Naidunia
    Tuesday, August 22, 2017
    PreviousNext

    महिलाओं ने शराब दुकान में आग लगाई

    Published: Fri, 21 Apr 2017 08:57 PM (IST) | Updated: Fri, 21 Apr 2017 08:57 PM (IST)
    By: Editorial Team

    -निपानिया में लगभग 4 लाख रुपए मूल्य की शराब नष्ट, गांव में बढ़ती शराबखोरी से दुखी हो गई थी महिलाएं

    21 एमडीएस-77

    केप्शनः नयाखेड़ा निपानिया में आग में जलती शराब की पेटियां।

    21 एमडीएस-78

    केप्शनः शराब दुकान के कर्मचारी व पुलिसकर्मी आग बुझाने की कोशिश करते हुए।

    21 एमडीएस-79

    केप्शनः मौके पर मौजूद महिलाओं से चर्चा करते वायडी नगर थाना प्रभारी शर्मा।

    21 एमडीएस-80

    केप्शनः दुकान के बाहर फेंकी गई शराब की पेटियों को देखते सीएसपी व अन्य।

    मंदसौर। नईदुनिया प्रतिनिधि

    सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के बाद नयाखेड़ा स्थित महू-नीमच राजमार्ग से हटी देशी शराब की दुकान ग्राम निपानिया मेघराज की तरफ अस्थायी शेड बनाकर संचालित की जा रही थी। शुक्रवार शाम 6 बजे वहां पहुंचे महिलाओं के समूह ने दुकान पर पत्थर मारकर सेल्समैन को भगा दिया और फिर वहां रखी शराब की पेटियों को भी बाहर फेंक दिया। साथ ही दुकान के अंदर रखी शराब की पेटियों में आग लगा दी। सीएसपी सांईकृष्ण थोटे सहित वायडी नगर पुलिस बल मौके पर पहुंचा और शराब दुकान कर्मचारियों की मदद से आग बुझाने की कोशिश की। सेल्समैन के अनुसार, दुकान में लगभग 4 लाख रुपए मूल्य की शराब थी। महिलाएं गांव में बढ़ती शराबखोरी से परेशान थीं।

    महिलाओं का गुस्सा ठंडा होने के बाद सेल्समैन व उसके सहयोगियों ने आग बुझाने की कोशिश की। इससे उनका सामान पेटियों और वहां रखे कर्मचारियों के बिस्तर भी जल गए। महिलाओं का आक्रोश पुलिस के सामने भी ठंडा नहीं हुआ।

    महिलाओं का कहना है कि पहले तो दुकान राजमार्ग पर नयाखेड़ा में थी। अब यह राजमार्ग से हटकर ग्राम निपानिया मेघराज की तरफ आ रहे रास्ते पर लग गई है। गांव में युवाओं व अन्य लोगों में शराबखोरी की प्रवृत्ति बढ़ती ही जा रही है। महिलाएं दिनभर मजदूरी करने जा रही है और उनके पति-बेटे इस कमाई को शराब में उड़ा रहे हैं। रुपए नहीं देने पर पत्नी, बच्चों व माता-पिता से ही मारपीट कर रहे हैं। इसे लेकर काफी दिनों से मन में गुस्सा था, जो शुक्रवार शाम को फूट पड़ा। वर्जन...

    21 एमडीएस-87

    केप्शनः दुर्गाकुंवर

    हमारा बेटा दारू पीकर परेशान कर रहा है। पत्नी को मारता है, बेटे-बेटी को मारता है और हमें भी मारता है। पूरा परिवार परेशान हो रहा है। आज बेटे को रोटी खाए 10 दिन हो गए हैं तो क्या करें। हम सभी ने मिलकर आग लगा दी। - दुर्गाकुंवर, निपानिया मेघराज

    21 एमडीएस-88

    केप्शनः तुलसाबाई

    हम दिनभर मजदूरी करते हैं और हमारे पति दिनभर शराब पीकर रुपए उड़ा रहे हैं, तो परिवार कैसे पाले। बच्चों को क्या खिलाए। हमने दुकानदार को हटाने को कहा तो वह गल्ला लेकर भाग गया। इस पर हमने तोड़-फोड़ कर दी और आग लगा दी।

    -तुलसाबाई, निपानिया मेघराज

    21 एमडीएस-89

    केप्शनः राघवेंद्रसिंह

    100-150 महिलाएं आई और पत्थर मारने लगी। मैंने कहा कि दुकान बंद कर रहा हूं तो मुझे पत्थर मारने लगी। मैं वहां से 2500 रुपए कैश लेकर भागा। वापस आया तो दुकान में आग लगी थी।

    - राघवेंद्रसिंह, सेल्समैन, शराब दुकान

    बॉक्स

    21 एमडीएस-90

    कैप्शनः सांईकृष्ण

    अभी तक यह कन्फर्म नहीं है कि आग किसने लगाई है। शराब दुकान में आग लगाने वालों की जांच के बाद ही मामला दर्ज किया जाएगा। कितना नुकसान हुआ है, अभी यह भी नहीं बता सकते हैं।- सांईकृष्ण थोटे, सीएसपी।

    और जानें :  # mandsaur news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें