Naidunia
    Monday, March 27, 2017
    PreviousNext

    नर्मदा से अवैध रेत लाने वाले 100 से ज्यादा डंपर भोपाल में पकड़ाए

    Published: Fri, 17 Feb 2017 07:41 AM (IST) | Updated: Fri, 17 Feb 2017 12:48 PM (IST)
    By: Editorial Team
    truck sized illegal sand 2017217 124345 17 02 2017

    भोपाल, नवदुनिया न्यूज। नर्मदा नदी में रेत का अवैध उत्खनन राजधानी में खपा रहे रेत माफिया के खिलाफ गुरुवार देर रात बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया गया। जिला प्रशासन और पुलिस की टीम ने रात 11 बजे बागसेवनिया थाने के सामने होशंगाबाद रोड पर बैरिकेड लगाकर रेत के डंपरों को रोक लिया। रात एक बजे तक 100 से ज्यादा डंपरों को जांच के लिए हबीबगंज आरओबी के नीचे खड़ा किया गया है।

    बाद में संख्या ज्यादा होने पर लाल परेड ग्राउंट पर डंपरों को ले जाया गया। शाहगंज, होशंगाबाद के बांद्राभान घाट समेत नर्मदा नदी के अन्य घाटों से डंपर रेत लेकर आए थे। ओवरलोडिंग और रॉयल्टी की जांच के बाद इन्हें जब्त किया जाएगा। यह भोपाल में रेत माफिया के खिलाफ अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई है।

    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के दो दिन में अवैध रेत का कारोबार बंद करने के निर्देश के बाद गुरुवार की दोपहर कलेक्ट्रेट में एक बैठक हुई। इसमें अवैध रेत के परिवहन करने वालों वाहनों पर कार्रवाई करने का लेकर रणनीति बनाई गई । शाम छह बजे पुलिस बल मांगा गया। इसके बाद बागसेवनिया थाने के बाद बेरिकेडिंग कर डंपर पकड़ना शुरू किया गया।

    इससे डंपर संचालकों में हड़कंप मच गया। थोड़ी ही देर में प्रशासन की कार्रवाई की सूचना पीछे आ रही डंपर ड्राइवरों की भी लग गई। दस डंपर के ड्राइवरों ने बागसेवनिया थाने से पहले रोड पर ही रेत फेंक कर भाग गए। कार्रवाई में एडीएम जीपी माली, जिला पंचायत सीईओ आशीष भार्गव, एएसपी हितेश चौधरी समेत दो दर्जन से ज्यादा अफसरों की टीम लगी हुई थी।

    सीएम के परिजनों के डंपर पकड़ाने से हो रही थी बदनामी

    सीहोर और होशंगाबाद में नर्मदा से अवैध रेत उत्खनन का मामला लंबे समय से चल रहा था। हाल ही में नर्मदा यात्रा के दौरान भी मुख्यमंत्री ने रेत उत्ननन रोकने का ऐलान किया था।

    इसी बीच 30 जनवरी को सीहोर की खनिज इंस्पेक्टर रश्मि पांडे ने अवैध उत्खनन के आरोप में सीएम के भतीजे प्रद्युम्न सिंह के डंपर पकड़ लिए थे, वहीं एनजीटी ने भी अवैध उत्खनन पर सख्त रवैया अपनाया हुआ था। एनजीटी ने सीहोर कलेक्टर को भी तलब कर लिया था।

    रेत पलटाकर भागे डंपर चालक

    जांच टीम ने डंपर को सबसे पहले देखा कि जिन डंपरों में रेत भरी हुई, उन्हें रोका। जिन डंपरों में रेत का ओवरलोड थी, वह चेकिं ग टीम को देखकर बीच रास्ते में उसको डंपर को रेत से खाली करके भाग गए। पुलिस ने उनको पकड़ने की असफल हो गई।

    दूर खड़े रहे डंपर मालिक

    पुलिस, प्रशासन और खनिज की कार्रवाई के दौरान कई डंपर मालिक मौके पर पहुंच गए। इसके चलते स्कार्पियो, सफारी और अन्य एसयूवी कारों का भी जमघट लग गया था। लेकिन टीम को देखकर दूर से ही कार्रवाई को देखते रहे।

    लाल परेड के बाहर लगी ट्रकों की लाइन

    होशंगाबाद रोड पर अवैध रेत परिवहन करते डंपर को जब्त करने के बाद उनको लाल परेड ग्राउंड मैदान भेजा गया लेकिन यहां गेट बंद मिला। इसके चलते करीब आधा घंटे तक अफरा-तफरी मची रही। तब तक पुलिस कंट्रोल रूम तक ट्रकों की लाइन लग गई।

    पकड़ाए ड्राइवरों ने कहा

    रसूखदारों को पहले ही लग गई थी भनक - कार्रवाई में भेदभाव के आरोप भी लगे। एक रेत कारोबारी ने कहा कि भारत सिंह और सुरजीत सिंह चौहान रोजाना 17 डंपर रेत लाते हैं, लेकिन गुरुवार को एक भी डंपर नहीं आया। इसका मतलब पुलिस से कार्रवाई की सूचना लीक कर दी गई थी। गौरतलब है कि राजधानी में रोजाना 250 डंपरों से रेत आती है, लेकिन कार्रवाई की भनक लगने से गुरुवार को संख्या कम रही।

    दस गुना लगेगा जुर्माना

    सभी डंपरों में रेत की नपाई होगी। यदि तय मात्रा से ज्यादा रेत निकलती है तो चालानी कार्रवाई के साथ गाड़ी जब्त हो सकती है। जबकि यदि बगैर रॉयल्टी के रेत लाई गई तो दस गुना ज्यादा रॉयल्टी वसूली जाएगी।

    100 से ज्यादा डंपरों को पकड़ा गया। जांच के बाद ही तय होगा कि इनमें से कितने डंपरों से अवैध रेत लाई गई है। जांच शुक्रवार सुबह करेंगे। जीपी माली, एडीएम, जिला प्रशासन

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी