Naidunia
    Saturday, November 25, 2017
    PreviousNext

    पशु औषधालय से न बरसीम का बीज मिल रहा, न पशु बीमा की जानकारी

    Published: Wed, 15 Nov 2017 06:26 PM (IST) | Updated: Wed, 15 Nov 2017 06:26 PM (IST)
    By: Editorial Team

    - तीन साल से कम्पाउंडर के भरोसे चल रहा औषधालय, बाहर से लाना पड़ती हैं दवाइयां

    पटनाबुजुर्ग। नवदुनिया न्यूज

    पटनाबुजुर्ग सहित आसपास के दर्जनों गांव के ग्रामीणों की सुविधा के लिए गांव में पशु औषधालय खोला गया है, लेकिन तीन साल से यह औषधालय एक कम्पाउंडर के भरोसे चल रहा है। कर्मचारियों की कमी होने से क्षेत्रवासी पशुओं का उपचार कराने के लिए परेशान हैं। लोगों के मुताबिक पशु औषधालय में सालों से डॉक्टर का पद खाली है। एबीएफओ यहां कभी-कभार ही यहां आते हैं। ऐसे में पशुपालक बहुत परेशान है। ग्रामीणों के मुताबिक पशु औषधालय के कर्मचारियों की बेफिकरी का अंदाजा इसी से लगा सकते हैं कि बाउंड्रीवाल न होने की वजह से औषधालय परिसर में अतिक्रमण हो रहा है, लेकिन इसकी सुध लेने वाला भी कोई नहीं है। गांववलों के मुताबिक औषधालय में केवल एक कम्पाउंडर है। लोग यहां पशुओं के लेकर आते भी हैं तो उनका उपचार भी कर दिया जाता है, लेकिन दवाइयां अस्पताल से नहीं दी जातीं। इन्हें बाजार से ही महंगे दामों पर खरीदना पड़ता है।

    तीन साल से नहीं मिल रहा बरसीम का बीज

    ग्रामीणों के मुताबिक पशुपालकों व किसानों को पशु चिकित्सा विभाग द्वारा बरसीम का बीज दिया जाता था। बरसीम का बीज बोकर किसान अपने किसानों को सालभर चारे का इंतजाम कर लेते थे, लेकिन गत तीन साल से पशु औषधालय से इसका वितरण ही बंद हो गया है। किसान बरसीम के लिए औषधालय के चक्कर काटते हैं, लेकिन आवंटन न आने की बात का हवाला देकर लौटा दिया जाता है। लोगों के मुताबिक पशु बीमा के संबंध में भी अस्पताल से उचित व सही जानकारी नहीं दी जाती, जिससे सभी परेशान हैं। उन्होंने पशु औषधालय में कर्मचारियों की कमी व सुविधाओं के विस्तार किए जाने की मांग की है।

    और जानें :  # sagarnews
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें