Naidunia
    Tuesday, May 23, 2017
    PreviousNext

    अस्पताल में सौंदर्यीकरण की खुल रही पोल

    Published: Sat, 18 Feb 2017 12:36 AM (IST) | Updated: Sat, 18 Feb 2017 12:36 AM (IST)
    By: Editorial Team

    कमरों में गिर रहा शौचालयों का गंदा पानी

    महू। शासकीय आंबेडकर अस्पताल देखने में तो साफ-सुथरा व रंगरोगन किया हुआ लगता है, लेकिन अंदर जाकर देखने में हकीकत कुछ और ही है। प्रथम मंजिल पर बने शौचालयों का गंदा पानी नीचे के कमरों में गिर रहा है। इससे नीचे कमरों में रखी दवा खराब हो रही है। सफाई कर्मियों के अभाव में सफाई भी नहीं हो पाती।

    बताया जाता है कि ऊपरी मंजिल के शौचालय का पाइप टूटने के कारण यह गंदा कमरों में जा रहा है। इसके अलावा इंजेक्शन कक्ष में भी ऊपरी मंजिल का पानी गिर रहा है।

    अस्पताल में अन्य समस्याएं भी हैं। महिला शौचालयों के दरवाजे खराब होने के कारण पूरी तरह बंद नहीं हो पाते। कुपोषित विभाग के पास बने दो शौचालयों को सफाई कर्मी के अभाव में वर्षो से खोला तक नहीं गया। आयुष चिकित्सक के कक्ष में दवाई रखी होने के कारण उसका उपयोग चिकित्सक नहीं कर पा रही हैं। साथ ही आयुष कक्ष में भी महीनों से साफ-सफाई नहीं हुई।

    बताया जाता है कि कुछ माह पूर्व ही अस्पताल की मरम्मत व रंगरोगन पर 32 लाख रु. खर्च किया गया। इस राशि से रंगरोगन, कुछ स्थानों पर मरम्मत, पानी निकासी के लिए पाइप डाले गए, खिड़कियां, दरवाजे बदले गए। अस्पताल परिसर में टाइल्स लगाई गई, जबकि सेंटर के खुले परिसर में कोटा स्टोन लगाई गई। साथ ही स्टाफ क्वार्टर में भी मरम्मत कार्य किया गया। बाहर पेवर ब्लॉक लगाए गए।

    कई बार ठीक कराया

    शौचालयों को कई बार ठीक कराया गया। रोगी व उनके परिजन गंदगी व कचरा इसमें डाल देते हैं जिसके फंसने के कारण यह स्थिति बार-बार बन जाती है।

    -डॉ. हंसराज वर्मा, प्रभारी शासकीय अस्पताल महू

    और जानें :  # mhow news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी