Naidunia
    Sunday, August 20, 2017
    PreviousNext

    00 बिना फायर काल फायर फाइटर से रोजाना भरा गया 125 लीटर डीजल

    Published: Mon, 14 Aug 2017 04:02 AM (IST) | Updated: Mon, 14 Aug 2017 04:02 AM (IST)
    By: Editorial Team

    - कार, पिकअप, वाटर टैंकर और अब फायर ब्रिगेड वाहनों में डीजल घोटाला

    भोपाल। नवदुनिया प्रतिनिधि

    नगर निगम में अफसरों के लिए लगी कारों, जेसीबी, वाटर टैंकर में डीजल चोरी के बाद अब फायर फाइटर वाहनों में डीजल चोरी का मामला सामने आया है। वो भी बारिश के सीजन में। जबकि न कोई फायर कॉल आए और न ही फायर ब्रिगेड अपने स्थान से हिली। लेकिन हर दूसरे दिन फायर ब्रिगेड में डीजल टैंक से डीजल डालते रहे।

    निगम सूत्रों के अनुसार एमपी 04 के 3881 क्रमांक फायर फाइटर में रोजाना 100-125 लीटर डीजल डाला गया। जबकि यह वाहन किसी फायर कॉल पर गया ही नहीं। इसी तरह अन्य कई फायर फाइटर वाहन हैं, जिनमें बिना चले ही बारिश में डीजल भरा जाता रहा। डीजल घोटाला सामने आने के बाद परिवहन शाखा के अफसर लगातार सभी वाहनों से जुड़े विभागों के अधिकारियों और ड्राइवरों को चेतावनी देते रहे, लेकिन डीजल चोरी जारी है। ज्यादा फायर ब्रिगेड वाहनों के माइलो मीटर भी खराब किए गए हैं, ताकि इस गड़बड़ी को छुपाया जा सके। लेकिन फायर कॉल और डलवाए गए डीजल के रिकॉर्ड की जांच होगी तो एक और डीजल घोटाला सामने आ सकता है। सबसे अधिक पुल बोगदा फायर स्टेशन, फतेहगढ़, आईएसबीटी में गड़बड़ियां हो रही हैं।

    - कहां-कितने फायर फाइटर हैं तैनात

    जानकारी के अनुसार पुलबोगदा फायर स्टेशन में 5, फतेहगढ़ मुख्यालय में 3, बैरागढ़ 4, माता मंदिर 3, छोला में 3, यूनानीशफा खाना में 1, गांधी नगर में 1, आईएसबीटी 1, गोविंदपुरा 2 और कोलार में 2 वाहन समेत 2 रेस्क्यू वाहन हैं। इस तरह शहर में कुल 25 फायर फाइटर वाहन हैं।

    --------

    लगातार कसावट फिर भी नहीं थम रही डीजल चोरी

    - 19 जुलाई को परिवहन अधिकारी राहुल सिंह ने डीजल टैंक का औचक निरीक्षण किया। डीजल चोरी को रोकने के लिए माइलो मीटर की रीडिंग अनिवार्य रूप से लिखने के निर्देश दिए गए।

    - 20 जुलाई को फिर परिवहन अधिकारी ने पेट्रोलियम कंपनी के अधिकारियों के साथ डीजल टैंक का दौरा किया। एक्सपर्ट की सलाह पर मशीन में लगे डिस्प्ले सिस्टम और प्रिंटर को सुधरवाया गया, ताकि पता चल सके किस वाहन में कितना डीजल भरा गया।

    - 22 जुलाई को अफसरों के लिए लगी कारों और पिकअप की ईंधन की लिमिट तय की गई। पुरानी लॉक बुक (इंडेंट बुक) की जगह नई जारी हुई।

    - 24 जुलाई को अफसरों और विभिन्न गाड़ियों में इंडेंट बुक में फर्जी हस्ताक्षर कर और डीजल चोरी करने वाले 11 ड्राइवरों को हटाया गया।

    - 10 अगस्त को विधानसभा हाइडेंट में रात को अपर आयुक्त एमपी सिंह और परिवहन अधिकारी राहुल सिंह ने छापामारी की कार्रवाई की। यहां टॉयलेट में छुपे केन में करीब 60 लीटर डीजल जब्त किया गया।

    --------

    इनका कहना

    फायर फाइटर की भी समीक्षा की गई है, कुछ गाड़ियों में औसत से ज्यादा ईंधन डाला गया है। संबंधित प्रभारियों को मॉनिटरिंग के लिए कहा गया है। चोरी पाए जाने पर कार्रवाई की जा रही है। चोरी न हो इसके लिए सभी फायर फाइटर वाहनों में जीपीएस लगाए जाएंगे।

    एमपी सिंह, अपर आयुक्त नगर निगम

    और जानें :  # fire brigade
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें