Naidunia
    Sunday, August 20, 2017
    PreviousNext

    संगीतमय श्रीमद् भागवत कथा आज

    Published: Sat, 12 Aug 2017 04:07 AM (IST) | Updated: Sat, 12 Aug 2017 04:07 AM (IST)
    By: Editorial Team

    आष्टा। समीपस्थ ग्राम रूपाहेड़ा में श्रीकृष्णा जन्माष्टमी और दिवंगत श्रीहरिहरदास महाराज की स्मृति में सवा लाख पार्थिव शिवलिंग का निर्माण, रूद्राभिषेक एवं संगीतमय श्रीमद् भागवत महापुराण हरिद्वार के सत्यानंदजी महाराज के पावन सानिध्य में शनिवार 12 अगस्त से प्रारंभ होगी। ग्राम रूपाहेड़ा में 12 से 18 अगस्त तक निर्माणाधीन श्रीराम मंदिर पर प्रदेश और विश्व में शांति के साथ मानव कल्याण की कामना करते हुए स्वामी सत्यानंदजी माहाराज मानसमंथन के पावन सानिध्य में सवा लाख पार्थिव शिवलिंग का निर्माण करने के साथ ही रूद्राभिषेक और संगीतमय श्रीमद् भागवत महापुराण का आयोजन भी किया है। जिसमें अनेक विद्वान संतगण भी शामिल होंगे।

    आज निकलेगी कलश यात्रा

    आयोजन समिति के महेंद्र सिंह ठाकुर ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि 12 अगस्त को ग्राम के प्रमुख मार्गों से कलश यात्रा निकालने के बाद दोपहर 12.3 बजे तक, श्रीमद् भागवत कथा का रसपान सत्यानंदजी महाराज द्वारा कराया जाएगा। रविवार से सवा लाख पार्थिव शिवलिंग का निर्माण भी किया जाएगा। सभी श्रृद्घालुओं से धार्मिक आयोजन में शामिल होने का आग्रह समिति ने किया हैं।

    सोयाबीन फसल पर इल्लियों का प्रकोप

    कीटनाशक दवाइयों का नहीं हो रहा असर

    झमाझम बारिश से भी झड़ सकती हैं इल्लियां

    आष्टा । नवदुनिया न्यूज

    समूचे क्षेत्र में सोयाबीन की फसल ने किसानों को चिंता में डाल दिया है। कहीं फसल में इल्लियां लग गई हैं तो कहीं पर बीज नहीं फूटा है। रासायनिक दवा भी इल्लियों पर असर नहीं कर रही है। इल्ली का प्रकोप कम न होने से किसानों के चेहरे पर चिंता की लकीरें उभर रही हैं। अगर इंद्र देवता की कृपा किसानों पर होकर झमाझम बारिश हो तो इन इल्लियों के प्रकोप से किसान को राहत मिल सकती है।

    एक तरफ जहां अवर्षा होने के कारण किसान बेहद चिंतित है, वहीं दूसरी और सोयाबीन की फसल पर इल्लियों का प्रकोप दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। रिमझिम बारिश के कारण किसानों ने अपने खेतों में रासायनिक खाद्य का छिड़काव पार्याप्त नहीं कर सके। इल्लियों ने हमला बोल दिया। बरसते पानी में अगर दवा का छिड़काव किया जाता है। तो वह पत्तियों पर नहीं टिकता है। मौसम सूखने तथा बारिश की बेरूखी के कारण सोयाबीन की फसल पर इल्लियां तेजी से पनप रही हैं। किसानों ने कहा कि हमने महंगे भाव का बीज खरीदकर बौवनी की और अब फसल प्रभावित हो रही है। कुछ ग्रामों में किसानों की सोयाबीन की फसल शानदार भी बताई जा रही है।

    और जानें :  # sehore news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें