Naidunia
    Tuesday, September 19, 2017
    PreviousNext

    डेढ़ सौ बिस्तरों की स्वीकृति, भवन की कमी होने से नहीं बढ़ पा रहे बेड

    Published: Wed, 13 Sep 2017 11:23 PM (IST) | Updated: Wed, 13 Sep 2017 11:23 PM (IST)
    By: Editorial Team

    कटनी। नईदुनिया प्रतिनिधि

    जिला अस्पताल में मरीजों को बुनियादी सुविधाएं तक नसीब नहीं हो रही है। मरीजों की संख्या में बढ़ने से जिला अस्पताल में दो सौ बैड भरे हुए हैं। जिसके कारण बढ़े हुए मरीजों को फर्स पर इलाज कराना पड़ रहा है। जिला अस्पताल में डेढ़ सौ बेड बढ़ाने की स्वीकृति भी मिल चुकी है, लेकिन बेड रखने के लिए नए भवन का इंतजार हैं। नए भवन की प्रक्रिया वर्तमान में ड्राइंग डिजाइन तक पहुंच गई। इसके बाद टेंडर प्रक्रिया होगी और जब टेंडर होगा, तब भवन का निर्माण होगा और उसके बाद जिला अस्पताल में बेड की संख्या बढ़कर साढ़े तीन सौ हो जाएगी। लेकिन इस पूरी प्रक्रिया में अभी काफी समय लगेगा। तब तक के लिए जिला अस्पताल में किसी तरह के विकल्प की उम्मीद नहीं है। मरीजों को फर्स पर ही इलाज करना पड़ेगा।

    ड्राइंग डिजाइन का चल रहा काम

    मुड़वारा विधायक संदीप जायसवाल ने बताया कि जिला अस्पताल में वर्तमान में दो सौ बेड की सुविधा उपलब्ध है। डेढ़ बिस्तरों को बढ़ाए जाने की मांग को स्वीकृति मिली गई है। इसके लिए ड्राइंग डिजाइन का कार्य वर्तमान चल रहा है। जिसके बाद आगे की प्रक्रिया की जाएगी। जिला अस्पताल में भर्ती हो रही मरीजों को गर्मी से परेशानी नहीं हो इसके लिए सेंट्रल कूलर या फिर एसी लगाए जाने के लिए भी कहा गया है। जल्द ही इसे पूरा कराया जाएगा।

    निरीक्षण के बाद भी सुधार नहीं

    जिला अस्पताल में व्यवस्थाओं के सुधार के लिए कलेक्टर द्वारा प्रशासनिक अधिकारियों को प्रतिदिन निरीक्षण करने के लिए कहा गया है। जिसके बाद हर दिन कोई न कोई अधिकारी जिला अस्पताल का निरीक्षण करता है। बावजूद इसके अस्पताल की व्यवस्था में कोई खास बदलाव नहीं दिख रहा है। अव्यवस्था के कारण मरीजों को परेशानी भी होती है। सफाई व्यवस्था बेहतर नहीं होने के कारण गंदगी का आलम रहता है। हालांकि सफाई व्यवस्था की मॉनीटरिंग की जाती है।

    सर्दी, खांसी, बुखार के मरीज

    जिला अस्पताल में इन दिनों सर्दी, खांसी और बुखार के मरीज बढ़े हुए हैं। ओपीडी में पिछले एक सप्ताह से 4 सौ से 5 सौ मरीज आते हैं। इनमें से कई मरीज जिला अस्पताल में भर्ती होते हैं। जिला अस्पताल के वार्ड की स्थिति का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है बैड के बीच में जो खाली स्थान रहता है वहां पर बिस्तर बिछाकर मरीजों का इलाज किया जा रहा है। कुछ मरीजों के लिए वार्ड के अंदर भी स्थान नहीं रहता है। जिसके कारण वार्ड के बाहर बने परिसर में फर्स पर इलाज कराना पड़ रहा है। ग्रामीण स्वास्थ्य सेवाओं के खराब होने के कारण ग्रामीण क्षेत्रों से बड़ी संख्या में मरीज जिला अस्पताल आ रहे हैं।

    और जानें :  # ktn news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें