Naidunia
    Saturday, November 25, 2017
    PreviousNext

    डूब क्षेत्र में पुल बनाने का काम दो साल से अटका

    Published: Wed, 15 Nov 2017 06:59 PM (IST) | Updated: Wed, 15 Nov 2017 06:59 PM (IST)
    By: Editorial Team

    पेज 13 पर...

    - दो विभागों में को-आर्डीनेशन की कमी

    सागर। नवदुनिया प्रतिनिधि

    जल संसाधन विभाग और एनएचएआई के इंजीनियरों में समन्वय का आभाव होने से सागर-भोपाल रोड पर राहतगढ़ क्षेत्र में बीना संयुक्त सिंचाई परियोजना क्षेत्र के डूब क्षेत्र में बन रहे पुुल का काम दो साल से अटका है। इसमें शासन को करीब एक करोड़ रुपए का नुकसान हुआ।

    पुल का निर्माण चौकी गांव के पास से नदी पर किया जा रहा है। पुराने पुल सकरा और 50 साल पुराना होने से विभाग ने इसे कंडम घोषित कर दिया। मरम्मत कराकर पुुल से आवागमन किया जा रहा है। इस पुल के बाजू से नया पुल बनाने का प्रस्ताव है। तीन स्पान तैयार हो गए। इसके बाद इंजीनियरों को काम रोकना पड़ा। जल संसाधन विभाग के इंजीनियरों का कहना है एनएचएआई जिस स्थान पर पुल का निर्माण करा रहा है वह बीना संयुुक्त सिंचाई परियोजना के तहत चौकी गांव के पास प्रस्तावित डैम के डूब क्षेत्र में आ रहा है।

    एनएचएआई के इंजीनियरों ने जल संसाधन विभाग के इंजीनियरों से संपर्क किए बिना पुल की ड्रांइग-डिजाइन तैयार कर विभाग से मंजूर करा ली। टेंडर होने के बाद ठेकेदार ने काम शुरू कर दिया था। ठेकेदार ने स्टील के दो स्पान तैयार कर दिए, तीसरा स्पान अधूरा छोड़ दिया। डैम का डूब क्षेत्र 5 किलोमीटर एरिया में प्रस्तावित है पुल और रोड डूब क्षेत्र में आएगी। इसलिए बेरखेरी गांव से लाल बाग तक नई सड़क बनाई जाना प्रस्तावित है। पुल बनाने का टेंडर वर्ष 2015-16 में 10 करोड़ रुपए का हुआ था। ठेकेदार ने एक करोड़ रुपए खर्च कर दिए। बाद में जल संसाधन विभाग के हस्तक्षेप से पुल का काम रोकना पड़ा।

    और जानें :  # sagar news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें