Naidunia
    Sunday, February 19, 2017
    PreviousNext

    हाट मैदान में रौनक, सब्जी मंडी में सन्नााटा

    Published: Sat, 18 Feb 2017 12:37 AM (IST) | Updated: Sat, 18 Feb 2017 12:37 AM (IST)
    By: Editorial Team

    महू। डोंगरगांव मंडी प्रांगण में सब्जी मंडी बने हुए तीन साल हो गए हैं, लेकिन अब तक यहां एक बार भी सब्जी नहीं बिक सकी। किसान अपनी सब्जी हाट मैदान में लेकर आते हैं और यहीं नाले किनारे सब्जी बेची जाती है। किसान संघ ने तो आरोप लगाया है कि मंडी हाट मैदान में एजेंटों को किसानों से एडवांस के रूप में अच्छा कमीशन मिलता है।

    सुबह हाट मैदान में सब्जी मंडी अव्यवस्थित और बेतरतीब जगह पर लगती है। भारतीय किसान संघ के तहसील अध्यक्ष मोहनलाल पांडे ने आरोप लगाया कि किसानों को यहां आढ़तियों और कमीशन एजेंटों को 8 प्रश तक कमीशन देना होता है। वहीं यदि यह माल शासन की मंडी में जाता है तो वहां किसानों को किसी प्रकार का कमीशन नहीं देना होता। रोजाना आसपास के क्षेत्रों से सब्जियां लेकर 400-500 किसान महू आते हैं और सीजन के दौरान यह संख्या दोगुनी तक हो जाती है।

    किसान संघ इसके बारे में छावनी परिषद को लिख चुका है, लेकिन परिषद का जवाब है कि उन्हें इससे करीब 10 लाख रुपए सालाना का राजस्व मिलता है। कहा तो यह भी जा रहा है कि परिषद यहां से मंडी हटवाने की ऐवज में हर साल दस लाख रुपए एडवांस की मांग कर रही है और उन्हें यह हर साल दस प्रश बढ़ाकर चाहिए। पिछले वर्ष जारी किए गए एक पत्र में परिषद ने लिखा है कि उनके द्वारा बड़े पैमाने पर हाट मैदान सब्जी मंडी में विकास कार्य करवाए गए हैं। हाट मैदान मंडी की इकलौती सहूलियत यह है कि यह शहर के नजदीक है और डोंगरगांव एक किलोमीटर दूर।

    मंडी के लाभ और नुकसान

    यदि डोंगरगांव सब्जी मंडी शुरू होती है तो किसानों के साथ सभी लोगों को सुविधाएं मिलेंगी। यहां कमीशन एजेंटों को लाइसेंस लेना होगा और प्रचलित दरों पर कमीशन मिलेगा। जानकारी के मुताबिक ये दरें 3.5 से 4.5 प्रश तक हैं।

    डोंगरगांव मंडी में सुविधाएं

    चार करोड़ की लागत से तैयार मंडी में सर्व सुविधा युक्त परिसर, दो प्लेटफॉर्म शेड, बिजली व्यवस्था, रिटर्निंग वॉल आदि व्यवस्था है।

    यहां सबकुछ आसान है

    - हाट बाजार में सभी सुविधाएं हैं। बाजार पास में है। लोग यहां आना चाहते हैं और ऐसे में यहां व्यापार करना आसान है। -हरिलाल सैनी, अध्यक्ष, आढ़तिया संघ

    हम मना नहीं कर सकते

    - छावनी परिषद को हाट मैदान से अच्छा राजस्व मिलता है और हम भी वहां प्रबंध करते हैं। ऐसे में हमें कोई परेशानी नहीं है। वहां से हटाने पर हमारा नुकसान होगा। -मुकेश प्रजापति, राजस्व अधीक्षक

    हम तैयार हैं

    -0हम मंडी शुरू करने के लिए तैयार हैं। किसानों और व्यापारियों को आगे आना होगा। हमारे पास सभी सुविधाएं हैं। इससे लोगों को राहत मिलेगी। सब्जियां सस्ती होंगी। -दिलीप नागर, सचिव, महू उपज मंडी

    किसान ठगा जा रहा है

    -यहां किसान ठगा जा रहा है, हमें आवाज उठानी होगी। बिना किसी सुविधा के हम परेशान हो रहे हैं और इसका असर जनता तक जाता है। -मोहन पांडे, अध्यक्ष, भारतीय किसान संघ महू तहसील

    मंडी जल्दी जाएगी

    - हम इसके बारे में छावनी परिषद और स्टेशन कमांडर से भी बात कर चुके हैं। मंडी डोंगरगांव में जल्दी ही पहुंचाएंगे।- संदीप जीआर, एसडीएम, महू

    और जानें :  # mhow news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी