Naidunia
    Tuesday, November 21, 2017
    PreviousNext

    हाथ टूटने के बाद भी स्कूल प्रबंधन छात्रा से कराता रहा गतिविधि

    Published: Wed, 15 Nov 2017 01:02 AM (IST) | Updated: Wed, 15 Nov 2017 10:13 AM (IST)
    By: Editorial Team
    school managment 20171115 101357 15 11 2017

    श्योपुर। स्कूल में गतिविधियां करते समय छात्रा का हाथ टूट गया। इसके बावजूद स्कूल प्रबंधन ने छात्रा को अस्पताल भेजने की बात तो दूर उससे स्कूल में संचालित अन्य गतिविधियां कराता रहा। स्कूल में पहुंचे अभिभावकों ने बालिका का अस्पताल ले जाकर जांच कराई तब पता चला कि, बालिका का हाथ फैक्चर हो चुका है।

    केन्द्रीय विद्यालय 7वीं में पढ़ने वाली छात्रा आलीमा पुत्री यूसुफ खान जब सुबह 08 बजे स्कूल पढ़ने गई तो स्कूल प्रबंधन बाल दिवस की तैयारी में लगा था। आलीमा को भी स्कूल प्रबंधन ने व्यवस्थाओं में हाथ बटाने को लगा दिया। इस दौरान आलीमा के गिरने से उसका हाथ टूट गया। जब आलीमा ने गिरने की बात शिक्षकों को बताई तो उन्होंने उसकी बात को अनसुना कर दूसरे काम में लगा दिया।

    इसके बाद प्रार्थना में भी आलीमा को टूटे हाथ के साथ ही खड़ा कर दिया। प्रार्थना के बाद दूसरी गतिविधियों में भी आलीमा को लगा दिया। जब दर्द ने सहनशक्ति छीन ली तो बालिकाओं ने ऑफिस पहुंचकर अपने पिता को फोन लगा दिया। पिता यूसुफ खान ने बालिकाओं को इलाज के लिए अस्पताल ले गए।

    एक्स-रे के बाद डॉक्टरों ने बताया कि, बालिका का गिरने से हाथ टूट गया है। इतनी गंभीर चोट के बाद भी कई घंटे तक स्कूल प्रबंधन ने बालिका को इलाज दिलाने के बजाए उसे दूसरी गतिविधियों में लगाए रखा। इस पर जब पिता ने दोबारा स्कूल पहुंचकर नाराजगी जताई तो स्कूल प्रबंधन ने घटना की जानकारी होने से ही इंकार कर दिया। भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के पूर्व जिलाध्यक्ष की बेटी के साथ स्कूल प्रबंधन द्वारा की गई इस लापरवाही पर बेटी के पिता ने कलेक्टर को भी फोन लगाकर अवगत कराया है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें