Naidunia
    Friday, November 24, 2017
    PreviousNext

    पतंग प्रतियोगिता में कलेक्टर ने भी उड़ाई पतंग

    Published: Sat, 14 Jan 2017 09:00 PM (IST) | Updated: Sat, 14 Jan 2017 09:00 PM (IST)
    By: Editorial Team

    रीवा। परम्परा के तहत मकर संक्रांति पर्व पर टीआरएस कॉलेज के खेल मैदान में पतंग प्रतियोगिता आयोजित की गई। जिसमें शहरभर के पतंगबाजों ने हिस्सा लेकर खींच और ढील प्रतियोगिता में पतंग को उड़ाने दी। हिन्दू उत्सव समिति धर्म परिसर द्वारा यह आयोजन किया गया था। इस प्रतियोगिता में 39 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया। जिसमें से खींच में 23 प्रतिभागी शामिल रहे। जबकि ढील प्रतियोगिता में 16 प्रतिभागियों ने पतंग को ढील दी। दोपहर ढाई बजे से प्रारंभ हुई पतंग प्रतियोगिता शाम साढ़े 4 बजे तक जारी रही। प्रतियोगिता में शामिल हुए कलेक्टर राहुल जैन भी पतंग की डोर हाथ में थामे हुए पतंग को ढील देते नजर आए।

    इस दौरान उन्होंने अपने बचपन को याद करते हुए कहा कि पतंग उड़ाने का आनंद ही कुछ और है। बचपन में जब पतंग उड़ाने का मौका मिलता है उस दौरान अपनी पतंग को ऊंचाई तक ले जाने और दूसरे की पतंग काटने का एक अलग ही मजा रहा है। आज भी बच्चों को जब वे पतंग उड़ाते देखते हैं तो अपना बचपना याद आता है।

    क्यों मकर में होती है प्रतियोगिता

    मकर संक्रांति पर पतंग प्रतियोगिता को लेकर हिन्दू उत्सव समिति के सुनील अग्रवाल ने बताया कि मकर राशि में सूर्य के प्रवेश होने पर हवा का जो वेग होता है वह पतंगबाजी के लिए अच्छा होता है। मकर से ही हल्की हवा एक बराबर दिशा में चलती है और यह समय पतंगबाजों के लिए बेहतर होता है। इससे पतंग को ढील देने और खींचने में आसानी होती है। कारण यह कि हवा के रुख से ही पतंग की उड़ान सही होती है और मकर में ही पतंग को उड़ान भरने के लिए सही हवा मिल पाती है।

    ये रहे मौजूद

    पतंग प्रतियोगिता में हिन्दू उत्सव समिति धर्म परिवार के सदस्य सहित डा. केके परौहा, पूर्व मंत्री महाराजा पुष्पराज सिंह, रिटायर अस्पताल अधीक्षक डा. सीबी शुक्ला, नारायण डिगवानी, सुनील अग्रवाल सहित धर्म परिवार के लोग न सिर्फ मौजूद रहे बल्कि शहर के गणमान्यजन एवं पतंग प्रेमियों ने भी हिस्सा लेकर इस प्रतियोगिता का आनंद उठाया।

    फोटो-22 - मैदान में पतंग उड़ाते कलेक्टर राहुल जैन।

    26 - प्रतियोगिता के दौरान पतंग लेकर तैयार छोटे पतंगबाज।

    और जानें :  # patang pratiyogita
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें