Naidunia
    Friday, June 23, 2017
    PreviousNext

    भाव से भजो तो भव से हो जाएगा बेड़ा पार

    Published: Fri, 17 Feb 2017 05:04 PM (IST) | Updated: Fri, 17 Feb 2017 05:04 PM (IST)
    By: Editorial Team

    - श्रीराम जानकी मंदिर पर बाल संत पांच दिन से बहा रहे धर्म की गंगा

    कोलारस। कोलारस के ग्राम उकावल स्थित श्रीराम जानकी मंदिर पर संगीतमय श्रीराम कथा में वाल संत श्याम सुंदर महाराज विगत पांच दिन से धर्म की गंगा बहा रहे हैं। कथा के पांचवें दिन गुरुवार को बाल संत ने रावण, मेघनाथ बध एवं श्रीराम के अयोध्या आगमन की लीला का वर्णन किया। कथा सुनने के लिए दूर-दूर से श्रोता आ रहे हैं। श्रीराम कथा का आयोजन उकावल गांव के सभी ग्रामीणों के सहयोग से किया गया है। बाल संत श्याम सुंदर महाराज ने कहा कि इस धरती पर जब-जब आसुरी शक्तियों का बोलबाला बढ़ता है, तब-तब उनका दमन करने के लिए भगवान श्रीराम का अवतरण होता है। उन्होंने राक्षस राज रावण और उसके बेटे मेघनाथ का भगवान श्रीराम द्वारा बध किए जाने का सचरित्र वर्णन किया। उन्होंने कलियुग में सच्चे सुख की प्राप्ति के लिए भगवान श्रीराम की भक्ति को सर्वोपरि बताते हुए कहा कि कोई तन दुखी, कोई मन दुखी, कोई धन बिक रहे उदास, थोड़े-थोड़े सब दुखी, सुखी राम के दास। उन्होंने जीव की अद्योगति, संत की परिभाषा और सत्संग की महिमा का बखान किया। श्रीराम चरित्र के माध्यम से उन्होंने बताया कि भगवान वस्तु के नहीं अपितु भाव के भूखे हैं, भाव का भूखा हूं, भाव ही एक सार है, भाव से उनको भजो तो भव से बेड़ा पार है। बाल संत महाराज ने बड़े भाग्य मानुष तन पावा, सुर दुर्लभ सब ग्रन्थन गावा। की चौपाई की व्याख्या करते हुए कहा कि मानव शरीर बड़े भाग्य से मिलता है, इसके लिए देवता भी तरसते हैं। जब तक इस धरती पर हैं, भलाई के काम करो, गिरे को उठाओ, दान-पुण्य करो, दूसरों का सहयोग करो, कर्म करते जाओ, फल की इच्छा मत करो, भगवान पर विश्वास रखो और आशावादी बनो तो जीवन सफल हो जाएगा।

    गौशाला निर्माण का लिया संकल्प

    श्रीराम कथा विराम के दौरान रामजानकी मंदिर पर मौजूद श्रद्घालुओं ने श्रीराम जानकी मंदिर को भव्य रूप दिए जाने और एक गौशाला का निर्माण किए जाने का संकल्प वाल संत महाराज ने ग्रामीणों को दिलाया तो बिना देर किए सरपंच गुड्डी वाई-परमालसिंह रघुवंशी इस कार्य में बढ़चढ़कर सहयोग प्रदान करने की बात कही और इसके लिए कथा स्थल से ही कलेक्शन करने का कार्य शुरू कर दिया गया। सरपंच गुड्डी परमाल रघुवंशी ने बताया कि बहुत जल्दी रघुवंशी समाज की एक बैठक कर मंदिर को भव्यता प्रदान करने एवं गौशाला का निर्माण कराए जाने के निर्णय को अंतिम रुप दिया जाएगा।

    9, 10 कैप्शन : कोलारस के उकावल गांव में श्रीराम कथा सुनाते बाल संत एवं श्रद्घालु।

    और जानें :  # shivpuri news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी