Naidunia
    Thursday, December 14, 2017
    PreviousNext

    40 हजार किसानों को निःशुल्क मिलेंगी खसरा, बी-वन की नकल

    Published: Mon, 14 Aug 2017 04:07 AM (IST) | Updated: Mon, 14 Aug 2017 04:07 AM (IST)
    By: Editorial Team

    पेज 14 की लीड ..

    प्रति नकल किसानों को भुगतना पड़ते थे 30 रुपए

    बीना। नवदुनिया न्यूज

    राजस्व खातों को अपडेट करने के साथ-साथ शासन किसानों को अपडेट रिकॉर्ड भी उपलब्ध करा रहा है। इस महीने तहसील क्षेत्र के 40 हजार किसानों को शासन निःशुल्क खसरा, बी-वन की प्रमाणित प्रति उपलब्ध कराएगी। वर्तमान में किसान को प्रति नकल 30 रुपए चुकाने पड़ते हैं। खसरा और बी-वन की प्रति पाने 60 रुपए की रसीद कटती है। इससे अकेले बीना ब्लॉक में किसान के 24 लाख बचेंगे और सरकार पर लगभग दो लाख का बोझ पड़ेगा।

    क्रेडिट कार्ड, व्यक्तिगत लोन, रजिस्ट्री जैसे जरूरी कार्यों के लिए आवश्यक खसरा तथा बी-1 की प्रमाणित प्रति अब शासन हर किसान को उपलब्ध कराएगा। खसरा किसी व्यक्ति की जमीन का राजस्व अभिलेख होता है, जिसमें भूमि स्वामी का नाम, रकबा, खसरा नंबर, भू-राजस्व, सिंचाई का साधन है या नहीं, इसकी जानकारी होती है। इसी तरह बी-वन वह प्रमाण होता है जिसमें एक ग्राम में एक व्यक्ति के नाम कितनी भूमि है उसकी सारी जानकारी उपलब्ध होती है। इन दोनों प्रमाण पत्रों के लिए किसान लगभग रोजाना ही तहसील और पटवारी के चक्कर लगाते हैं। हालांकि शासन ने किसानों को खसरा, बी-1 की प्रमाणित प्रति आसानी से उपलब्ध कराने के इंतजाम भी किए हैं, लेकिन इसके लिए किसान को 30 रुपए प्रति नकल की रसीद कटवाना पड़ती है। उस पर से बाबू का खर्चा व समय अलग से। यदि तहसील क्षेत्र के सभी किसान प्रमाणित खसरा, बी-1 की प्रति चाहें तो उन्हें 60 रुपए की रसीद कटवाना होगी। इससे तहसील के लगभग 40 हजार खातेदारों पर 24 लाख के आसपास राशि का भार पड़ेगा। इस परेशानी से बचने के लिए शासन खसरा, बी-1 की प्रमाणित प्रति खातेदारों को उनके घर पर ही निःशुल्क उपलब्ध करा रही है। तहसीलदार कमलेश अग्रवाल ने बताया कि इस कार्य के लिए शासन से बीना तहसील में 9 हजार व 27 हजार का आवंटन मिला है। यह राशि केवल स्टेशनरी और प्रिंटिंग पर आने वाले व्यय को देखते हुए उपलब्ध कराई गई है। सामान्यतः शासन को इस कार्य के लिए सवा लाख से अधिक का भार पड़ेगा।

    16 को तीन गांवों में निःशुल्क वितरण

    शासन की योजना के तहत 16 अगस्त को निःशुल्क खसरा, बी-1 की प्रमाणित प्रति तीन गांवों में उपलब्ध कराई जाएगी। कार्यक्रम का शुभारंभ विधायक महेश राय द्वारा किया जाएगा। तहसीलदार ने बताया कि ग्राम पड़रिया, गोदना व किर्रावदा में यह कॉपी बांटी जाएंगी। उसके बाद से सभी 65 हल्कों में 21 पटवारी इस कार्य को करेंगे।

    ऑनलाइन भी पा सकते हैं निःशुल्क रिकॉर्ड

    शासन ने अपडेटेड जानकारी पाने की ऑनलाइन व्यवस्था भी की है। इसके लिए हितग्राही को वेबसाइट डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डॉट लेंडरिकॉर्डस डॉट एमपी डॉट जीओवी डॉट इन पर जाकर सामने आ रहे नक्शे में संबंधित जिले पर क्लिक करके तहसील चुनी जा सकती है। उसके बाद राजस्व निगम मंडल को चुनने पर हल्का, ग्राम, वर्ष तथा विकल्प का ऑप्शन आएगा। यह सभी अपनी आवश्यकतानुसार चयनित कर जानकारी आसानी से ली जा सकती है।

    1308 एसए 146 बीना। राजस्व रिकॉर्ड के लिए शासन द्वारा वेबसाइट पर जानकारी उपलब्ध कराई गई है।

    और जानें :  # sagar news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें