Naidunia
    Friday, November 17, 2017
    PreviousNext

    छात्रों ने चित्रकला के माध्यम से ओजोन परत संरक्षण पर प्रकाश डाला

    Published: Mon, 18 Sep 2017 12:26 AM (IST) | Updated: Mon, 18 Sep 2017 12:26 AM (IST)
    By: Editorial Team

    फोटो 2

    सिवनी। नईदुनिया प्रतिनिधि

    नगर के डीपीसी रोल मॉडल एक्सीलेंस स्कूल में विश्व ओजोन परत संरक्षण दिवस छात्रों की पेंटिग्स एवं ड्राइंस प्रतियोगिता के साथ प्रारंभ हुआ। इस अवसर पर कक्षा 8वीं के छात्र नमन सनोडिया ने बताया कि ओजोन परत की खोज 1913 में फ्रेंच भौतिक शास्त्री चार्ल्स फ्रेब्रे व हेनरी ब्यूसन ने की थी। कक्षा 7वीं के कृष्णा गहलोद ने बताया कि 1984 में ब्रिटिश वैज्ञानिक ब्रायन गार्डिनर व जोनाथन शेन्कलिन ने ओजोन परत पर अंटार्कटिका में छेद होने की जानकारी से समूचे विश्व को अवगत कराया।

    स्किन कैंसर को गंभीरता से लें

    अर्जुनसिंह पायक ने इस अवसर पर बताया कि ओजोन परत मूलतः स्ट्रेट्रोस्फेयर में है जो 20 से 30 किमी के दायरे में विस्तृत रूप से फैली है तथा जिसकी मोटाई 12 से 19 उप है। अराध्य चतुर्वेदी ने ओजोन परत के लिए क्लोरो फ्लोरो कार्बन को उत्तरदायी बताया तथा ओजोन चक्र को विस्तार से समझाया। अथर्व चतुर्वेदी ने यूवी रेडिएशन की तीनों प्रकार से विस्तार से समझाते हुए ओजोन परत की क्षति से होने वाले स्किन कैंसर को गंभीरता से लेने की सलाह दी। इस अवसर पर शिवा गहलोद ने पौधरोपण व जल संरक्षण की बात कही।

    अगरबत्ती के बदले दिया-बत्ती का प्रयोग का संकल्प

    संस्था के छात्र छात्राओं ने रेफ्रिजरेटर, फ्रीज, परफ्यूम, डाई पावडर, एसी, माइक्रोवेव ओवन, हीटर, पेट्रोल, डीजल, गीजर, प्लास्टिक, कैरोसीन, प्लास्टिक एवं पॉलीथीन को त्याग करने का संकल्प लिया। क्योंकि इनमें सीएफसी होता है। साथ ही छात्रों ने प्लास्टिक पॉलीथीन, परफ्यूम, पाउडर, लिपिस्टक का प्रयोग, माइक्रोवेव ओवन, सेविंग क्रीम को बंद करने व ठंड में फ्रीज बंद रखने की प्रतिज्ञा ली। छात्रों ने सेंटेड अगरबत्ती का प्रयोग के बदले दिया-बत्ती का प्रयोग करने का संकल्प लिया। छात्रों ने चित्रकला द्वारा ओजोन परत संरक्षण पर प्रकाश डाला ।

    और जानें :  # seoni # news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें