Naidunia
    Wednesday, October 18, 2017
    PreviousNext

    कक्षा प्रतिनिधि के लिए प्रत्यक्ष प्रणाली से होंगे चुनाव, अध्यक्ष-उपाध्यक्ष के लिये सीधे नहीं कर सकेंगे वोटिंग

    Published: Sat, 14 Oct 2017 04:15 AM (IST) | Updated: Sat, 14 Oct 2017 04:15 AM (IST)
    By: Editorial Team

    फ्लैग - छात्रसंघ चुनाव- 23 अक्टूबर को जारी होगी अधिसूचना, 30 को होगा मतदान, छात्राओं को 50 फीसदी आरक्षण

    30 को सुबह से वोटिंग के बाद दोपहर तक जारी होंगे सीआर के परिणाम, इसके बाद अध्यक्ष-उपाध्यक्ष पद के लिए होगी वोटिंग।

    28 अक्टूबर को भरे जाएंगे नामांकन, 29 की शाम को बंद हो जाएगा प्रचार-प्रसार।

    चुनाव प्रचार में अधिकतम पांच हजार रुपए खर्च कर सकेंगे प्रत्याशी।

    सागर। नवदुनिया प्रतिनिधि

    विश्वविद्यालय व कॉलेजों में छात्रसंघ चुनाव के लिए उच्च शिक्षा विभाग ने निर्देश जारी कर दिए हैं। कॉलेजों में 30 अक्टूबर को छात्रसंघ चुनाव होंगे। 23 अक्टूबर को चुनाव से संबंधित अधिसूचना जारी की जाएगी। उच्च शिक्षा विभाग ने छात्रसंघ चुनाव में कुल पदों में से 50 फीसदी पदों पर छात्राओं को आरक्षण दिया है। नवदुनिया ने पहले ही 10 अक्टूबर के अंक में छात्राओं को 50 फीसदी आरक्षण देने की खबर प्रकाशित की थीं। गर्ल्स कॉलेजों में यह आरक्षण लागू नहीं रहेगा। प्रत्याशी चुनाव प्रचार में 5 हजार रुपए से अधिक खर्च नहीं कर सकेंगे। चुनाव प्रचार 29 अक्टूबर को शाम 5 बजे बंद हो जाएगा।

    अध्यक्ष पद के लिए छात्र सीधे नहीं कर सकेंगे वोटिंग

    छात्रसंघ चुनाव में विद्यार्थी सीधे अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सचिव और सह-सचिव पद के लिए वोटिंग नहीं कर सकेंगे। विद्यार्थियों को कक्षा प्रतिनिधि (सीआर) चुनने के लिए सीधे वोटिंग करनी होगी। इसके बाद कक्षा प्रतिनिधि अध्यक्ष, उपाध्यक्ष पद के लिए वोटिंग करेंगे। इसके बाद परिणामों की घोषणा और शपथ ग्रहण समारोह होगा। यह पूरी प्रक्रिया एक दिन में 30 अक्टूबर को ही होगी। 28 अक्टूबर को विद्यार्थी नामांकन जमा करेंगे।

    यह रहेगी चुनाव प्रक्रिया

    - विश्वविद्यालय और महाविद्यालयों में 23 अक्टूबर को अधिसूचना जारी होगी।

    - 24 अक्टूबर को विभागवार, कक्षावार मतदाताओं की सूची तैयार होगी और 25 को सूची का प्रकाशन किया जाएगा।

    - 26 अक्टूबर को मतदाता सूची पर दावे-आपत्तियां लगाई जा सकेंगी और 27 अक्टूबर को संशोधित सूची का प्रकाशन किया जाएगा।

    - 28 अक्टूबर को ही कक्षा प्रतिनिधि के लिए छात्र नामांकन जमा कर सकेंगे इसके बाद नामांकन पत्रों की जांच, नामांकन सूची का प्रथम प्रकाशन, सूची पर दावे-आपत्ति, द्वितीय सूची का प्रकाशन और प्रत्याशियों द्वारा नाम वापस लिए जा सकेंगे।

    - 29 अक्टूबर को दिन भर चुनाव प्रचार-प्रसार होगा। इसके बाद 30 अक्टूबर को पहले कक्षा प्रतिनिधि के लिए और फिर शाम को अध्यक्ष-उपाध्यक्ष पद के लिए वोटिंग होगी।

    ....................................................

    चुनावों में पारदर्शिता नहीं आएगी

    आम आदमी पार्टी की छात्र इकाई 'छात्र युवा संघर्ष समिति' सीवायएसएस सभी पदों के लिए चुनाव ल़ड़ेगी। छात्र अध्यक्ष-उपाध्यक्ष पद के लिए सीधे वोटिंग नहीं कर सकेंगे। इससे चुनाव में पारदर्शिता नहीं आएगी। प्राचार्य और संस्था के निदेशक चुनावी प्रक्रिया को प्रभावित करेंगे। सीवायएसएस प्रत्यक्ष प्रणाली से चुनाव कराने की मांग करती है।

    शुभम्‌ गुप्ता, जिला प्रमुख सीवायएसएस

    .............................................................

    चुनाव का किया बहिष्कार

    युवा सेना और विद्यार्थी सेना किसी भी पद के लिए अपने प्रत्याशी नहीं उतारेगी। हम प्रत्यक्ष प्रणाली से चुनाव कराने की मांग कर रहे हैं। लेकिन विद्यार्थी अध्यक्ष-उपाध्यक्ष पद के लिए सीधी वोटिंग नहीं कर सकेंगे। इस वजह से युवा सेना और विद्यार्थी सेना छात्रसंघ चुनाव का पूरी तरह बहिष्कार करती है और सरकार से मांग करती है कि प्रत्यक्ष प्रणाली से सभी पदों के लिए चुनाव कराए जाए।

    दीपक ठाकुर, युवा सेना जिला संगठन प्रमुख

    ...................................................

    एबीवीपी पूरी तरह नहीं संतुष्ट

    छात्रसंघ चुनाव को लेकर एबीवीपी सरकार के इस निर्णय से पूरी तरह संतुष्ट नहीं है, फिर भी हम चुनाव में जाएंगे और सभी पदों पर पूरी ताकत के साथ लड़ेंगे। एबीवीपी पहले से ही सभी पदों पर प्रत्यक्ष प्रणाली से चुनाव कराने की मांग करती रही है। अध्यक्ष-उपाध्यक्ष के लिए अप्रत्यक्ष प्रणाली से होने वाले चुनावों से पारदर्शिता का संकट आएगा।

    मृदुल मिश्रा, विभागीय संगठन मंत्री, एबीवीपी

    ................................................

    प्रत्यक्ष प्रणाली से चाहते हैं चुनाव

    एनएसयूआई सरकार के निर्णय के खिलाफ है। हम भी प्रत्यक्ष प्रणाली से चुनाव चाहते हैं और लम्बे समय से इसकी मांग भी कर रहे हैं, लेकिन चुनाव के लिए हम पूरी तरह तैयार हैं। सभी सीटों पर प्रत्याशी उतारे जाएंगे। सरकार ने जो वादे युवाओं से किये थे वह पूरे नहीं किये हैं। इस वजह से युवा सरकार के खिलाफ है और एनएसयूआई के साथ है।

    अक्षय दुबे, प्रदेश सचिव एनएसयूआई

    ............................................

    सांकेतिक फोटो 1310 एसए 25 -

    और जानें :  # sagar news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें