Naidunia
    Thursday, October 19, 2017
    PreviousNext

    अनुभव प्रमाण पत्र पाने के लिए भटक रहे अतिथि शिक्षक

    Published: Mon, 14 Aug 2017 04:08 AM (IST) | Updated: Mon, 14 Aug 2017 04:08 AM (IST)
    By: Editorial Team

    अनुभव प्रमाण पत्र पाने के लिए भटक रहे अतिथि शिक्षक

    - अतिथि शिक्षक भर्ती का मामला, संकुल प्राचार्य

    सागर। नवदुनिया न्यूज

    सालों तक अतिथि शिक्षक के रूप में कार्य करने वाले अतिथि शिक्षक अनुभव प्रमाणपत्र के लिए संकुल प्राचार्यों के यहां चक्कर काट रहे हैं। अतिथि शिक्षकों का कहना है कि अतिथि शिक्षक पद के लिए ऑनलाइन आवेदन जमा करने के लिए 15 अगस्त अंतिम तारीख निर्धारित की गई है। ऑन लाइन आवेदन में अनुभव प्रमाण पत्र आवेदन भी संलग्न करने हैं। तभी अतिथि शिक्षकों को अनुभव के अंक दिए जाएंगे, लेकिन यहां मुश्किल यह हो गई है कि वे अनुभव प्रमाण पत्र के लिए संकुल प्राचार्यों के यहां जा जाते हैं, लेकिन संकुल प्राचार्य, डीईओ के यहां से अनुभव प्रमाण देने के संबंध में किसी भी तरह के निर्देश या आदेश न मिलने की वजह से इसे देने में अक्षमता बताते हैं। वहीं दूसरी ओर अतिथि शिक्षकों का तर्क है, 15 अगस्त आवेदन जमा करने की अंतिम तिथि है। यदि अनुभव प्रमाणपत्र संलग्न नहीं हुए तो उन्हें बहुत ही घाटा होगा। संघ के जैसीनगर ब्लॉक अध्यक्ष धनीराम प्रजापति का कहना है कि यह अतिथि शिक्षकों के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। अतिथि शिक्षक दस साल से शिक्षा विभाग की रीढ़ बने हुए हैं। वे पूरी तरह से पटरी से उतर चुकी शिक्षा विभाग को संभाले हुए हैं, लेकिन इसका उन्हें यह सिला दिया जा रहा है कि स्कूलों में अपने दिए गए समय का अनुभव सार्टीफिकेट भी उन्हें नहीं दिया जा रहा है।

    अतिथि शिक्षकों का कहना है कि यदि ऑन लाइन भर्ती प्रक्रिया के दौरान अनुभव प्रमाण पत्र न मिलने की वजह से इसे संलग्न करने से वंचित रहते हैं, तो इसकी जवाबदारी जिला शिक्षा अधिकारी की होगी। अतिथि शिक्षक संघ के मीडिया प्रभारी गनेश प्रसाद कुर्मी का कहना है कि यदि 15 अगस्त तक अतिथि शिक्षकों को अनुभव प्रमाणपत्र नहीं दिए जाते तो सभी अतिथि शिक्षक 17 अगस्त से सागर में कलेक्टर परिसर में धरना प्रदर्शन कर अपना विरोध जताएंगे। अतिथि शिक्षक संघ के अध्यक्ष गौरीशंकर पांडेय का कहना है कि शिक्षा विभाग हमेशा से अतिथि शिक्षकों का शोषण करता आ रहा है। जबकि अतिथि शिक्षक सालों से शिक्षण व्यवस्था में अपना अहम योगदान दे रहे हैं। धनीराम प्रजापति का कहना है कि वे अपने संकुल केंद्र बरोदा गए थे, जहां प्राचार्य का कहना था कि उन्हें अभी तक अनुभव प्रमाणपत्र जारी करने के संबंध में किसी भी तरह का आदेश डीईओ कार्यालय से प्राप्त नहीं हुआ है।

    वेरीफाई कॉपी देना है ..

    संकुल प्राचार्यों को अनुभव प्रमाणपत्र नहीं बल्कि यह वेरीफाई करके देना है कि अतिथि शिक्षक ने उनके कार्य क्षेत्र में सेवाएं दी हैं। सभी संकुलों में यह कार्य किया जा रहा है। अतिथि शिक्षकों भी वेरीफाई कॉपी ले रहे हैं। यदि कहीं से वेरीफाई कॉपी नहीं दिए जाने की शिकायत आती है तो संबंधित पर कार्रवाई की जाएगी। यह वेरीफाई कॉपी ऑन लाइन भर्ती प्रक्रिया में अटैच करना है।

    संतोष शर्मा, डीईओ, सागर

    और जानें :  # sagar news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें