Naidunia
    Wednesday, October 18, 2017
    PreviousNext

    लोगों को मुफ्त नल कनेक्शन देने नपाध्यक्ष ने रखी मांग

    Published: Sat, 14 Oct 2017 04:12 AM (IST) | Updated: Sat, 14 Oct 2017 04:12 AM (IST)
    By: Editorial Team

    सीवेज व अमृत योजना के कार्यों का केंद्रीय दल ने किया निरीक्षण

    फोटो 135 सीहोर। केंद्रीय निरीक्षण दल ने चल रहे कार्यों का निरीक्षण किया।

    सीहोर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दिसंबर माह के संभावित सीहोर आगमन व अमृत परियोजना के तहत किए जा रहे कार्यों के लोकार्पण को देखते हुए केंद्र से आए केंद्रीय निरीक्षण दल ने शुक्रवार को शहर में चल रहे सीवेज व जल प्रदायी अमृत योजना के कार्यों का निरीक्षण किया। नगर के प्रत्येक गली मोहल्ले में जाकर चल रहे निर्माण कार्यों का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान केंद्रीय विकास मंत्रायल सचिव दुर्गाप्रसाद मिश्रा, मप्र इंजीनियरिंग इन चीफ श्री कटारे व उनका पूरा निरीक्षण दल शहर के सभी क्षेत्रों में कलेक्टर तरुण कुमार पिथोड़े, नपाध्यक्ष अमीता अरोरा, सांसद प्रतिनिधि जसपाल सिंह अरोरा, सीएमओ सुधीर कुमार सिंह व पार्षदगणों के साथ पूरे नगर में चल रहे कार्यों का निरीक्षण किया। ज्ञात हो कि दिसंबर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सीहोर आना संभावित है। इसे देखते हुए दोनों परियोजनाओं पर केंद्रीय दल के निर्देश पर रात दिन कार्य किया जा रहा है ताकि सीवेज व अमृत योजना का कार्य समय पर पूर्ण हों। केंद्रीय दल के सभी अफसरों ने सीवेज कार्य व अमृत योजना के माध्यम से डाले जाने वाले पाइप देखे। नपाध्यक्ष अमीता अरोरा ने केंद्रीय निरीक्षण दल को बताया कि नगर कमजोर आर्थिक स्थिति के चलते नागरिक दोनों योजनाओं कनेक्शन शुल्क जमा करने में असमर्थ हैं। अभी इस योजना के माध्यम से नगर में सीवेज व जल प्रदाय अमृत योजना के लगभग 18 हजार कनेक्शन प्रदान किए जा रहे हैं। नपाध्यक्ष की मांग पर निरीक्षण करने आए शहरी विकास मंत्रालय के अफसरों ने कहा कि अभी वर्तमान समय में जो भी कनेक्शन प्रदाय किए जा रहे हैं, उनका शुल्क नहीं लिया जाएगा। दोनों परियोजना के पूर्ण होने पर ही नागरिकों को न्यूनतम कनेक्शन शुल्क तय किया जाएगा।

    00000000

    युवतियों को दिया जा रहा पुलिस भर्ती का प्रशिक्षण

    सीहोर। महिलाओं को प्रदेश की आंतरिक सुरक्षा का प्रहरी बनाने के लिए महिलाओं- युवतियों को पुलिस विभाग में 33 प्रतिशत स्थान आरक्षित किया गया है। ताकि समाज में महिलाओं-बालिकाओं के प्रति सुरक्षा का भावनात्मक माहौल तैयार किया जा सके। इसी कड़ी में मप्र शासन और महिला बाल विकास विभाग द्वारा बालिकाओं और युवतियों को पुलिस विभाग में भर्ती के लिए प्रशिक्षण जिला महिला सशक्तिकरण के माध्यम से शासकीय उत्कृष्ठ उमा विद्यालय क्रमांक एक में दिया जा रहा है।

    और जानें :  # Sehore News
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें