Naidunia
    Tuesday, October 24, 2017
    PreviousNext

    पिस्टल गुमाने वाले टीआई लाइन भेजे, 1000 रुपए का अर्थदंड प्रस्तावित

    Published: Sat, 20 May 2017 04:10 AM (IST) | Updated: Sat, 20 May 2017 04:10 AM (IST)
    By: Editorial Team

    पिस्टल गुमाने वाले टीआई लाइन भेजे, 1000 रुपए का अर्थदंड प्रस्तावित

    - आईजी के आदेश के बाद भी आत्माराम पारदी के मामले में फरियादी पक्ष के कथन न कराने पर धरनावदा थाना प्रभारी पर 500 रुपए का अर्थदंड

    - चांचौड़ा टीआई रविंद्र बारिया को जामनेर थाने की कमान, सायबर सेल प्रभारी संजय गुप्ता अशोकनगर के लिए रिलीव

    - ग्वालियर रेंज के आईजी के तीखे तेवरों के बीच लगी पुलिस अधिकारियों की क्लास

    गुना। नवदुनिया न्यूज

    ग्वालियर रेंज के आईजी अनिल कुमार के तीखे तेवर दिखाई दिए। उन्होंने शुक्रवार को एसपी आफिस सभाकक्ष में पुलिस अधिकारियों की जमकर क्लास लगाई। एक ओर सर्विस रिवाल्वर गुमाने वाले जामनेर टीआई को न केवल लाइन अटैच किया, बल्कि एसपी की ओर से 1000 रुपए का अर्थदंड भी प्रस्तावित कर दिया गया। वहीं आईजी के आदेश के बाद भी आत्माराम पारदी की मौत के मामले में फरियादी पक्ष के कोर्ट में बयान दर्ज न कराने पर धरनावदा थाना प्रभारी पर एसपी द्वारा 500 रुपए का अर्थदंड लगाया गया। इसी तरह चांचौड़ा थाना प्रभारी रविंद्र बारिया को जामनेर थाने भेजा गया। सायबर सेल के एसआई संजय गुप्ता को भी अशोकनगर के लिए रिलीव कर दिया गया। वहीं महेंद्र चौहान को सायबर सेल में भेजा गया। कुछ इसी अंदाज में आईजी की बैठक चलती रही और पुलिस अधिकारियों को हिदायत और कार्रवाई होती रही।

    आईजी अनिल कुमार ने समीक्षा के दौरान पुलिस अधिकारियों से पूछा कि आत्माराम पारदी के मामले में आदेश देने के बाद भी अब तक फरियादी पक्ष के कोर्ट में धारा 164 के कथन दर्ज क्यों नहीं कराए गए। इस पर धरनावदा थाना प्रभारी बलवीरसिंह मावई और आला अधिकारी सकपका गए। इससे नाराज आईजी ने दो-टूक हिदायत दी कि फरियादी पक्ष को सुरक्षा मुहैया कराते हुए तत्काल कथन लिए जाएं। साथ ही बयानों की वीडियोग्राफी कराई जाए, ताकि निष्पक्षता बनी रहे। आईजी ने कहा कि इस मामले में किसी के भी दबाव में आने की जरूरत नहीं है। इधर, एसपी अविनाश सिंह ने मावई पर 500 रुपए का अर्थदंड लगा दिया।

    बॉक्स..

    टीआई को भेजा लाइन

    समीक्षा के दौरान जामनेर टीआई मनीष डाबर का मामला भी सामने आया। दरअसल, कुछ महीने पहले डाबर की सर्विस रिवाल्वर गायब हो गई थी। इस पर भी आईजी ने जमकर नाराजगी जताई। साथ ही एसपी को कार्रवाई के निर्देश दिए। इस पर एसपी ने जामनेर टीआई डाबर को लाइन अटैच कर दिया।

    बॉक्स..

    पारदी महिलाओं ने मांगा न्याय

    आईजी के आने की सूचना पर आत्माराम पारदी के परिवार से जुड़ी महिलाएं भी एसपी आफिस पहुंच गई थीं। इधर, जैसे ही आईजी बैठक लेकर बाहर आए, तो महिलाओं ने अपनी पीड़ा सुनाई। इस पर आईजी ने पूरी कार्रवाइ निष्पक्ष होने का भरोसा दिलाया। साथ ही हिदायत दी कि पारदी अपराध भी करें और पुलिस दबिश न दे, यह संभव नहीं है। आप अपराध से दूर रहेंगे, तो पुलिस कभी तंग नहीं करेगी।

    बॉक्स..

    अपराध दर्ज होने से आंकड़ा बढ़ा

    आईजी अनिल कुमार से पत्रकारों ने सवाल पूछा कि अपराध का ग्राफ बढ़ रहा है। इस पर उन्होंने कहा कि पहले ज्यादातर शिकायतें रोजनामचे पर नहीं आती थीं, जिससे अपराध कम नजर आते थे। लेकिन अब छोटी शिकायत भी दर्ज की जा रही है, जिससे अपराध का आंकड़ा भी बढ़ा नजर आता है। पुलिस में गुटबाजी और आएदिन तबादलों के सवाल पर आईजी ने कहा कि सभी समस्याओं पर जल्द काबू पाया जाएगा।

    फोटो-

    1905जीयूएनए-05, गुना। एसपी आफिस में आईजी को समस्या सुनाती पारदी महिलाएं।

    ---

    और जानें :  # guna news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें