Naidunia
    Saturday, November 25, 2017
    PreviousNext

    'तड़वी-पटेल सामाजिक कुरीतियों पर अंकुश लगाएं'

    Published: Wed, 15 Nov 2017 06:39 PM (IST) | Updated: Wed, 15 Nov 2017 06:39 PM (IST)
    By: Editorial Team

    'तड़वी-पटेल सामाजिक कुरीतियों पर अंकुश लगाएं'

    झाबुआ। नईदुनिया प्रतिनिधि

    दहेज दापा कम करें। बालिका का विवाह 18 वर्ष से पहले न करें तथा शिक्षा पूर्ण करवाएं। शासन द्वारा बालिकाओं की पढ़ाई के लिए हर विकासखंड में कन्या शिक्षा परिसर खोले गए हैं, जहां बालिकाओं के रहने, खाने तथा शिक्षा की पूरी व्यवस्था की गई है। उन्हें वहां प्रवेश दिलवाएं। गांव में शासकीय भवन जो किसी विभाग द्वारा उपयोग में नहीं किया जाता है, उसे अपना कार्यालय बनाएं। कोटवार के साथ मिलकर समाज को सुधारने के लिए काम करें।

    यह बात पैलेस गार्डन में बुधवार को महिला सशक्तिकरण के लिए सामाजिक क्षेत्र के प्रभावी तड़वी पटेल का सहयोग लेने के लिए तड़वी पटेल सम्मेलन में कलेक्टर आशीष सक्सेना ने कही उन्होंने कहा कि ग्रामीण अपने बच्चों का 6 से 18 वर्ष की उम्र तक अच्छे से पालन-पोषण करें। उन्हें समझाएं कि कम उम्र में विवाह न करे। बच्चे अपनी पढ़ाई पूरी करके अच्छी नौकरी प्राप्त करने के बाद ही विवाह करे ताकि जीवन अच्छा हो सके। समाज की रीति नीति बदलना प्रशासन से संभव नहीं है, यह काम तड़वी-पटेल ही कर सकते है। समाज में चल रही कुरीतियों से समाज का विकास रूकता है। उन को दूर करने के लिए प्रयास करे ताकि समाज में सुधार आए।

    योजना का लाभ लें

    गांव के मजदूर शासन की भवन सह अन्य निर्माण कर्मकार मंडल योजना में पंजीयन करवाकर योजना का लाभ ले। कर्मकार मंडल योजना में लड़की का विवाह करने के लिए 25 हजार रुपए प्रति कन्या अनुदान दिया जाता है। योजना का लाभ लेने के लिए 18 वर्ष से अधिक उम्र में लडकी का विवाह करे।

    जीवन निर्वाहन अच्छा हो

    पुलिस अधीक्षक महेशचंद जैन ने कहा कि जिले में अभी भी अशिक्षा की वजह से कई अपराध घटित हो रहे है। बालिका पढ़ नहीं पाती, इसलिए वह अपना भला-बुरा नहीं समझ पाती। सभी तड़वी-पटेल व कोटवार यह प्रण करे कि बालक-बालिकाओं की पढ़ाई पूरी करवाने के बाद ही उनका विवाह करवाएंगे। जिससे वह अपना जीवन निर्वाह अच्छे से कर पाए। कार्यक्रम में तड़वी-पटेल ने भी अपने अनुभव साझा किए। अपनी बात करते हुए कहा कि दहेज-दापा समाजहित में अच्छा नहीं है। यह समझाने के बाद भी जो लोग विवाह में अधिक दहेज ले रहे है, उनके विरूद्ध प्रशासन कानूनी कार्रवाई की जाए। सजा के डर से दहेज-दापा पर अंकुश लगे। इस दौरान एसडीएम झाबुआ केसी परते, अशफाक अली, एसआर परिहार, आरएस बघेल, शक्तिसिंह चौहान, राजेश गुप्ता आदि उपस्थित थे।

    मेघनगर में भी होगा सम्मेलन

    जिले में सामाजिक कुरीतियों व दहेज-दापा पर अंकुश लगाने के लिए तड़वी- पटेल के सम्मेलन आयोजित किए जा रहे है। प्रस्तावित कार्यक्रम अनुसार 17 नवम्बर को मेघनगर में, 22 नवंबर को थांदला तथा 25 नवंबर को पेटलावद में सम्मेलन आयोजित किए जाएगे। सम्मेलन में संबंधित विकासखंड स्तरीय अधिकारी, चौकीदार, महिला बाल विकास तथा स्वास्थ्य विभाग के सुपरवाइजर भी उपस्थित रहेगे।

    और जानें :  # jhabua news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें