Naidunia
    Monday, April 24, 2017
    PreviousNext

    आशीष ने अब गवाही नहीं दी तो हो सकता है हक समाप्त

    Published: Fri, 17 Feb 2017 03:58 AM (IST) | Updated: Fri, 17 Feb 2017 04:24 PM (IST)
    By: Editorial Team
    ashish chaturvedi mp pmt 2017217 162455 17 02 2017

    ग्वालियर। पीएमटी कांड के सरगना राहुल यादव के केस में आरटीआई कार्यकर्ता आशीष चतुर्वेदी द्वारा गवाही नहीं दिए जाने को लेकर अपर लोक अभियोजक बृजमोहन श्रीवास्तव ने पुलिस अधीक्षक को पत्र लिखा है। उन्होंने पत्र में अवगत कराया है कि आशीष ने यदि अब कोर्ट में गवाही नहीं दी तो उसका गवाही देने का हक समाप्त हो सकता है। इसलिए 27 फरवरी को उसे सुरक्षा के मामले में संतुष्ट करके गवाही के लिए उपस्थित कराएं।

    राहुल यादव ने वर्ष 2004 में एमबीबीएस में प्रवेश लेते वक्त 12वीं में पूरक आने की बात छिपाई थी। इस मामले में आशीष चतुर्वेदी की शिकायत पर झांसी रोड पुलिस ने राहुल यादव के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज किया था। इसकी ट्रायल विशेष सत्र न्यायाधीश सतीशचन्द्र शर्मा की कोर्ट में चल रही है। इस केस में अब तक 25 गवाही हो चुकी हैं। आशीष चतुर्वेदी इस केस के मुख्य गवाह व फरियादी हैं।

    कोर्ट वर्ष 2015 से अब तक आशीष को गवाही के कई मौके दे चुका है। उसे गवाही के लिए पाबंद भी कर चुका है। आशीष पाबंद होने के कारण 6 फरवरी को गवाही के लिए कोर्ट में उपस्थित हुआ, लेकिन अपनी सुरक्षा का हवाला देकर गवाही देने से इनकार कर दिया था। कोर्ट की ऑर्डरशीट पर भी हस्ताक्षर नहीं किए थे।

    27 फरवरी को फिर से आशीष को पाबंद किया गया है। इसको लेकर अपर लोक अभियोजक ने एसपी को पत्र लिखा है। उन्होंने बताया है कि हर बार आशीष कोर्ट में अपनी सुरक्षा का सवाल खड़ा करता है और गवाही देने से इनकार देता है। इस वजह से उसका गवाही का हक समाप्त हो सकता है। इसकी संभावना भी प्रबल हो गई है।

    हक समाप्त हुआ है तो आरोपी को मिलेगा फायदा

    -अपर लोक अभियोजक ने पिछले साल डीजीपी को भी पत्र लिखा था। इसमें उल्लेख किया था कि अगर आशीष चतुर्वेदी गवाही नहीं देता है और कोर्ट उसका हक समाप्त कर देता है तो आरोपी को इसका फायदा मिलेगा। आशीष केस का फरियादी व मुख्य गवाह है। उसकी गवाही नहीं होती है तो आरोपी के वकील इस बात को जिरह में उठाएंगे। फरियादी सामने नहीं आएगा तो केस को खत्म करने का हवाला देंगे।

    - आशीष की गवाही नहीं होने से केस के जांच अधिकारियों की भी गवाही रुकी हुई है। उसकी वजह से इस केस की ट्रायल लंबी खिंच रही है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी