Naidunia
    Thursday, December 14, 2017
    PreviousNext

    डूब प्रभावित क्षेत्र संबंधी स्थिति स्पष्ट करें

    Published: Wed, 13 Sep 2017 11:37 PM (IST) | Updated: Wed, 13 Sep 2017 11:37 PM (IST)
    By: Editorial Team

    मंदसौर। नईदुनिया प्रतिनिधि

    चौंसला ग्राम में शिवना पर डेम परियोजना में 50 गांव डूबने की आशंका के कारण बुधवार को कई ग्रामों के सैकड़ों ग्रामीण मंदसौर पहुंचे। यहां उन्होंने डेम और डूब की स्थिति स्पष्ट करने की मांग करते हुए किसानों के हित में उचित निर्णण लेने के लिए कलेक्टोरेट पहुंच एसडीएम एसएल शाक्य, विधायक यशपालसिंह सिसौदिया, जल संसाधन विभाग ईई सहित अन्य अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों को ज्ञापन सौंपे।

    शैतानसिंह, बद्री धनगर, जयराजसिंह, नरेंद्रसिंह, ज्ञानेंद्रसिंह, भेरूसिंह, महेंद्रपालसिंह, रामलाल, भवानीप्रताप सिंह सहित सैकड़ों ग्रामीणों ने बताया कि शिवना नदी पर चौंसला में डेम निर्माण की प्रस्तावित योजना के अंतर्गत कितने डूब क्षेत्र और कितने गांव डूब प्रभावित होंगे। इसे लेकर असमंजस है। समाचार पत्रों में डेम की अनुमानित ऊंचाई 30-35 मीटर बताई जा रही है, जिससे राजस्थान के लगभग 25 से 30 गांव और मप्र के 15 से 16 गांव डूबने की आशंका जताई जा रही है। इससे ग्रामीणों में विस्थापन व डूब का भय बना हुआ है। ग्रामीणों ने कहा कि इतने गांव प्रभावित हो रहे है तो इसकी जगह छोटे-छोटे छह डेम बनाएं जाए जिससे विस्थापन की समस्या ना हो। शिवना पर पहले भी 6 से 7 डेम बने हुए है। ग्रामीणों ने डेम निर्माण व उससे डूब क्षेत्र की स्थिति को स्पष्ट करने की मांग की।

    मप्र का कोई गांव

    डूब में नहीं आएगा

    ग्रामीणों के ज्ञापन के बाद शाम को जल संसाधन विभाग के ईई बीएल निनामा ने बताया कि शिवना नदी पर चौंसला के पास बांध निर्माण के लिए जुलाई में अधिकारियों के साथ निरीक्षण किया था। प्रथम दृष्ट्या अध्ययन के आधार पर इस योजना में लगभग 25 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई प्रस्तावित है। डूब में लगभग 4 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में जलभराव होगा, जिसमें राजस्थान राज्य का लगभग 2 हजार 500 हेक्टेयर रकबा और मप्र राज्य का 1 हजार 500 हेक्टेयर रकबा शामिल होगा। राजस्थान के 5 गांव डूब में आएंगे, किन्तु मप्र राज्य का कोई भी गांव डूब में नहीं आएगा। 50 गांव डूब वाली बातें केवल अफवाह है, इसके बाद भी परियोजना का विरोध किया जाता है तो इसे निरस्त किया जाएगा।

    और जानें :  # mandsaur news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें