Naidunia
    Saturday, June 24, 2017
    PreviousNext

    तीन माह भटका फिर भी नहीं मिला मुआवजा

    Published: Tue, 20 Jun 2017 11:10 PM (IST) | Updated: Tue, 20 Jun 2017 11:10 PM (IST)
    By: Editorial Team

    नरसिंहपुर।

    सरकारी दफ्तरों की भर्राशाही और अधिकारियों की मनमानी ने मंगलवार को फिर एक किसान की जान ले ली। करीब 3 एकड़ के रकबे में आग लगने से गेहूं की फसल जलने का मुआवजा मांगने धमना के किसान परिवार को तहसील के कई चक्कर लगाने पड़े। मुआवजे की फाइल जल्द एक टेबल से दूसरी टेबल तक पहुंच जाए, इसके लिए किसान परिवार ने तहसील के कुछ बाबुओं को आधा दर्जनवार 500-500 रुपए भी थमाए, लेकिन राहत मिलती नहीं दिखी। आग से फसल जलने और फिर बैंक का 4 लाख रुपए कर्ज होने से कई दिन से परेशान 65 वर्षीय

    किसान लक्ष्मी प्रसाद ने मंगलवार को सल्फास खाकर जान दे दी।

    मृतक किसान लक्ष्मी प्रसाद के भतीजे भगवान सिंह ने बताया कि उसके फूफा लक्ष्मी प्रसाद खेती में कई दिनों से नुकसान झेल रहे थे। बैंक का कर्ज होने के साथ ही उनका कुछ स्थानीय साहूकारों से भी थोड़े-बहुत पैसों का लेनदेन था। तीन महिने पहले जब उनकी गेहूं की फसल जली तो उसका मुआवजा पाने के लिए भी स्वयं लक्ष्मी प्रसाद और उनके बेटों ने तहसील के कई चक्कर लगाए। बाबुओं को 6 बार 500-500 रुपए भी दिए, जिसकी जानकारी उन्हें भी है। लेकिन आज तक मुआवजा नहीं मिला। करीब 20-25 दिन पहले जब खेत का बिजली कनेक्शन कट गया तो उन्हें मूंग की फसल से जो उम्मीद थी, उस पर भी पानी फिर गया।

    घटना के बाद अस्पताल में लगी भीड़

    जिला अस्पताल में गंभीर हालत में किसान के आते ही यहां कांग्रेस-भाजपा के नेताओं, अधिकारियों की आमद शुरू हो गई। किसान परिवार के सदस्यों से जनप्रतिनिधियों ने घटनाक्रम का ब्यौरा लिया व संवेदनाएं जताईं। एडीएम, एसडीओपी भी मौके पर पहुंचे, लेकिन मृतक के परिजनों ने कहा कि जब तक कलेक्टर नहीं आएंगे तो वह शव नहीं ले जाएंगे। उन्हें न्याय मिलना चाहिए। एक तो पहले उनकी फसल जली और आज तक मुआवजा नहीं मिला, बिजली विभाग ने भी कनेक्शन काट दिया। ऐंसी स्थिति में बैंक का 4 लाख रुपए का कर्ज कैसे अदा होता, इसी परेशानी ने लक्ष्मी प्रसाद की जान ले ली।

    मृतक के परिजन द्वारा की गई मांग के बाद मौके पर कलेक्टर डॉ. आरआर भोंसले पहुंचे और उन्होंने पीड़ित परिवार को आश्वासन दिया कि मामले में दोषियों पर कार्रवाई करते हुए शासन से मद्द भी दिलाई जाएगी। इसके उपरांत मृतक के परिजन शव लेकर धमना पहुंचे, जहां दोपहर में लक्ष्मी प्रसाद का अंतिम संस्कार किया गया। मामले में दोषियों पर कार्रवाई की मांग की जा रही है।

    और जानें :  # narsinghpur news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी