Naidunia
    Saturday, November 25, 2017
    PreviousNext

    देशभर में अलग जगाने देवभूमि से निकला बुजुर्ग, अब तक 3000 किमी की यात्रा कर चुके हैं

    Published: Wed, 15 Nov 2017 12:32 PM (IST) | Updated: Wed, 15 Nov 2017 01:01 PM (IST)
    By: Editorial Team
    cycle 15 11 2017

    सागर। पर्यावरण संरक्षण का संदेश देने के लिए उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में नैनीताल जिले के छडायल सुयाल हल्दवानी की खूबसूरत वादियों से निकलकर 57 वर्षीय भूपेंद्र सिंह सारे देश को जागरूक करने निकले हैं। खास

    बात यह है कि वे साइकल से देश भ्रमण कर रहे हैं। जिद और जुनून का आलम यह है कि भूपेंद्र ढलती उम्र में भी रोजाना 70 से 80 किलोमीटर साइकल चला कर एक शहर से दूसरे शहर की दूरी नाप रहे हैं। चौक-चौराहों ओर रास्ते में मिलने वाले लोगों को वे पेड़ और पानी बचाने का संदेश देते हैं। वे अभी तक 3000 किलोमीटर की यात्रा कर चुके हैं।

    उत्तराखंड मूल के भूपेंद्र सिंह मेहरा उम्र के 57 बसंत पार कर चुके हैं, लोग जब रिटायरमेंट की सोचते हैं उस उम्र में उन पर पर्यावरण संरक्षण की अलख जगाने का जुनून हावी है। भूपेंद्र अपनी साइकल से देहरादूर से सागर की दूरी नाम चुके हैं। उन्होंने 16 अक्टूबर को देहरादून से साइकल से यात्रा प्रारंभ की थी। घर-परिवार को छोड़ वे पर्यावरण संरक्षण, नदियों के आस्तित्व को बचाने, स्वच्छता का संदेश देने देश भ्रमण पर निकल पड़े। सोमवार शाम को भूपेंद्र साइकल से सागर पहुंचे। जिला प्रशासन के अधिकारियों से मुलाकात कर उद्देश्य बताया। प्रशासन ने उनके ठहरने के लिए 2 नंबर गेस्ट हाउस में व्यवस्था भी कर दी है।

    पूर्व में कटु अनुभव भी रहे हैं, लेकिन निराश नहीं हुए भूपेंद्र मेहरा बताते हैं कि वे जिस भी शहर में जाते हैं लोग पहले तो उनकी वेशभूषा देखकर अचरज करते हैं। साइकल के आगे पर्यावरण संरक्षण का संदेश देती तख्ती देखकर लोग खुद ही उनसे चर्चा करने के लिए पास आ जाते हैं। यात्रा के दौरान कुछ कटू अनुभव भी पूर्व में उनके रहे हैं। वे अब केवल दिन के उजाले में ही यात्रा करते हैं। जिस भी शहर में जाते हैं प्रशासन को पहले आमद दर्ज करा देते हैं। मेहरा बताते हैं कि उनके मित्र और परिवार के लोग उनकी आर्थिक मदद करते रहते हैं। मोबाइल में

    बैलेंस और अकाउंट में समय समय पर पैसे भेजते रहते हैं।

    यूपी के 14 जिले घूमकर आए हैं

    भूपेंद्र सिंह बताते हैं कि देहरादून से निकलकर यूपी, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र होते हुए वे कर्नाटक जाएंगे। आगे का

    रूट उसके बाद तय करेंगे। फिलहाल वे उत्तराखंड के विभिन्न जिलों से होते हुए उत्तरप्रदेश गए थे। यहां के 14 जिलों में वे पर्यावरण संरक्षण का संदेश दे चुके हैं। झांसी से टीकमगढ़ होते हुए वे सागर आए हैं। सागर से

    बुधवार सुबह वे जबलपुर के लिए साइकल से निकलेंगे। अभी तक वे करीब 3000 किलोमीटर की यात्रा कर चुके हैं। जीवन में वे पहले भी जागरूकता संदेश को लेकर यात्राएं कर चुके हैं। यह उनकी छठवीं यात्रा है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें