Naidunia
    Tuesday, August 22, 2017
    PreviousNext

    स्पॉट फाइन करने वाली ही फैला रहे मलबा और निर्माण सामग्री

    Published: Fri, 19 May 2017 08:55 PM (IST) | Updated: Sat, 20 May 2017 07:28 AM (IST)
    By: Editorial Team
    indore road 19 05 2017

    इंदौर। जो नगर निगम सामग्री सड़क पर फैलाने पर शहर के नागरिकों, भवन निर्माताओं और बिल्डिंग मटेरियल विक्रेताओं की सामग्री जब्त कर उनसे दंड वसूल रहा है, वह खुद भी यही 'अपराध" करता है। निगम का जो अमला सड़कों पर फाइन करते घूम रहा है, उसे जनता द्वारा रखी गई सामग्री तो दिखाई देती है लेकिन निगम या उसके ठेकेदारों द्वारा जहां-तहां पटकी गई सामग्री या अन्य सामान नहीं दिखाई देता।

    इस दोहरे रवैए से दुकानदार-व्यापारियों के अलावा वे नागरिक भी परेशान हो रहे हैं जिनके मकान बन रहे हैं। लोगों का कहना है कि मकान बनाने के लिए उन्हें सड़क के आसपास की जगह पर ही मटेरियल रखना होगा। इसके लिए वे खाली जमीन कहां से लाएं?

    शहर के तकरीबन हर छोटे-बड़े हिस्से में नगर निगम के विकास कार्य हो रहे हैं। कहीं पाइप डालने के लिए सड़क खोद दी गई है और मलबा वहीं पटक दिया गया है तो कहीं बड़े-बड़े पाइप लंबे समय से पड़े हैं। कहीं निर्माण के लिए रेती-गिट्टी बीच सड़क में पटक दी गई है तो कहीं लाइन के लिए सड़क खोदने के बाद मिट्टी सड़क पर फैली हुई है। कॉलोनियों की भीतरी सड़कों के साथ प्रमुख मार्गों पर भी ये नजारे देखे जा सकते हैं। पॉश कॉलोनियों में हो रहे निर्माण कार्य में ऐसी ही लापरवाही बरती जा रही है, लेकिन इन सब बातों पर निगम के कर्ताधर्ता खामोश हैं।

    इन क्षेत्रों में फैला पड़ा है निगम का मटेरियल

    पूर्वी रिंग रोड- पूर्वी रिंग रोड पर सिटी बस डिपो के सामने नए डिवाइडर बनाए जा रहे हैं। निगम ने वहां सड़क के बीचोबीच रेत-गिट्टी तो फैलाई ही है, एक जगह पानी का टैंक भी रख दिया है। जिस हिस्से में मटेरियल पटका गया है, वहां कुछ दिन पहले ही रोड बनाई गई है।

    * बीआरटीएस कॉरिडोर पर एलआईजी चौराहे से एमआर-9 जंक्शन के बीच भी कुछ पाइप सड़क किनारे पड़े हुए हैं।

    * साकेत नगर मेनरोड और रहवासी क्षेत्र में भी कई तरह के काम हो रहे हैं। कहीं खुदाई के बाद मिट्टी फैला दी गई है तो कहीं पाइप पड़े हैं। एक जगह पाइप के लिए सीमेंट-कांक्रीट की सड़क खोदी गई है और उसका मलबा वहीं पटक दिया गया है।

    * खजराना मेनरोड के श्रीनगर जंक्शन पर कुछ दिन पहले नई इंटरलॉकिंग टाइल्स लगाने का काम किया गया था। अब यह काम पूरा हो गया है। ठेकेदार ने उखाड़ी गई टाइल्स के कई पीस और टूटी-फूटी टाइल्स के टुकड़े निगम के डस्टबिन के पास पटक दिए हैं।

    * रसोमा लेब से भमोरी होते हुए एमआर-9 को जोड़ने वाली रोड पर मनमंदिर टॉकिज के पास कई साल से पाइप पड़े हुए हैं लेकिन निगम को उन्हें वहां से हटाने की फुर्सत नहीं है।

    * फूटी कोठी रोड पर कुछ दिन पहले डिवाइडर निर्माण कार्य के लिए सड़क पर रेती आदि मटेरियल पटक दिया गया था।

    आम जनता के कार्यों और निजी निर्माणों में अंतर है

    इस संबंध में महापौर मालिनी गौड़ का कहना है कि निगम केवल मुख्य मार्गों पर बिल्डिंग मटेरियल फैलाने वालों पर कार्रवाई कर रहा है, जिससे ट्रैफिक अवरुद्ध होता है। इसके अलावा ऐसे विक्रेताओं पर कार्रवाई हो रही है जिनका कुछ न कुछ मटेरियल स्थायी रूप से सड़क या सड़क किनारे पड़ा रहता है। निगम द्वारा किए जाने वाले आम जनता के कार्यों और निजी निर्माणों में अंतर है। पाइप लाइन डालने के लिए सड़क खोदना जरूरी है।

    वैसे भी निगम के काम कुछ महीने में खत्म हो जाते हैं। इसके बावजूद लापरवाही बरतने वाले ठेकेदारों को लगातार बचा मटेरियल या मलबा हटाने के लिए कहा जाता है। इस बारे में फिर दिशा-निर्देश दिए गए हैं। कहीं सड़क के बीच में मटेरियल रखना जरूरी होगा तो वहां भी सुरक्षा इंतजाम करने के लिए ठेकेदारों को सख्ती से ताकीद करेंगे।

    जहां तक निगम द्वारा वसूले जाने वाले पटरी शुल्क का सवाल है, पटरी सड़क से घर की सीमा के बीच का हिस्सा होती है। अलग-अलग सड़कों पर तीन से आठ फीट तक की पटरी होती है। निगम केवल उन लोगों के फाइन कर रहा है, जिनका मटेरियल सड़क को बाधित कर रहा हो।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें