Naidunia
    Sunday, November 19, 2017
    PreviousNext

    एसडीएम ने गुगवारा गांव में हुई आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की नियुक्ति पर लगाई रोक

    Published: Sat, 14 Jan 2017 06:34 PM (IST) | Updated: Sat, 14 Jan 2017 06:34 PM (IST)
    By: Editorial Team

    कोलारस। अनुविभाग के अंतर्गत आने वाले दर्जनों गावों में रिक्त पड़े आंगनबाड़ी केन्द्रों में कोलारस महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा कि गई नियुक्तियां जांच के दायरे में आने लगी हैं। कोलारस एसडीएम ने शिकायत आने के बाद जांच के बाद ग्राम गुगवारा में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के पद पर नियुक्त हुई रितु शर्मा की नियुक्ति पर रोक लगा दी है।

    लगातार हो रही थी शिकायतें

    हरगोविंद, नक्टू, चिरोंजी, शिवचरण, गणेश, रामस्वरूप, शतीस, दीवान सिंह, मुकेश, राजू, गीताबाई, कविताबाई, रामसखी, आरती, अनीता, पार्वती, पिस्ताबाई आदि शिकायतकर्ताओं ने 6 दिसंबर 2016 एवं 12 दिसंबर 2016 को कोलारस अनुविभागीय अधिकारी आरके पांडे को शिकायती आवेदन देते हुए बताया था कि महिला एवं बाल विकास विभाग में पदस्थ लिपिक उमाशंकर शर्मा ने अपनी बहु रितु शर्मा का नाम सिंघराई पंचायत में बढ़वाकर उसे रिक्त पड़े आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के पद पर नियुक्त कराना चाहता है, यदि ऐसा हुआ तो इस स्थिति में पंचायत के किसी भी जरूरतमंद को शासन की नौकरी नहीं मिल पाएगी। आदि आशय की शिकायत ग्रामीणों ने की थी। इसके बाद लिपिक उमाशंकर शर्मा ने अपने पद का दुरुपयोग करते हुए अपनी बहू की सिंघराई पंचायत के ग्राम गुगवारा में रिक्त पड़े आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के पद पर नियुक्ति करा ली।

    पुनः हुई शिकायत के बाद रोकी नियुक्ति

    कार्यकर्ताओं की अंतिम सूची जारी होने के बाद ग्रामीणों को पता चला कि सिंघराई पंचायत के ग्राम गुगवारा में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के पद पर महिला एंव बाल विकास विभाग में पदस्थ बाबू उमाशंकर शर्मा ने अपनी बहू की नियुक्ति करा ली है तो हरगोविंद, नक्टू, चिरोंजी, शिवचरण, गणेश, रामस्वरूप, सतीश, दीवान सिंह, मुकेश, राजू, गीताबाई, कविताबाई, रामसखी, आरती, अनीता, पार्वती, पिस्ताबाइ आदि ग्रामीणों ने कलेक्टर, जिला पंचायत सीईओ, मुख्यमंत्री शिकायत निवारण भोपाल व कोलारस एसडीएम को शिकायती आवेदन सौंपकर रितु शर्मा की नियुक्ति फाइल की जांच कराने की मांग की।

    बाबू ने फार्म डालने वाली आवेदिका का रिकॉर्ड कर डाला खुर्द-बुर्द

    आवेदिका कल्पना पत्नी मुकेश नामदेव ने एसडीएम को दिए शिकायती आवेदन में बताया कि उन्होंने 27 अक्टूबर 2016 को महिला एवं बाल विकास विभाग में अपना आवेदन प्रस्तुत किया था। परंतु बाबू उमाशंकर शर्मा ने उन्हें पावती प्रदान नहीं की। नामदेव ने कहा कि वह वर्ष 2009 से आज दिनांक तक सिंघराई पंचायत के ग्राम बीरमखेड़ी में मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के पद पर कार्यरत हूं।

    इनका कहना है

    शिकायत मिली थी इसलिए रोक दी नियुक्ति

    ग्राम गुगवारा में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की नियुक्ति की शिकायतें मिली थी। जांच कराकर नियुक्ति पर रोक लगा दी है। नियुक्ति फाइल की जांच कराएंगे। जांच के दौरान कुछ संदिग्ध पाया गया तो संबधित के खिलाफ वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।

    आरके पांडे, कोलारस एसडीएम

    ----------

    पात्रों को हटाकर आपात्रों की रिश्वत लेकर कर दी गईं नियुक्तियां

    महिला एवं बाल विकास विभाग में पदस्थ अधिकारी व कर्मचारी रिश्वत लिए बगैर कोई काम नहीं करते। वह तो पैसे लेकर पात्रों को हठाकर आपात्रों को नौकरी देने के लिए ढूंढ रहे हैं। हम कलेक्टर से मिलकर कोलारस महिला बाल विकास में हुई सभी नियुक्तियों की जांच कराकर जिम्मेदारों के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई किए जाने की मांग करेंगे।

    रविन्द्र शिवहरे, नगर परिषद अध्यक्ष कोलारस

    और जानें :  # shivpuri news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें