शंकर सवारी निकाली गई। बड़ी संख्या में भक्तों ने सहभागिता की। घर-घर से महिलाओं ने भगवान शिव को श्रीफल भेंटकर अगवानी की। बैंड पर पीरू भाईजान ने मनमोहक भक्ति गीतों की प्रस्तुति दी। सुसज्जित चलित वाहन में शिव प्रतिमा विराजित थी। श्रद्धालुओं ने प्रतिमा के चारों ओर गुलाब के फूलों की सजावट की थी।

    17 आरजेएच 15ः राजगढ़ में श्रावण के दूसरे माह निकली शंकर सवारी।

    मनावर। जागेश्वर महादेव मंदिर राधारमण कॉलोनी, थानेश्वर महादेव तथा बंकनाथ अटल दरबार मंदिर में आकर्षक सज्जा कर भोलेनाथ को श्रृंगारित किया गया। कलाकर लखन प्रजापत व सहायक महेंद्र तंवर, बल्लू, कैलाश ठाकुर आदि थे। बंकनाथ अटल दरबार समिति द्वारा सेमल्दा से मंदिर तक कावड़ यात्रा निकाली गई। नर्मदाजी के पवित्र जल से बंकनाथ अटल दरबार का जलाभिषेक किया गया। कस्थली स्थित शिव मंदिर, धार रोड, कृषि उपज मंडी स्थित मंदिरों में विशेष पूजन-अर्चन हुआ।

    धरमपुरी। पूर्व विधायक पांचीलाल मेड़ा के नेतृत्व में नर्मदा तट से मांडव के श्री नीलकंठेश्वर महादेव मंदिर तक कावड़ यात्रा निकाली गई। इसमें धरमपुरी व नालछा क्षेत्र के लोग शामिल हुए। कावड़ियों ने नर्मदा के मध्य टापू स्थित श्री बिल्वामृतेश्वर महादेव का पूजन व दर्शन कर यात्रा की शुरुआत की। ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष शब्बीर पहलवान, पूर्व पार्षद बाबूभाई, तिलोक पिपले, अशोक जायसवाल, संजय सोनी, अर्पण विश्वकर्मा, सुदामा सेन, शरद पंडित, जितेंद्र दरबार, जयसिंह पटेल, रमेश चौहान आदि ने यात्रियों का स्वागत किया। नर्मदा तट से कावड़ में जल भरकर कई कावड़ यात्राएं भी अपने गंतव्य की ओर रवाना हुई। शिवालयों में भक्तों की भीड़ रही।

    धामनोद। नारायण विहार कॉलोनी के सर्वदेवी मंगला मंदिर में श्रृंगार और महाआरती के कुछ देर बाद ही शिवलिंग के पास फन फैलाए एक सांप दिखाई दिया। खबर फैलते ही यहां भक्तों का तांता लग गया। बावड़ी मोहल्ला स्थित नर्मदेश्वर महादेव मंदिर सहित गुलझरा, संजय नगर, ओंकार कॉलोनी, शिव कॉलोनी में महादेव का श्रृंगार किया गया।

    बदनावर। प्राचीन बैजनाथ महादेव मंदिर में अलसुबह अभिषेक के साथ पूजा-अर्चना प्रारंभ हुई। महाकाल मंडल के तत्वावधान में पिपलेश्वर मंदिर से भगवान की शंकर सवारी निकाली गई। सुसज्जित रथ में श्रृंगारित प्रतिमा आकर्षण का केंद्र रही। बैजनाथ महादेव मंदिर से होते हुए सवारी नगर में निकली। पिपलेश्वर मंदिर में आरती पश्चात समापन हुआ। आनंदेश्वर मंदिर, नागेश्वर महादेव मंदिर, सोमेश्वर महादेव व पातालेश्वर मंदिरों में भी दर्शन के लिए श्रद्धालु पहुंचे।

    कुक्षी। श्री त्र्यम्बकेश्वर महादेव, प्राचीन सरकारी नीलकंठेश्वर महादेव, श्री आनंदेश्वर महादेव, सिंचाई कॉलोनी स्थित श्री नीलकंठ मंदिर, मंगलवारिया स्थित शिवालय आदि मंदिरों में श्रद्धालुओ ने दर्शन-पूजन कर आरती में भाग लिया।

    डही। नीलकंठेश्वर महादेव मंदिर स्थित अतिप्राचीन शिवलिंग का रुई से श्रृंगार किया गया। शाम को भगवान शंकर का डोला भजन-कीर्तन के साथ निकाला गया।

    अमझेरा। बस स्टैंड स्थित प्राचीन जयेश्वर महादेव मंदिर में श्रावण सोमवार को भोलेनाथ भक्तों को अलग-अलग रूप में दर्शन देते हैं। बड़ी संख्या में यहां भक्त पहुंचे। शाम को आरती के बाद पुजारी विकास सावले ने प्रसादी बांटी। श्रावण के अंतिम सोमवार जयेश्वर भोलेनाथ नगर भ्रमण पर निकलेंगे।

    17अम-02 अमझेरा में जयेश्वर महादेव का मनमोहक श्रृंगार किया गया।

    केसूर। महेश्वर से जल भरकर सोमवार को केसूर पहुंची कावड़ यात्रा का लोगों ने जगह-जगह स्वागत किया। कावड़ यात्रा फाग यात्रा की तरह नजर आने लगी। लोग झूमते-गाते शामिल हुए। संयोजक धर्मेंद्र पटेल व उनके साथियों का स्वागत किया गया। गत सोमवार को शंकर सवारी के दौरान बनी स्थिति को लेकर पुलिस बल भी तैनात था। रामनगर कॉलोनी में रात्रि विश्राम के बाद सुबह कावड़ यात्रा निकलना शुरू हुई। सिद्धेश्वर महादेव मंदिर पर भगवान का जलाभिषेक किया गया। फूलसिंह वर्मा, कुसुम मुणत, मोहनसिंह राजावत, आशीष जैन, राकेश पंवार, कैलाश राठाड ने स्वागत किया। बस स्टैंड पर युवाओं व नृसिंह मंदिर गली में भारतसिंह कुशवाह व राजू राठाड ने स्वल्पाहार करवाया।

    चित्र 17 केइआर 02 :- केसूर में निकली कावड़ यात्रा के दौरान उमड़ा जनसैलाब।

    बगड़ी। ग्राम सिलोदा की महिलाओं ने 16 किमी की पैदल कलश यात्रा निकाली। महिलाएं मानसरोवर चौसठ योगिनी माता मंदिर से जल भरकर निकली। सिलोदा में ढोल-ढमाकों के साथ अगवानी की गई। शंकर मंदिर में जलाभिषेक किया। बगड़ी में नर्मदेश्वर मंदिर में श्रीराम मंदिर बजंरग दल व्यायामशाला द्वारा पालकी यात्रा निकाली गई।

    चित्र-17बिजिडी-04 ग्राम सिलोदा की महिलाएं पैदल कलश यात्रा निकालते हुए।

    नालछा। वनवासी क्षेत्र से अलग-अलग कावड़ यात्रा निकाली गई। रेवाकुंड काकडा खो, कुंजरोद, अडवी से जल भरकर रामपालकी धाम नालछा पहुंचे। विधायक प्रतिनिधि अशोक मिरदवाल, निखिल ग्वाल, महेश यादव, शिवचरण यादव, अरविंद चौहान, भोजपाल ठाकुर, पवन कुशवाह आदि ने स्वागत किया।

    चित्र- 17एनएलसी-02 नालछा में कावड़ यात्रा पहुंची।

    मांडू। नगर परिषद अध्यक्ष प्रतिनिधि जयराम गावर द्वारा रेवाकुंड से नीलकंठेश्वर महादेव व वहां से मंडलेश्वर महादेव से श्री चतुर्भुज राम मंदिर तक कावड़ यात्रा निकाली। इसमें भाजपा जिलाध्यक्ष डॉ. राज बर्फा, अजजा मोर्चा जिलाध्यक्ष सरदार मेड़ा, दीपक शर्मा, भाजपा मंडल अध्यक्ष रवींद्र परिहार, कृष्णा यादव आदि शामिल थे। दूसरी तरफ पूर्व विधायक पांचीलाल मेड़ा के नेतृत्व में 1500 कावड़ यात्री यहां नीलकंठेश्वर महादेव मंदिर पहुंचे।

    17 एमएनडी 02 व 03 मांडू में गावर मित्र मंडल द्वारा कावड़ यात्रा निकाली गई।

    बोधवाड़ा। सुल्तानपुर के गंगा महादेव तीर्थ पर दर्शनार्थ बड़ी संख्या में लोग पहुंचे। प्राकृतिक गुफा के अंदर स्थित मंदिर में दूर-दूर से पहुंचे लोगों ने पूजा-अर्चना की। तिरला, नौगांव, दसाई, खरमपुर, तोरनोद आदि गांव की महिलाएं पूजा-अर्चना कर यहां से जल भरकर धार रवाना हुईं। श्रद्धालुओं को चाय व केले बांटे गए।

    बरमंडल। महाकाल मंदिर (बगीचा), पिपलेश्वर महादेव एवं गणेश मंदिर स्थित भोलेनाथ मंदिर में श्रद्धालुओं की भीड़ रही। महिला मंडल ने कावड़ यात्रा निकाली। कोटेश्वर महादेव मंदिर में भगवान का जलाभिषेक किया। सभी शिवालयों को श्रृंगारित किया गया।

    तिरला। श्रीकृष्ण नवयुवक मंडल द्वारा गंगामहादेव से धारेश्वर तक पैदल कावड़ यात्रा निकाली गई। इसमें 500 से अधिक महिला श्रद्धालु शामिल हुए। गंगामहादेव से जलभरकर लाई महिलाओं ने धारनाथ का जलाभिषेक किया। स्वागत कर फलाहार कराया गया।

    रिंगनोद। मनकामेश्वर महादेव मंदिर, शिव शक्ति अंबिका माता मंदिर, कचहरी मोहल्ला स्थित बड़केश्वर महादेव, योगमाया शिव मंदिर में श्रद्धालुओं ने पूजा-अर्चना की। गुमानपुरा के निकटस्थ अतिप्राचीन श्री सुरई माता मंदिर में विशेष पूजा हुई। जामसिंह तड़वी ने बताया कि माता की पूजा से खेती-बाड़ी में खुशहाली और संपन्नता रहती है तथा पशु धन स्वस्थ रहता है। श्रावण मास के अवसर पर पूजा रखी जाती है। पूजा के पूर्व तड़वी की ओर से क्षेत्र में खेती करने वाले लोगों के यहां सागवान प़ेड के पत्ते भिजवाए जाते हैं। इससे लोग समझ जाते हैं कि आज सुरईमाता की पूजा है। ग्राम रतनपुरा के बस स्टैंड स्थित सिद्धेश्वर महादेव मंदिर में भी आराधना की गई।

    दिग्ठान। देवल मुक्तेश्वर महादेव की पालकी यात्रा ढोल-ताशे के साथ निकाली गई। जगह-जगह स्वागत किया गया। अखाड़े के कलाकारों ने हैरतअंगेज करतब दिखाए। गांव के भ्रमण पश्चात पालकी यात्रा हनुमान मंदिर पहुंची, जहां पूजा-अर्चना व आरती की गई। इसके बाद यात्रा देवल मुक्तेश्वर पहुंची।

    कालीबावड़ी। पूर्व विधायक पांचीलाल मेड़ा के नेतृत्व में निकली कावड़ यात्रा में 1500 से अधिक लोग शामिल हुए। ग्राम चंदावड़ के सुखदेव पाटीदार, शिव पाटीदार व ग्रामीणों ने स्वागत किया।तारापुर में महेंद्र दरबार ने साबुदाने की खिचड़ी बांटी।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें