Naidunia
    Sunday, October 22, 2017
    PreviousNext

    आधार कार्ड के नए-पुराने फॉर्मेट में अंतर, केवायसी में आ रही परेशानी

    Published: Fri, 11 Aug 2017 03:59 AM (IST) | Updated: Fri, 11 Aug 2017 12:00 PM (IST)
    By: Editorial Team
    aadhaar card kyc 2017811 115841 11 08 2017

    इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। आधार कार्ड का बदला फॉर्मेट कई लोगों के लिए परेशानी बन गया है। इस कारण केवायसी अटक रही है। नाम-पता, फिंगर प्रिंट और फोटो तो मैच हो रहे हैं लेकिन जन्म तारीख के मामले में डेटा मिसमैच बताया जा रहा है।

    बीते दिनों से सभी मोबाइल कंपनियों को ग्राहकों का नंबर आधार से लिंक करने और नो योर कस्टमर (केवायसी) के निर्देश दिए गए हैं। कनेक्शन को पोस्ट पेड से प्री-पेड में बदलने पर भी आधार से सत्यापन जरूरी कर दिया गया है। बरसों पहले कनेक्शन के साथ अपना आधार दे चुके ग्राहक वेरिफिकेशन के लिए पहुंच रहे हैं तो केवायसी में ऐरर बताई जा रही है।

    दरअसल आधार कार्ड जारी करने के शुरुआती दौर में सिर्फ जन्म वर्ष ही दर्ज किया जाता था। बाद में आधार रजिस्ट्रेशन का फॉर्मेट और सॉफ्टवेयर बदल गया और पूरी जन्म तारीख लिखी जाने लगी। आधार के इस नए फॉर्मेट के मुताबिक कंपनियों को इलेक्ट्रॉनिक डेटा दिया गया। नतीजा केवायसी के लिए जब अंगूठे के निशान से वेरिफिकेशन किया जा रहा है तो जन्म तारीख मेल नहीं खा रही।

    पुराना कार्ड लाओ

    पहले आधार कार्ड सिर्फ कागज पर छापा जाता था। बाद में सरकार ने प्लास्टिक के टिकाऊ कार्ड में बदल दिया। लोगों ने भी अपने नए प्लास्टिक कार्ड बनवा लिए। इलेक्ट्रॉनिक केवायसी नहीं होने पर कंपनियां लोगों से आधार कार्ड की प्रति मांग रही हैं। प्लास्टिक के कार्ड की प्रति देने पर भी केवायसी नहीं हो रही है क्योंकि इस नए कार्ड में पूरी जन्म तारीख छापी गई है। ऐसे में कंपनियों के प्रतिनिधि सलाह दे रहे हैं कि या तो पुराने फॉर्मेट वाले आधार कार्ड की प्रति दी जाए या फिर नंबर बंद करवा दिया जाए।

    अपडेट करवा लें

    यूनिक आइडेंटिटी अथॉरिटी ऑफ इंडिया के सर्विस प्रोवाइडर कंपनी ओसवाल कम्प्यूटर के डायरेक्टर भगवतसिंह नागौरी के मुताबिक पहले सरकार ने आधार के रजिस्ट्रेशन फॉर्मेट में सिर्फ जन्म वर्ष का विकल्प रखा था। इसके पीछे सोच थी कि देश में कई लोग ऐसे हैं जिन्हें अपने जन्म की तारीख सही पता नहीं है। ऐसे में उनका रजिस्ट्रेशन रुके नहीं। बाद में फॉर्मेट में पूरी तारीख डाल दी गई। ऐसे केस में डेटा मेल नहीं खा रहा। सुझाव है कि ऐसे में आधार अपडेट करवाएं। साथ ही पुराने कार्ड के डेटा का पीडीएफ भी अपने पास सेव कर रख लें।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें