Naidunia
    Sunday, September 24, 2017
    PreviousNext

    बच्चों की खातिर दिन-रात काम किया, नहीं मिले अभी तक पैसे

    Published: Wed, 13 Sep 2017 04:03 AM (IST) | Updated: Thu, 14 Sep 2017 01:26 PM (IST)
    By: Editorial Team
    canal 2017913 215716 13 09 2017

    हरदा। नहरों की लाइनिंग करने वाले मजदूरों को गुजरात की कुणाल कंपनी ने 45 दिनों का भुगतान नही किया। जब भी ठेकेदार से पैसा मांगा, उसने एक दो दिन का कहकर टाल दिया। लंबे समय से पैसा नहीं मिलने के कारण मंगलवार को करीब दो दर्जन मजदूर अपने हक का पैसा मांगने की मांग को लेकर कलेक्ट्रेट पहुंचे।

    रामवती बाई ने कहा कि बच्चों के खातिर उन्होंने दिन-रात नहरों पर काम किया। ठेकेदार ने दिन के काम के 300 रुपए और रात के काम के 250 रुपए देने की बात कही थी। लेकिन 45 दिन का कुल 28 मजदूरों को पैसा नहीं दिया। ज्यादातर मजदूर रहटगांव तहसील क्षेत्र के खमगांव के रहने वाले है, जिन्हें भुगतान नहीं हुआ है।

    अधिकारियों ने मजदूरों को जल्द पैसा दिलवाने की बात कही है। कंपनी ने 5 जुलाई से नहर की लाइनिंग का काम बंद कर दिया है, पर यहां काम करने वाले मजदूरों का भुगतान 45 दिनों से अटका हुआ है।

    एक अन्य मजदूर सुनील ने बताया कि भुगतान को लेकर जब भी ठेकेदार को बोलते हैं तो वो टाल देता है। 45 दिने का भुगतान नही मिलने से परिवार के सामने रोजी रोटी का संकट खड़ा हो गया है। शिकायत करने के दौरान करीब दो दर्जन मजदूर मौजूद थे।

    दो महीने पहले भी धरने पर बैठे थे मजदूर

    उल्लेखनीय है कि इसी कंपनी के विरुद्ध 07 और 10 जुलाई को कुछ मजदूर वेतन नहीं मिलने की बात को लेकर ही कलेक्ट्रेट में धरने पर बैठ गए थे। 7 जुलाई को श्रम विभाग द्वारा आश्वासन मिलने के बाद भी जब वेतन नहीं मिला तो 10 जुलाई को मजदूरों ने कलेक्ट्रेट में जाकर नारेबाजी की थी। इसके बाद वेतन का भुगतान हो पाया था। जिले में लाइनिंग के करोड़ो के ठेके में वेतन नही मिलने की लगातार शिकायते आ रही है। वही कुछ लोगों का यह भी मानना है कि शासन स्तर पर भी बिल अटकने के कारण स्थिति बन रही है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें