Naidunia
    Sunday, November 19, 2017
    PreviousNext

    पेट दर्द हुआ तो झोलाछाप डॉक्टर ने लगाया इंजेक्शन, भाई-बहन की मौत

    Published: Fri, 28 Jul 2017 07:14 PM (IST) | Updated: Sat, 29 Jul 2017 11:12 AM (IST)
    By: Editorial Team
    injection 2017728 191812 28 07 2017

    होशंगाबाद। सिवनीमालवा ब्लॉक में एक झोलाछाप डॉक्टर के इलाज की वजह से एक परिवार के दो बच्चों की जान चली गई। हरपालपुर की रहने वाली रजनी (16) और अमित (6) का रात में पेट दर्द हुआ तो पिता अशोक मेहरा दोनों को खपरिया गांव में क्लीनिक चलाने वाले झोलाछाप डॉक्टर रघुवंशी के पास लेकर गए। उसने दोनों को इंजेक्शन लगाया और खाने के लिए गोली दी।

    इसके बाद सुबह दोनों की तबियत सुधरने की जगह और बिगड़ गई तो परिजन उन्हें सिवनीमालवा के सरकारी अस्पताल लेकर गए, जहां से उन्हें जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। सुबह साढ़े 10 बजे 108 एंबुलेंस से जिला अस्पताल लाया गया, जहां डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने मौत के कारणों का पता लगाने दोनों डेड बाडी का पीएम कराया है।

    प्याज की सब्जी और रोटी खाई थी

    रजनी की मां रामदुलारी ने बताया अमित गांव में रहने वाले उसके भाई संतोष का बेटा था। संतोष की एक बेटी सिवनी मालवा के सरकारी अस्पताल में भर्ती थी। ऐसे में भाई और भाभी दुर्गा अस्पताल में रूके थे। ऐसे में उसके दोनों बच्चे रात में हमारे यहां रूके थे। रामदुलारी ने बताया कि रात में 9 बजे प्याज की सब्जी और रोटी बनी थी। हम पति-पत्नी समेत मेरे बेटे विकास, रजनी और भाई के दोनों बच्चों अमित, सुमित ने खाना खाया और सो गए।

    रात 12 बजे हुआ पेट दर्द

    रामदुलारी और अशोक मेहरा ने बताया कि रात में रजनी और अमित ने पेट दर्द की शिकायत की । जब पेट दर्द बंद नहीं हुआ तो रात 12 बजे हम पड़ोस के एक युवक के साथ बाइक से खपरिया गांव में डॉ. रघुवंशी के यहां इलाज के लिए गए। डॉक्टर ने जांच के बाद रजनी और अमित को एक-एक इंजेक्शन लगाया और खाने के लिए टेबलेट दी। आधा घंटे बाद जब बच्चों को कुछ आराम मिला तो वापस घर लौट आए।

    टेबलेट खाते ही हुई आवाज बंद

    पति-पत्नी ने बताया टेबलेट खाने के बाद रजनी और अमित के गले से आवाज आनी बंद हो गई थी तो हम घबरा गए। उन्होंने बताया डॉक्टर ने कहा था कि फिर से पेटदर्द शुरू हो जाए तो ये टेबलेट खिला देना। अल सुबह जब रजनी और अमित के पेट में दर्द शुरू हुआ तो हमने दोनों को डॉक्टर के कहे मुताबिक 1-1 टेबलेट दोनों बच्चों को खिला दी । टेबलेट खाने के बाद दोनों की आवाज चली गई और वे इशारे में अपनी बात कर रहे थे।

    इनका कहना है

    पीएम में यदि गलत इलाज से मौत होने का पता चलता है तो झोलाछाप डॉक्टर के खिलाफ एफआईआर कराई जाएगी। हमने आज ही सिवनीमालवा बीएमओ को उस क्लीनिक पर छापामार कार्रवाई के आदेश दिए हैं।

    डॉ. दिलीप कटैलिहा, सीएमएचओ

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें