Naidunia
    Thursday, October 19, 2017
    PreviousNext

    प्राइमरी व मिडिल स्कूल में शिक्षक सुनाएंगे दादा और नानी की कहानी

    Published: Mon, 14 Aug 2017 04:06 AM (IST) | Updated: Mon, 14 Aug 2017 04:06 AM (IST)
    By: Editorial Team

    - 16 अगस्त को जनशिक्षा केंद्र पर होगा कार्यक्रम।

    सीहोर। जिले भर में में प्राइमरी और मिडिल स्कूलों में कहानी उत्सव का कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस दौरान शिक्षक और बधाों दादा-नानी की कहानी सुनाई। यहां से चयनित बधों व शिक्षक अब जनशिक्षा केंद्र पर कहानी सुनाएंगे। इसके बाद ब्लाक स्तर पर कार्यक्रम आयोजित होगा। तीन अगस्त से शुरू कहानी उत्सव कार्यक्रम जिलेभर के सभी स्कूलों में कार्यक्रम आयोजित किया गया। यहां से चयनित बधो व शिक्षक अब 16 अगस्त को होने वाले जन शिक्षा केंद्र पर कहानी उत्सव में कहानी सुनाएंगे। कार्यक्रम के दौरान शिक्षकों को कोई भी शिक्षाप्रद कहानी सुनाना होगी। इसके साथ ही बधों भी अपने दादा-दादी, नाना-नानी की कहानी सुना सकते हैं। साथ ही किताब से अगर कोई कहानी अच्छी है तो उसे प्राथमिकता दी जाएगी। इस संबंध में अधिकारियों का कहना है कि उक्त कार्यक्रम के माध्यम से शिक्षा में बदलाव व बधाों की शिक्षा के प्रति रुचि बढ़ाने के लिए कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। ताकि बधो खेल और उत्सव के माध्यम से शिक्षा अर्जित कर सकें। विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों का मानना है कि इस तरह के कार्यक्रम के माध्यम से बधाों का शिक्षा के प्रति रुझान व उनकी दक्षता के प्रयास किए जा रहे हैं। डीपीसी एलएन प्रजापति ने बताया कि जन शिक्षा केंद्र स्तर पर कहानी उत्सव 16 अगस्त को आयोजित किया जाएगा।

    भारतीय संस्कृति से रूबरू होंगे बधो

    कहानी उत्सव कार्यक्रम का उद्देश्य सिर्फ यही है कि बधो भारतीय संस्कृति से रूबरू हो सके। कहानी के जरिए बधाों को पता संस्कृति के बारे में तो जानकारी मिलेगी ही साथ ही महापुरुषों की वीरगाथाएं भी सुनने मिलेंगी। बधाों में पढ़ाई के प्रति रुचि जगाने के लिए इस कार्यक्रम का आयोजन भी खास मकसद है। कहानी सुनते-सुनते पढ़ाई करने से बधाों में पढ़ाई के प्रति रुचि जाग्रत होगी।

    0000000000

    जन्माष्टमी को लेकर सजे बाजार

    - वेशभूषा, झूले, श्रृंगार सामग्री की दुकानों लगी भीड़

    फोटो 139 सीहोर। दुकानों पर सजे झूले खरीदती बालिका।

    सीहोर। शहर में जन्माष्टमी को लेकर बाजार सज गए हैं। बाजार में कृष्ण जी की तैयार पोशाक व श्रृंगार की सामग्री मिल रही है। दुकानों पर लोगों की भीड़ लगी हुई है। श्रृद्घालु दुकानों से सजे-धजे झूले, बांसूरी आदि सामान ले रहे हैं। वहीं जन्माष्टमी पर निकलने वाले चल समारोह की तैयारियां भी जोरों पर हैं। मंदिरों में मटकी फोड़ प्रतियोगिता व अन्य आयोजन आयोजित किए जाएंगे।

    और जानें :  # Sehore News
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें