Naidunia
    Saturday, September 23, 2017
    PreviousNext

    झाबुआ जिला अस्पताल में 5 महीने में 60 बच्चों की मौत

    Published: Wed, 13 Sep 2017 09:28 PM (IST) | Updated: Thu, 14 Sep 2017 08:22 AM (IST)
    By: Editorial Team
    jhabua hospital 13 09 2017

    झाबुआ। जिला अस्पताल में नवजात शिशु गहन चिकित्सा इकाई (एसएनसीयू) में पांच माह में 60 बच्चों की मौत हो गई। ये आंकड़े 1 अप्रैल से 31 अगस्त तक के हैं। मृत बच्चों में से 40 ऐसे हैं, जिनका जन्म जिला अस्पताल में नहीं हुआ, बल्कि ये दूसरे अस्पतालों से रैफर होकर यहां आए थे।

    हर महीने औसत 12 बच्चों की मौत यहां हुई। इसके पीछे बड़ा कारण है, वो यह कि यहां भर्ती होने वाले बच्चों में से आधे से ज्यादा ऐसे हैं, जिनका जन्म 34 सप्ताह से पहले हो गया।

    पांच महीने में यहां 406 नवजात भर्ती किए गए। इनमें से 60 की मौत हो गई। इनमें जिला अस्पताल में जन्मे नवजातों की संख्या 20 और बाहर से लाए गए की संख्या 40 है। जिले में कम वजन के बच्चों की जन्म दर भी ज्यादा है। 406 में से 294 बच्चों का वजन ढाई किलोग्राम से कम था। इनमें से 7 का वजन एक किलोग्राम से भी कम मिला।

    अंधविश्‍वास बन रहा कारण

    बच्चों की इस तरह हो रही मौतों के पीछे अंध विश्वास और जागरूकता की कमी कारण बन रहे हैं। इसके अलावा गरीबी के कारण गर्भवती महिलाएं मजदूरी या दूसरे काम भी करती रहती हैं। ऐसे में समय पूर्व प्रसूति की आशंका बढ़ जाती है।

    एसएनसीयू की स्थिति

    -406 नवजात भर्ती हुए। इनमें से 114 जिला अस्पताल में जन्मे और 292 बाहर से लाए गए।

    -67 बच्चों काे भर्ती करते समय वजन डेढ़ किलो से कम था। इनमें से 7 का वजन एक किलोग्राम से भी कम निकला।

    -सिर्फ 3 बच्चों की प्रसूति 37 सप्ताह बाद हुई। 251 का जन्म 34 से 37 सप्ताह के बीच हुआ। 152 का जन्म 34 सप्ताह से पहले हो गया। ऐसे में जीवन बचने की संभावना काफी कम होती है।

    -60 में से 21 नवजात की मौत समय से पूर्व जन्म के कारण हो गई। ये सबसे बड़ा कारण रहा।

    कई बार हाथ में कुछ नहीं होता

    एसएनसीयू वर्ष 2016-17 में प्रदेश में अव्वल रहा। इस बार भी बेहतर काम कर रहे हैं। कई बार बच्चे इस स्थिति में आते हैं कि हमारे हाथ में कुछ नहीं रहता। खास तौर से बाहर से लाए जाने वाले बच्चों में उनके आने तक ज्यादा समय हो जाता है। फिर भी पूरी कोशिश करते हैं कि जान बचाई जा सके।

    -डॉ. आईएस चौहान, प्रभारी, एसएनसीयू, जिला अस्पताल, झाबुआ

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें