Naidunia
    Sunday, May 28, 2017
    PreviousNext

    एआईएमपी को बेदखल करेगा इंडस्ट्री फाउंडेशन

    Published: Sat, 22 Apr 2017 03:58 AM (IST) | Updated: Sat, 22 Apr 2017 03:58 AM (IST)
    By: Editorial Team

    इंदौर। नईदुनिया प्रतिनिधि

    उद्योगों की पुरानी संस्था इंडस्ट्री फाउंडेशन ने अपने सहयोगी और प्रदेश के उद्योगों का प्रतिनिधित्व करने वाले एसोसिएशन ऑफ इंडस्ट्रीज (एआईएमपी) को बेदखली का नोटिस देने की तैयारी कर ली है। शुक्रवार को फाउंडेशन की खास बैठक में इस बारे में निर्णय लिया गया। फाउंडेशन किसी वकील के जरिए एसोसिएशन को नोटिस देगा।

    एआईएमपी के एक पदाधिकारी ने बीती बैठक में फाउंडेशन का बैनर फाड़ दिया था। पदाधिकारी ने फाउंडेशन पर एआईएमपी के लोगों को दरकिनार करने और महत्व न देने का आरोप लगाया था। घटना के बाद फाउंडेशन के वरिष्ठ सदस्यों का गुस्सा फूटा। इसे अगस्त में होने वाले एआईएमपी के चुनावों की राजनीति से प्रेरित बताया जा रहा है। फिर भी फाउंडेशन ने मन बनाया है कि बदसलूकी करने वाले पदाधिकारी को सीधा संदेश देने के लिए कठोर कार्रवाई जरूरी है।

    ऐसे हुई शुरुआत

    इंडस्ट्री फाउंडेशन उद्योगों और एआईएमपी की मातृसंस्था मानी जाती है। संस्था में सिर्फ 16 सदस्य ही होते हैं। बरसों पहले स्थापित फाउंडेशन के बाद एआईएमपी की स्थापना की गई थी। एआईएमपी में 1600 उद्योग प्रतिनिधि सदस्य हैं। फाउंडेशन के बोर्ड में एआईएमपी के पदाधिकारी मनोनीत होते हैं, जबकि एआईएमपी की कार्यसमिति में भी फाउंडेशन के दो सदस्यों को जगह दी जाती है। एआईएमपी के मौजूदा ऑफिस वाली जमीन, भवन की मालिकी फाउंडेशन के पास है। इनसे होने वाली आय भी फाउंडेशन के खातों में जाती है। बीते दिनों फाउंडेशन ने इंडो-अमेरिकन चेंबर के साथ एक एमओयू साइन किया। कार्यक्रम के बाद एआईएमपी के कुछ पदाधिकारियों ने एक बैठक कर आरोप लगाया कि फाउंडेशन ने उनके सम्मान को ठेस पहुंचाते हुए उन्हें दरकिनार किया। कार्यक्रम के निमंत्रण पत्र तक नहीं भेजे गए। इसी बैठक में फाउंडेशन के पदाधिकारियों पर भड़कते हुए संस्था में लगा बैनर फाड़ दिया गया था।

    जगह खाली करने का देंगे नोटिस

    सूत्रों के मुताबिक शुक्रवार दोपहर हुई इंडस्ट्री फाउंडेशन की बैठक में बोर्ड ने एकमत होते हुए निर्णय लिया है कि एआईएमपी से जगह खाली करवाई जाए। पदाधिकारियों ने कहा कि फाउंडेशन की जमीन और संपत्ति होते हुए एसोसिएशन को सहयोगी समझ ऑफिस के लिए जगह दी गई थी। अब नोटिस देकर उन्हें जगह खाली करने को कहा जाएगा। साथ ही एआईएमपी के ऑफिस में काम कर रहे कर्मचारियों की तनख्वाह जो अब तक फाउंडेशन वहन कर रहा है, की जिम्मेदारी एआईएमपी पर डाली जाएगी। एक-दो दिन में इसका कानूनी नोटिस एआईएमपी को भेजा जाएगा। फाउंडेशन के पदाधिकारी फिलहाल मामले पर बोलने से इनकार कर रहे हैं।

    और जानें :  # e
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी