Naidunia
    Saturday, November 25, 2017
    PreviousNext

    पत्नी ने नौकरी नहीं छोड़ी तो पति ने सिर पर पत्थर मारा, मौत

    Published: Tue, 14 Nov 2017 07:34 PM (IST) | Updated: Wed, 15 Nov 2017 07:45 AM (IST)
    By: Editorial Team
    dhar death 14 11 2017

    धार। मैंने शिक्षक की नौकरी छोड़ दी। तुम भी टीचर की नौकरी छोड़ दो और मेरे साथ घर पर ही रहकर काम करो। चलो मेरे साथ घर चलो, लेकिन जब पत्नी ने पति की इस बात को नहीं माना तो पहले पति ने स्कूल में जाकर पत्नी के साथ झगड़ा किया।

    पत्नी जब घर जाने के लिए बस में बैठी तो उसे नीचे उताकर पत्थर से सिर पर हमला कर दिया। इसमें पत्नी बसूबाई(25) गंभीर रूप से घायल हो गई। घटना के बाद पति बोदरसिंह फरार हो गया। महिला को आसपास के लोग अमझेरा के अस्पताल लेकर गए। जहां से धार रैफर किया गया,लेकिन निजी अस्पातल में सोमवार शाम इलाज के दौरान महिला ने दम तोड़ दिया। जिला अस्पताल में पोस्ट मार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया।

    बसुबाई के पिता पर्वतसिंह ने बताया कि पति बोदरसिंह चौहान पहले शिक्षक था और बेटी बसू भी अमझेरा के चालनी में टीचर थी। बोदरसिंह ने टीचर की नौकरी छोड़ दी थी और हमेशा बेटी बसू से शिक्षक की नौकरी छोड़ने के लिए जिद व झगड़ा करता था। सोमवार को बसू रहणदा(धरमपुरी) से चालनी में स्कूल गई थी। उसने पहले स्कूल में आकर झगड़ा किया और कहा कि तू साइकिल पर बैठकर मेरे साथ चल।

    जब बसू घर जाने के लिए स्कूल के सामने से ही बस में बैठी तो उसे नीचे उतारा। बाल पकड़ कर नीचे गिरा दिया। दो बार पत्थर से बोदरसिंह ने सिर पर हमला कर दिया। इसमें वह गंभीर रूप से घायल हो गई।

    बेटी ने उसी हालत में मोबाइल से नंबर निकालकर सूचना देने के लिए कहा। जिस पर आसपास के लोगों ने फोनकर परिजनों व अन्य को सूचना दी। आसपास के लोग ही बेटी को धार के निजी अस्पातल में करीब 2 बजे लेकर पहुंचे। जख्म इतने गहरे थे कि करीब 8 टांके लगाने पड़े, लेकिन मेरी बेटी ने करीब शाम 5 बजे दम तोड़ दिया।

    8 महीने से मायके में रहती थी महिला

    महिला के पिता ने बताया कि साल 2013 में बेटी की शादी धूमधाम से बोदरसिंह निवासी कोड़वा(कुक्षी)से की थी। दोनों उस वक्त शिक्षक थे। करीब दो साल पहले बोदरसिंह ने शिक्षक की नौकरी भी छोड़ दी और बेटी से नौकरी छोड़ने के लिए हमेशा झगड़ा करता था। इस विवाद को देखकर करीब 8 महीने से बेटी हमारे पास रहणदा आकर रहने लगी थी। वहीं से रोजना चालनी स्कूल जाती थी।

    उसे समझ आ जाएगी यह सोचकर बेटी को रखा

    पिता ने बताया कि लड़ाई झगड़े को देखकर बेटी को अपने पास रखा था। बोदरसिंह को कई बार हमने समझाया और लेकिन उसकी समझ में नहीं आता था। फिर वह हमेशा बेटी के साथ झगड़ा करता था। अंदाजा नहीं था इतनी बड़ी घटना हो जाएगी। जिसमें हमारी बेटी की जान चली जाएगी।

    पिता की वजह से बेेटे के सिर से उठा मां का साया

    बसू का दो साल का लड़का है। अब वह अकेला हो गया। बसू के पिता ने बताया लड़क ी के बाद हम बच्चे को भी अपने साथ यहां लेकर आ गए थे। वह अपनी मां के साथ खुश था। कई बार बोदरसिंह ने बच्चे को ले जाने के लिए हमसे झगड़ा किया। एक पिता की वजह से ही बेटे के सिर से मां का साया उठ गया।

    धारा बढ़ाई जाएगी

    अमझेरा के थाना प्रभारी यूएस बौराना ने बताया कि पति ने शिक्षक महिला पर पत्थर से हमला किया था। पहले 307 के तहत मामला दर्ज किया था। अब महिला की मौत के बाद धारा बढ़ाई जाएगी।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें