Naidunia
    Tuesday, November 21, 2017
    PreviousNext

    ऐसी झिल्ली बना दी कि हड्डी के टुकड़े भी जुड़ जाएंगे

    Published: Fri, 14 Jul 2017 03:49 AM (IST) | Updated: Fri, 14 Jul 2017 09:14 PM (IST)
    By: Editorial Team
    broken leg jabalpur 2017714 134650 14 07 2017

    जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। यदि किसी मरीज की हड्डी में फ्रैक्चर है तो उसका आपरेशन अब नई तकनीक से संभव है। इसमें मैश से हड्डी का निर्माण किया जाता है। इससे नई हड्डी बन जाएगी। इस तरह की रिसर्च नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेडिकल कॉलेज के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. सचिन उपाध्याय ने की है। इस तकनीक का उपयोग अब तक तीन मरीजों के आपरेशन में किया जा चुका है।

    ये है तकनीक

    मैश से हड्डी बनाने वाली झिल्ली का सृजन डॉ. सचिन उपाध्याय ने किया। इस तकनीक को देश के बाहर भी सराहा गया। डॉ. उपाध्याय ने इसका प्रकाशन इंटरनेशनल जर्नल में कराया। इस तकनीक में नयी हड्डी बनाने के साथ ही बोन ग्राफ्ट भी किया जा सकता है। यह हड्डी बनाने वाले कई प्रकार के ग्रोथ फैक्टर का स्त्राव करती है। इसका उपयोग ओपन फ्रैक्चर, गैप नान यूनियन, अस्थि कैंसर में किया जा सकता है। इसे मेडिकल अस्पताल में निःशुल्क किया।

    तिरछा पैर हो गया सीधा

    एक्सीडेंट में रीवा निवासी रामदास यादव की दाहिने पैर की हड्डी टूट गई थी। इससे उसका पैर तिरछा हो गया। इसका इलाज उसने रीवा मेडिकल अस्पताल में कराया लेकिन दस माह इलाज कराने के बाद भी उसे फायदा नहीं मिला। उसके पैर का तिरछापन बढ़ता गया। रामदास ने मेडिकल अस्पताल जबलपुर के अस्थि रोग विभाग में जब जांच कराई तो अस्थि रोग विशेषज्ञ डॉ. सचिन उपाध्याय ने पाया कि मरीज में गैप नान यूनियन के साथ पैर में तिरछापन है और स्किन की स्थिति भी ठीक नहीं है। इससे मरीज चलने में दिक्कत महसूस कर रहा है। जांच के बाद उसका आपरेशन मैश बनाने की तकनीक से आपरेट किया। आपरेशन के बाद मरीज अपने पैरों पर खड़ा हो सका।

    मैश से हड्डी का सृजन करने की तकनीक पर रिसर्च मैंने किया है। इस तकनीक का उपयोग अभी तक तीन मरीजों पर किया है। वे सभी स्वस्थ हैं। -डॉ. सचिन उपाध्याय, असिस्टेंट प्रोफेसर, अस्थि रोग विभाग, मेडिकल कॉलेज जबलपुर

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें