Naidunia
    Friday, November 24, 2017
    PreviousNext

    पांच साल में 314 निरीक्षण, लेकिन किसी भी संस्था में बालश्रम करते ही नहीं मिले

    Published: Tue, 21 Mar 2017 08:16 AM (IST) | Updated: Tue, 21 Mar 2017 08:16 AM (IST)
    By: Editorial Team

    पांच साल में 314 निरीक्षण, लेकिन किसी भी संस्था में बालश्रम करते ही नहीं मिले

    विधायक दोगने ने विधान सभा में उठाया बाल श्रम व बाल शोषण का मुद्दा

    हरदा। नवदुनिया प्रतिनिधि

    म.प्र. विधानसभा के बजट सत्र में विधायक डॉ. रामकिशोर दोगने द्वारा प्रदेश के खाद्य मंत्री ओम प्रकाश धुर्वे से विभाग द्वारा संचालित योजनाओं के क्रियान्वयन के संबंध प्रश्न किया गया। उन्होने पूछा कि विगत पांच वर्षो में श्रम विभाग के अधिकारियों द्वारा बाल श्रम व बाल शोषण रोकने हेतु क्या-क्या कार्रवाई की गई व कितनी व कौन-कौने सी जगहों पर जांच व आकस्मिक निरीक्षण किस अधिकारी के द्वारा किया गया। विधायक दोगने के प्रश्न के उत्तर में प्रदेश खाद्य मंत्री ओम प्रकाश धुर्वे ने जवाब दिया कि बाल श्रम व बाल शोषण रोकने हेतु श्रम निरिक्षक एवं टास्क फोर्स समिति द्वारा अधिनियम 1986 के अंतर्गत निरीक्षण किये जाते है, गत 05 वर्षो में बाल श्रम अधिनियम 1986 के अंतर्गत अनुभग हरदा, टिमरनी एवं खिरकिया क्षेत्र में जीके श्रीवास्तव व एसके लोध तथा आरबी पटेल श्रम निरीक्षक द्वारा कुल 314 निरिक्षण किए गए है, निरीक्षण के दौरान किसी भी संस्थान में बाल श्रमिक नियोजित नहीं पाए गए है। अभिलेखों के संधरण में अनियमित्ता पाये जाने पर 86 दोषी संस्थानों/नियोजको के विरूद्घ न्यायालय में अभियोजन दायर किए गए है। जिसमें न्यायालय द्वारा 52 प्रकरणों में 1 लाख 10 हजार 500 रूपये का अर्थदण्ड अधिरोपित किया गया है।

    ----------------

    और जानें :  # harda news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें