Naidunia
    Monday, August 21, 2017
    PreviousNext

    लुटेरी दुल्‍हन : हर बार नई शादी करती और रुपए लेकर फरार हो जाती

    Published: Sun, 13 Aug 2017 08:48 PM (IST) | Updated: Mon, 14 Aug 2017 07:22 AM (IST)
    By: Editorial Team
    dulhan 13 08 2017

    शाजापुर। बेरछा थाना क्षेत्र में शादी के चार दिन बाद एक दुल्हन के गायब होने की शिकायत सामने आने के बाद पुलिस ने एक गिरोह का खुलासा किया है। दुल्हन के साथ तीन अन्य लोगों को भी गिरफ्तार किया गया है।

    ये लोग गिरोह के रूप में काम करते हुए पहले ऐसे लोगों को ढूंढते हैं, जिन्हें शादी करनी हो। शादी कराने के नाम पर उनसे हजारों रुपए लेते हैं। शादी के बाद दुल्हन कुछ दिन दूल्हे के साथ रहकर गायब हो जाती है।

    पुलिस पकड़े गए लोगों से पूछताछ कर रही है। बेरछा पुलिस के अनुसार 4 अगस्त को महेश पिता जयराम (30) निवासी सिहोदा ने बेरछा थाने में शिकायत की थी।

    उसने पुलिस को बताया था कि गांव के ही कुछ लोगों के माध्यम से उसने एक युवती से शादी की थी, किंतु शादी के चार दिन बाद ही किसी को कुछ बताए बिना वह घर से चली गई।

    विवाह कराने वाले लोगों ने उससे 70 हजार रुपए भी लिए थे। पुलिस ने जांच शुरू की तो पता चला कि ग्राम सिहोदा के रहने वाले पवन बाई और भारतसिंह राजपूत ने महेश का विवाह कराया था।

    ये दोनों ही उसके घर पहुंचे थे। घर पहुंचकर इन दोनों ने महेश से कहा कि तुम्हारी शादी नहीं हो रही है। हमारे रिश्तेदार मेहरबान गुर्जर निवासी हनोती की निगाह में अच्छी लड़की है। इस पर महेश इन दोनों की बातों में आ गया और शादी के लिए राजी हो गया।

    शादी की और मंदिर पर फोटो भी खिंचाए

    मेहरबानसिंह, पवनबाई, संध्या (भाभी), महेश चौधरी तथा दिनेश पिता रामचंद्र रठौड़ निवासी इंदौर के साथ लड़की पूजा डोडिया निवासी इंदौर को लेकर घटना के तीन दिन पहले ग्राम सिहोदा में पवनबाई व भारतसिंह के घर पहुंचे। यहां फरियादी महेश और उसके भाई दिलीप ने पवनबाई के घर पहुंचकर लड़की को पसंद किया।

    इसके बाद 25 जुलाई को सभी आरोपी सिहोदा आए और महेश के शपथ-पत्र पर शाजापुर में शादी कराई। शादी के बाद शाजापुर में मां राजराजेश्वरी मंदिर पर सभी परिवारजनों ने मिलकर फोटों खिंचवाए। इसके बाद लड़की महेश के साथ उसके घर चली गई। इसके बदले आरोपियों ने महेश से 70 हजार रुपए लिए।

    पूजा पत्नी बनकर महेश के घर चार दिन रही। इसके बाद चौथे दिन अज्ञात व्यक्ति के साथ बाइक पर बैठकर गायब हो गई। आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस को भी उनकी ही तरह दूल्हा और उसके परिजन बनना पड़ा, तब जाकर गिरोह पकड़ में आ सका। आरोपियों को देवास स्थित बिलावली मंदिर बुलाया और उन्हें झांसे में लेकर गिरफ्तार कर लिया।

    इन्हें किया गिरफ्तार

    संध्या पति अजय राजपूत निवासी देवास नाका इंदौर (नकली भाभी), दिनेश पिता शंकरलाल राठौड़ निवासी खिरकीया हाल निवास इंदौर (नकली भाई), पूजा पिता कैलाश राजपूत निवासी छोटा नागदा जिला धार हाल निवासी इंदौर (नकली दुल्हन), पवनबाई और उसका पति भारतसिंह जो इस विवाह के लिए मध्यस्थ बने थे।

    सभी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। मुख्य सरगना महेश पिता कन्हैयालाल चौधरी निवासी कैलोदा और मेहरबान पिता भेरुसिंह निवासी हनोति बताए जा रहे हैं। सरगना अभी फरार है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें