Naidunia
    Thursday, August 24, 2017
    PreviousNext

    रहवासी इलाकों में नहीं उठ रहा कचरा, नहीं होती फॉगिंग, पनप रहे मच्छर

    Published: Mon, 14 Aug 2017 04:01 AM (IST) | Updated: Mon, 14 Aug 2017 04:01 AM (IST)
    By: Editorial Team

    जहां हो रही फॉगिंग वहां दवाई के नाम पर उड़ाया जा रहा केरोसीन का धुंआ

    भोपाल नवदुनिया प्रतिनिधि

    शहर के कई इलाकों में इन दिनों मच्छरों ने लोगों का जीना हराम कर रखा है। ऐशबाग, अशोका गार्डन, सुभाष नगर, शिवाजी नगर, साकेत नगर, कोलार और पुराने भोपाल के लगभग सभी इलाकों में रहवासी चैन की नींद नहीं सो सकते। शहर में जहां डेंगू के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है, वहीं निगम की फॉगिंग मशीनों का कुछ अता पता नहीं हैं। अधिकारी भलें यह दावा करते हों कि शहर में रोजाना गली गली में जाकर निगमकर्मी दवाइयों का छिड़काव और फॉगिंग कर रहे हैं लेकिन यह दावे जमीनी हकीकत से कोसों दूर हैं। सच्चाई यह है कि निगम की फॉगिंग मशीनें केन्द्रीय कर्मशाला में धूल खा रही हैं, जहां के कर्मचारी मशीन के खराब होने का हवाला देते हैं।

    -केवल 1 वाहन फॉगिंग मशीने, हर जोन में 1 हैंडेड मशीन

    नगर निगम जहां शहर की हर गली-मोहल्ले और कॉलोनी में मच्छरों की रोकथाम के लिए काम करने की बात कहता है। जबकि सच्चाई यह है कि निगम के पास इतने संसाधन ही नहीं हैं कि वे शहर की करीब 18 लाख लोगों को मच्छरों से बचा सके। नगर निगम के पास केवल 3 वाहन फॉगिंग मशीनें हैं, इसके साथ ही सभी 19 जोनों में एक-एक हैंडेड फॉगिंग मशीन। ऐसे में शहर के 85 वार्डों में फॉगिंग हो ही नहीं रही पा रही है। हालांकि जो मशीनें हैं उनका ही प्रयोग निगम नहीं कर रहा है।

    मच्छरों की रोकधाम के लिए निगम द्वारा किए जाने वाले काम

    -गाजर घास एवं खरपतवार साफ करना

    -पंप के माध्यम से कीटनाशक दवाओं का छिड़काव करना

    -ऐसे गड्ढों समेत अन्य स्थानों में जला हुआ ऑयल डालना जहां मच्छर पनपते हैं

    -गली मोहल्लों में फॉगिंग करना

    -कचरे वाले स्थानों पर दवाओं का छिड़काव करना

    -अधिक मच्छरों वाले स्थानों पर स्प्रे

    वर्जन...नहीं मिलाते दवाई, उड़ा रहे केवल केरोसीन का धुंआ

    नगर निगम कहां फॉगिंग और दवाइयां छिड़कता है मालूम नहीं। कई बार शिकायत करने पर अगर कहीं फॉगिंग होती भी है तो उसमें केवल केरोसीन का धुआं उड़ाया जाता है दवाई उसमें नहीं मिलाई जाती।

    योगेन्द्र सिहं गुड्डू चौहान, कांग्रेस पार्षद

    वर्जन...रोजाना की जा रही फॉगिंग

    शहर में रोजाना फॉगिंग की जाती है, अगर कहीं नहीं हो रही है और लोगों को परेशानी है तो मैं दिखवा लेता हूं।

    हर्षित तिवारी, उपायुक्त, नगर निगम

    वर्जन...कभी नहीं छिड़की दवाई, फॉगिंग क्या होता है नहीं मालूम

    हमारे यहां 12 महीने गंदगी रहती है, साफ सफाई रखने में लोग भी सहयोग नहीं करते। बहुत ज्यादा मच्छर रहते हैं लेकिन कभी दवाई का छिड़काव होता नहीं देखा। मच्छरों को रोकने के लिए कभी आसपास के क्षेत्र में फॉगिंग होने की बात तक नहीं सुनी है। कॉइल लगाने के बाद भी हमेशा मलेरिया होने का डर लगा रहता है।

    सना, रहवासी, जनता क्वाटर (ऐशबाग)

    वर्जन...कभी नहीं हुई फॉगिंग

    मेरी कॉलोनी के साथ ही आसपास के क्षेत्र में कभी फॉगिंग होते नहीं देखा। दवाइयां छिड़कते हैं यह भी नहीं मालूम। साफ सफाई भी नहीं रहती और अब बारिश में तो मच्छरों के कारण बहुत ज्यादा परेशान हैं।

    प्रदीप श्रीवास्तव, रहवासी, सुमित्रा परिसर (कोलार)

    और जानें :  # fogging machine
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें