Naidunia
    Tuesday, February 21, 2017
    PreviousNext

    खाद्य विभाग के अधिकारियों ने किराना दुकानों पर की जांच

    Published: Sat, 14 Jan 2017 06:13 PM (IST) | Updated: Sat, 14 Jan 2017 06:13 PM (IST)
    By: Editorial Team
    14shivjan9 14 01 2017

    कोलारस। भोपाल से खाद्य महकमे के अफसरों के एक दल ने नगर में चार-पांच किराना दुकानों पर आकस्मिक छापामार कार्रवाई कर जांच पड़ताल की। जांच पड़ताल के दौरान कई तरह की खामियां सामने आईं। सिंघई किराना पर बोतलबंद तेल की जांच की तो बोतल पर कंपनी का नाम, दिनांक एवं एक्सपायरी की तारीख अंकित नहीं पाई गई। इसी तरह से अन्य दुकानों पर भी अनियमितताएं सामने आईं।

    भोपाल से आए खाद्य महकमे के विशलेषक केके सिलावट, जेपी बाथम एवं जेके केवट सहायक सुरक्षा अधिकारी सबसे पहले हाईवे क्षेत्र में स्थित जैन किराना भंडार विजरौनी की दुकान पर पहुंचे, यहां पर उन्होंने खाने में इस्तेमाल होने वाले रंग का सैंपल लिया।

    इसके बाद तीनों अधिकारी सिंघई किराना स्टोर पर पहुंचे यहां पर दुकान में रखी विभिन्न बैराइटियों का बारीकी से जायजा लिया। अफसरों ने यहां से बोतलबंद तेल की शीशी हाथ में लेकर देखी तो उस पर किसी तरह का लेबल चस्पा नहीं था। जबकि नियमानुसार बोतल पर पेकिंग की तारीख से लेकर उस पर एक्सपॉयरी डेट होना अनिवार्य है। खाद्य विशलेषक केके सिलावट ने सिंघई किराना स्टोर पर मौजूद कर्ताधर्ता से से प्रश्न किया कि ग्राहकों को कैसे मालूम चलेगा कि यह शीशी में बंद तेल ताजा है या नहीं? ग्राहक कब तक इसका उपयोग कर सकता है, इसके अवसान की डेट क्या है। इस पर दुकान का कर्ताधर्ता बोला कि साहब गलती हो गई, आगे से ऐसा नहीं होगा और माफ कर दो। कुछ दुकानों पर स्थानीय स्तर पर निर्माण होने वाले मिर्च मशालों के पैकेट्स मिले जिन पर नियमानुसार पेकिंग निर्माण की तारीख नहीं थी। भोपाल से खाद्य महकमे के अधिकारियों की टीम द्वारा छापामार कार्रवाई को अंजाम दिए जाने से घबराए नगर के आधा सैकड़ा परचूनी की दुकानों के शटर गिर गए।

    और जानें :  # shivpuri news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी