Naidunia
    Sunday, November 19, 2017
    PreviousNext

    यात्रियों की सुरक्षा के लिए अब एलएचबी कोच

    Published: Sat, 22 Apr 2017 03:58 AM (IST) | Updated: Sat, 22 Apr 2017 03:58 AM (IST)
    By: Editorial Team
    21rtm-22 22 04 2017

    पेज 2 -----(लीड)

    नए इंतजाम : रेलवे ने मंडल से परिचालित दो नई ट्रेन में जोड़े विशेष कोच -फ्लेग

    -हर नई ट्रेनों में हाईटेक कोच की कवायद

    रतलाम। नईदुनिया प्रतिनिधि

    हजारों यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए रेलवे ने अब हर नई ट्रेन में एलएचबी (लिंक हॉपमैन बुश) कोच के उपयोग की योजना बनाई है। यात्रियों को दुर्घटना से बचाने तथा सफर में पर्याप्त बर्थ उपलब्ध कराने के लिए यह कदम उठाए हैं। रेल मंडल में इसकी शुरुआत इसी माह से कर दी गई है। यहां से परिचालित दो नई ट्रेनों के रैक में भी इसी तरह के कोच जुड़े रहेंगे। दूसरी ओर मुंबई-दिल्ली मार्ग पर भी इस श्रेणी के कोच की ट्रेन चलाई जानी है। इसके लिए हाल ही में 24 कोच से जुड़ी ट्रेन के बांद्रा-बड़ौदा-नागदा के बीच 8 ट्रॉयल लिए गए। आगामी दिनों में इस मार्ग पर जब भी नई ट्रेन की घोषणा होगी। इस तरह के कोच ही जोड़े जाएंगे।

    एलएचबी कोच वाली पहली ट्रेन 20 अपै्रल को उद्घाटन के रूप में चलाई गई है। इसे 23 अपै्रल से नियमित सेवा के रूप में चलाया जाएगा। जबकि दूसरी ट्रेन इंदौर-नई दिल्ली सराय रोहिल्ला व्हाया फतेहाबाद होते हुए चलाई जाएगी। दोनों ही ट्रेनों में रेलवे ने 100 फीसदी एलएचबी कोच लगाना तय किया गया है। मामले में रेल अधिकारी बताते हैं कि आगामी दिनों में रेल मंडल से और भी नई ट्रेनों की सौगात मिलेगी। इसमें अब पुराने कोच कतई उपयोग नहीं किए जाएंगे। इसके लिए रेलवे कारखानों में पहले मांग के मुताबिक नए कोच का निर्माण किया गया। इसके बाद अब बारी-बारी से रैक में उपलब्ध कराए जा रहे हैं।

    -----बॉक्स----------

    120 गति में चलेगी ट्रेनें

    एलएचबी कोच में यात्रियों के लिए बर्थ की संख्या अधिक रहती है। इस मान से आकार के मान से ये बड़े रहते हैं। रेलवे ने इन्हें परिचालित करने से पहले ट्रॉयल लिए हैं। चूंकि मुंबई-नई दिल्ली मार्ग के रतलाम से गोधरा सेक्शन में कर्व तथा चढ़ाई है। इसके लिए 4 अपै्रल तथा बाद में 8 फेरों में ट्रॉयल लिए। ट्रेनों को 120 की गति में चलाकर जांच की गई कि रैक चलने लायक है या नहीं।

    यह रहेगा सामान्य कोच से अंतर

    कोच श्रेणी वर्तमान में बर्थ एलएचबी में बर्थ

    जनरल कोच 72 78

    सेकंड एसी 46 51

    थर्ड एसी 64 68

    कोच चलाने से यह होंगे लाभ

    -ट्रेन बेपटरी होने पर भी एलएचबी कोच रहने से ज्यादा क्षति नहीं होगी।

    -कोचों में दुर्घटना के दौरान जनहानि की आशंका नहीं रहेगी।

    -ट्रेन चलने के दौरान यात्रियों को ज्यादा झटके नहीं सहना पड़ेंगे।

    -इस वजह से यात्रियों को सफर के दौरान थकान महसूस नहीं होगी।

    रेलवे बोर्ड के निर्देश

    रेलवे बोर्ड के निर्देश पर अब नई ट्रेनों में सौ फीसदी एलएचबी कोच जोड़े जाएंगे। इनमें यात्रियों का सफर ज्यादा आरामदाही तथा सुरक्षित रहेगा। रेल मंडल में दो नई ट्रेनों में इसी तरह के कोच उपयोग किए जा रहे हैं।

    - जेके जयंत, जनसंपर्क अधिकारी, रतलाम

    21आरटीएम-22 : एलएचबी कोच।

    विजिलेंस के नाम पर टीटीई कर रहे अवैध वसूली!

    -मामला देहरादून एक्सपे्रस का, दर्जनों यात्रियों से वसूले हजारों रुपए

    -यात्रियों के मांगने पर भी टीटीई ने नहीं बनाई रसीद, आज होगी शिकायत

    रतलाम। नईदुनिया प्रतिनिधि

    देहरादून एक्सपे्रस में टीटीई द्वारा यात्रियों से विजिलेंस के नाम का हवाला देकर वसूली करने का मामला सामने आया है। टीटीई ने प्लेटफॉर्म पर यात्रियों को पहले जनरल टिकट पर यह कहते हुए बर्थ आवंटित कर दी कि ट्रेन में रसीद बनाई जाएगी, लेकिन बाद में उन्हीं यात्रियों से बगैर रसीद बनाए अनधिकृत रुपए वसूली कर ली गई। कुछ यात्रियों ने रसीद भी मांगी, लेकिन उन्हें रसीद नहीं दी गई। विजिलेंस के भय से ट्रेन में यात्री एक-दूसरे से पूछताछ करते रहे, जबकि ट्रेन में कोई विजिलेंस अधिकारी था ही नहीं। मामले में आज आला-अधिकारियों को शिकायत की जाएगी।

    बता दें कि कमर्शियल विभाग के अधिकारियों के मौखिक निर्देश के बाद भी ट्रेनों में यात्रियों से अवैध वसूली का धंधा थमा नहीं है। ट्रेन में टीटीई की जांच नहीं होने से यह काम उल्टा बढ़ने लगा है। शुक्रवार दोपहर करीब 2.15 बजे ट्रेन संख्या 19020 देहरादून एक्सपे्रस स्टेशन पर आई। तभी बड़ौदा तक स्लीपर ड्यूटी के लिए दो टीटीई प्लेटफॉर्म नंबर 4 स्थित जीआरपी सहायता बूथ के पास पहुंचे। इन्हें देखकर आसपास स्टेशनों के दर्जनों लोग हाथ में जनरल टिकट लेकर पहुंचे। तब टीटीई ने सख्ती से कहना शुरू किया कि ट्रेन में विजिलेंस है। सभी की कोच में रसीद बनाई जाएगी। यह कहते हुए सभी यात्रियों के टिकटों पर अलग-अलग कोच के नंबर डालकर दे दिए। नियम से ट्रेन में जुर्माना रसीद बनाई जाना थी। लेकिन ऐसा नहीं करते हुए टीटीई ने सभी से 50 से लेकर 200 रुपए वसूलना शुरू कर दिए। किसी भी यात्री को रसीद नहीं दी गई। जबकि कुछ यात्री तो इसी शर्त पर बैठे थे कि उन्हें डिफरेंस रसीद दे दी जाए। यात्री विष्णुचंद्र तथा तारादेवी ने बताया कि टीटीई ने उन्हें 75-75 रुपए की रसीद बनाने को कहा था। लेकिन उनसे 100 रुपए लेकर कोई रसीद नहीं दी गई। इसी तरह दाहोद के यात्री मूलचंद ने बताया कि उन्हें टीटीई ने विजिलेंस के नाम पर रसीद बनाने को कहा। रुपए ले लिए गए लेकिन रसीद नहीं दी। यात्री यात्रा से लौटकर आज रेल अधिकारियों को शिकायत करेंगे। उन्होंने सबूत के तौर पर टिकट भी संभाले हैं।

    ----बॉक्स-----

    प्रमुख ट्रेनों से घट रही आय

    ट्रेनों में इसी तरह अनाधिकृत यात्रियों को आरक्षित कोचों में प्रवेश कराने से रेलवे की इस साल आय का नुकसान झेलना पड़ा। फरवरी तक 15 करोड़ के लक्ष्य में 5 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। जबकि इसके बाद मार्च एवं अपै्रल में भी रेलवे यात्री आय में रेलवे पिछड़ा है। इसकी प्रमुख वजह नियम से जुर्माना वसूली कर रुपए रेलवे कोष में नहीं जमा कराना है। रेल मंडल को 1अपै्रल 2016 से लेकर 31 जनवरी 2017 तक 1405 करोड़ रुपए की ही आय मिली है। जबकि पिछले साल इस अवधि में आय 1542 करोड़ रुपए थी। रेलवे को 8.9 फीसदी आय का नुकसान उठाना पड़ा। जबकि अपै्रल में यात्री आय में 0.08 फीसदी का नुकसान हुआ है।

    इसलिए आय में आई कमी

    -यात्रियों को 100 रुपए से 300 रुपए में बर्थ आवंटित करना।

    -प्लेटफॉर्म पर बर्थ नंबर देकर चलती ट्रेन में वसूली।

    -इकट्ठा की गई राशि में से ही चुनिंदा रसीद बनाना।

    -प्लेटफॉर्म पर नियम बताकर ट्रेन में वसूली करना।

    दोनों से पूछताछ करेंगे

    19020 देहरादून एक्सप्रेस में स्लीपर कोच के दो टीटीई द्वारा विजिलेंस के नाम पर वसूली करने का मामला सामने आया है। दोनों टीटीई से आज पूछताछ की जाएगी। शिकायत मिलने और मामले में दोषी पाए जाने पर कड़ी कार्रवाई करेंगे।

    -अजय ठाकुर, डीसीएम, रतलाम मंडल

    ----------------------

    छुट्टी का आदेश नहीं

    माना, स्कूल खुले

    रतलाम। नईदुनिया प्रतिनिधि

    भीषण गर्मी को देखते हुए कलेक्टर बी चंद्रशेखर ने शुक्रवार से कक्षा 1 से 8वीं तक के स्कूलों की छुट्टी घोषित कर दी। इसके आदेश गुरुवार रात को ही जारी हो गए, लेकिन शहर के अधिकतर स्कूलों ने आदेश का पालन नहीं करते हुए स्कूल संचालित किए। गर्मी में विद्यार्थी परेशान होते रहे।

    प्रदेश में भीषण गर्मी को देखते हुए गुरुवार देर रात को स्कूल शिक्षा विभाग ने कक्षा 1 से 8वीं तक के स्कूलों की छुट्टी घोषित कर दी थी, जबकि कक्षा 9वीं से 12वीं तक के स्कूल सुबह 11 बजे तक संचालित करने के निर्देश दिए थे। इसके बावजूद शहर के बड़े सीबीएसई और निजी स्कूल खुले। स्कूल छोड़ने गए पालकों ने भी छुट्यी होने की बात बताई, लेकिन स्कूल संचालक नहीं माने। दोपहर में स्कूलों की छुट्टी होने पर कक्षा 1 से 8वीं तक के विद्यार्थियों की छुट्टी 29 अप्रैल तक होने की सूचना जारी की। साथ 1 जुलाई से स्कूल खुलने की भी जानकारी दी। निजी स्कूल संचालकों की माने तो गुरुवार का समय पर सूचना नहीं मिल पाई। सुबह जानकारी मिलने पर छुट्टी घोषित कर दी।

    ----------------------

    आज त्रिपोलिया गेट सहित कई क्षेत्रों में कटौती

    रतलाम। मानसून पूर्व मेंटेनेंस के कारण शनिवार को 11 केवी त्रिपोलिया गेट फीडर का मेंटेनेंस किया जाएगा। इस वजह से त्रिपोलिया गेट सहित आसपास क्षेत्रों में बिजली सप्लाय बंद रहेगा। इस बार बिजली कंपनी द्वारा दो चरणों में मेंटेनेंस किया गया। पहले क्रम में फीडर का कामकाम किया। जबकि दूसरी बार में अब फीडर से जुडे क्षेत्रों की लाइनों का रखारखाव किया जा रहा है। शनिवार को 11 केवी त्रिपोलिया गेट फीडर में सुबह 7 बजे से 12 बजे तक कामकाज किया जाएगा। इस वजह से संबंधित क्षेत्र संत नगर, त्रिवेणी तट शंकर मंदिर के पास, त्रिवेणी रोड, तेजा नगर, संत रविदास चौक, बालाजी नगर, करमदी रोड, आदर्श कल्याणगुरू नगर, भगतपुरी, अमृतसागर रोड, अमृतसागर बगीचा के सामने, अमृतसागर कॉलोनी, रामगढ़, हनुमान रूंडी, कसारा बाजार, सुनार बावड़ी, त्रिपोलिया गेट, बोहरा बाखल, कोटावाला बाग, सिलावटों का वास क्षेत्र में इस समय बिजली सप्लाय बंद रहेगा।

    कल कलेक्टोरेट फीडर में

    इसी तरह रविवार को 11 केवी कलेक्टोरेट फीडर का मानसून पूर्व मेंटेनेंस किया जाएगा। इस फीडर से संबंधित महू रोड, महू रोड बस स्टैंड, गुलमोहर कॉलोनी, गीता मंदिर रोड, यामाहा शोरूम, बजाज शोरूम, रंगोली मेरिज हॉल, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, लोकेंद्र भवन, स्टेशन रोड, फ्रीगंज, दो बत्ती, डाट की पुल, डीआरएम ऑफिस, होटल बालाजी पैलेस, पुलिस लाइन, रोटरी हॉल सहित आसपास क्षेत्रों में बिजली बंद रहेगी।

    ------------------------

    अतिथि प्राध्यापक गायब, पिता को नोटिस

    - मामला प्रोजेक्ट बनाने के नाम पर रुपए वसूल करने का

    रतलाम। नईदुनिया प्रतिनिधि

    कला एवं विज्ञान महाविद्यालय में प्रोजेक्ट बनाने के नाम पर रुपए लेने के मामले में अभी तक अतिथि प्राध्यापक राजीव पालीवाल का पता नहीं चल पाया है। वह घर पर भी नहीं है। इधर मामले के सामने आने के तीसरे दिन अतिथि प्राध्यापक के पिता शुक्रवार को महाविद्यालय पहुंचे। प्राचार्य डॉ. संजय वाते ने अतिथि प्राध्यापक के पिता से बेटे के बारे में जानकारी ली, लेकिन संतुष्ट पूर्ण जवाब नहीं मिल पाया, तब प्राचार्य ने उनको ही नोटिस थमा कर सोमवार तक स्पष्टीकरण मांगा है। अगर तय समय तक जवाब नहीं आता है तो आगे की विभागीय कार्रवाई की जाएगी।

    मालूम हो कि 18 अप्रैल को महाविद्यालय में कम्प्यूटर साइंस के छठे सेमेस्टर के प्रोजेक्ट का प्रेजेंटेशन था। विक्रम विश्वविद्यालय से आए परीक्षणकर्ता प्रो. कमल बुनकर ने प्रोजेक्ट की जांच की। तो पता चला कि सब विद्यार्थियों के एक जैसे प्रोजेक्ट है। तब उन्होंने प्रोजेक्ट परीक्षा को निरस्त कर दिया। निरस्त होने पर महाविद्याल में विद्यार्थियों व अभाविप के पदाधिकारियों ने हंगामा किया। बाद में विद्यार्थियों ने अतिथि प्राध्यापक पालीवाल द्वारा प्रत्येक विद्यार्थियों से 1800-1800 रुपए लेकर प्रोजेक्ट बनाने की बात की शिकायत प्राचार्य डॉ. संजय वाते को की। इसके बाद प्राचार्य द्वारा अतिथि प्राध्यापक के बताए गए पते पर नोटिस भी भेजा गया। इसके अलावा विद्यार्थी भी घर पहुंच गए। लेकिन वह नहीं मिले। शुक्रवार को उनके पिता महाविद्यालय पहुंचे। जिन्हे नोटिस दिया गया। प्राचार्य डॉ. संजय वाते ने बताया कि पिता को नोटिस दिया है। तीन दिन में जवाब मांगा है। जवाब नहीं मिलने पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

    और जानें :  # railway # lhb # train
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें