Naidunia
    Sunday, October 22, 2017
    PreviousNext

    आपसी सुलह-समझौते से होगा मामलों का निपटारा

    Published: Fri, 13 Oct 2017 05:22 PM (IST) | Updated: Fri, 13 Oct 2017 05:22 PM (IST)
    By: Editorial Team

    आपसी सुलह-समझौते से

    होगा मामलों का निपटारा

    -नेशनल लोक अदालत 9 दिसंबर को

    झाबुआ। नईदुनिया प्रतिनिधि

    राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार तथा जिला न्यायाधीश एके तिवारी के मार्गदर्शन में जिला मुख्यालय व तहसील स्तर पर 9 दिसंबर को नेशनल लोक अदालत आयोजित की जाएगी।

    जिला विधिक सहायता अधिकारी सिमोन सुलिया ने बताया कि नेशनल लोक अदालत में आपराधिक, शमनीय प्रकरण, बैंक रिकवरी संबंधी मामले, मोटर दुर्घटना क्षतिपूर्ति दावा प्रकरण, वैवाहिक प्रकरण, श्रम विवाद प्रकरण, भूमि अधिग्रहण के प्रकरण, विद्युत तथा जलकरबिल संबंधी प्रकरण आदि प्रकार के राजीनामा योग्य, न्यायालयों में लंबित प्रकरणों का निराकरण आपसी सुलह व समझौते के आधार पर किया जाएगा। प्री-लिटिगेशन के रूप में चैक बाउंस, बैंक वसूली, बिजली व जलकर के प्रकरण तथा अन्य प्रकरण जैसे आपराधिकेह, शमनीय, वैवाहिक व अन्य सिविल प्रकरणों का निराकरण भी आपसी सुलह व समझौते के आधार पर किया जाएगा। लोक अदालत में प्रकरणों के निराकरण करवाने पर पक्षकारों के मध्य आपसी सद्भाव उत्पन्न होगी व शत्रुता समाप्त होगी। समय, धन व श्रम की बचत होगी। पक्षकारों के मध्य विवाद हमेशा के लिए समाप्त हो जाता है। सिविल मामलों का निराकरण होने पर नियमानुसार न्यायालय फीस वापस लौटाई जाती है। पक्षकारों अपील है कि वे लोक अदालत में अपने प्रकरण का सुलह समझौते के माध्यम से निराकरण करवाएं।

    भीतर छुपी बुराइयों को कम करने का करवाया अभ्यास

    झाबुआ। उप संचालक सामाजिक न्याय कार्यालय झाबुआ के शासकीय सेवकों के लिए गुरूवार को अल्प विराम कार्यक्रम का आयोजन किया गया। अल्प विराम कार्यक्रम में शासकीय अधिकारी व कर्मचारियों के व्यवहार और विचारों को और अधिक सकारात्मक करने के लिए अपने आपको पहचानने, अपने अंदर छुपी अच्छाइयों को और अधिक बढ़ाने तथा अपने अंदर की बुराइयों को धीरे-धीरे कम करने के लिए अभ्यास करवाया गया। कार्यक्रम में बताया गया कि कैसे हम अपने अंदर छोटे-छोटे बदलाव करके स्वयं को खुश रख सकते है। स्वयं की आदतों में परिवर्तन करना कष्टप्रद होता है, किंतु बुरी आदतों का त्याग कर दिया जाए व स्वयं को समय की मांग अनुसार परिवर्तित कर लिया जाए तो जीवन में समस्याएं कुछ कम हो सकती है औेर जीवन बेहतर बन सकता है। संचालन नोडल अधिकारी आनंद विभाग व उप संचालक जनसंपर्क अनुराधा गहरवाल ने किया।

    और जानें :  # jhabua news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें